Saturday, July 13, 2024
Homeविविध विषयअन्य‘Spam’ बता हटाई दुर्गा पूजा पर पोस्ट: फेसबुक ने फिर ली ‘Community Standards’ की...

‘Spam’ बता हटाई दुर्गा पूजा पर पोस्ट: फेसबुक ने फिर ली ‘Community Standards’ की आड़

मोनीदीपा ने दुर्गा पूजा के बारे में एक लेख लिखा था। इस लेख में उन्होंने समूचे भारतवर्ष की नवरात्रि और बंगाल के महाषष्ठी से विजय दशमी तक की पूजा के विभिन्न सांस्कृतिक पहलुओं का उल्लेख किया था।

ऐसा लग रहा है कि फ़ेसबुक ने अपने प्लेटफ़ॉर्म से हिन्दू आवाज़ों की पूरी तरह ‘सफ़ाई’ करने का मन बना लिया है। राजनीति तो दूर की चीज़ है, हिन्दुओं की संस्कृति और धर्म-आस्था को अपने प्लेटफ़ॉर्म पर जगह देना फेसबुक को अब खलने लगा है। मंगलवार (1 अक्टूबर) को वेबसाइट की कंटेंट टीम ने प्रख्यात लेखिका मोनीदीपा डे की दुर्गा पूजा से जुड़ी फेसबुक पोस्ट को अपने ‘Community Standards’ का उल्लंघन बता कर हटा दिया। लेकिन यह नहीं समझाया कि दुर्गा पूजा पर पोस्ट ‘स्पैम’ कैसे हो गई। डे ने अपने फेसबुक अकाउंट पर इस घटना के बारे में लिखते हुए नाराज़गी प्रकट की है।

भारतीय रेल की पत्रिका ‘रेल बन्धु’ में यात्रा-वृत्तान्त (travelogue) और विभिन्न प्रकाशनों में भारतीय संस्कृति पर लिखने वालीं डे ने Financial Express के लिए अपने साप्ताहिक कॉलम में दुर्गा पूजा के बारे में एक लेख लिखा था। इस लेख में उन्होंने समूचे भारतवर्ष की नवरात्रि और बंगाल के महाषष्ठी से विजय दशमी तक की पूजा के विभिन्न सांस्कृतिक पहलुओं, जिनमें पंडाल-भ्रमण से लेकर नबपत्रिका, होम, भोग, दुंची नाच, बलि आदि का उल्लेख और संक्षिप्त वर्णन किया था।

यह पूरी तरह गैर-विवादास्पद (आज की भाषा में कहें तो ‘vanilla’) लेख था, जिस में एक भी आपत्तिजनक शब्द ढूँढ़ना असंभव है। इसके बावजूद फेसबुक ने एक ग्रुप में मोनीदीपा दे के इसे शेयर करने पर उसे ‘स्पैम’ बताकर हटा दिया, जबकि मोनीदीपा दे के अनुसार, इस पोस्ट को उस ग्रुप के एक एडमिन ने ग्रुप में शेयर किए जाने की लिए सहमति प्रदान की थी। ऐसे में इसे ‘स्पैम’ बताने का कोई औचित्य ही नहीं बनता है। पहले ही अपनी कंटेंट मॉडरेशन टीम में वामपंथी झुकाव की बात स्वीकार चुके फेसबुक के हिन्दूफोबिया के अलावा किसी भी अन्य दृष्टिकोण से इसकी व्याख्या करना असंभव है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तराखंड में तेज़ी से बढ़ रही मुस्लिमों और ईसाईयों की जनसंख्या: UCC पैनल की रिपोर्ट में खुलासा – पहाड़ों से हो रहा पलायन

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में आबादी घट रही है, तो मैदानी इलाकों में बेहद तेजी से आबादी बढ़ी है। इसमें सबसे बड़ा योगदान दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों ने किया है।

जम्मू कश्मीर के उप-राज्यपाल को अब दिल्ली के LG जितनी शक्तियाँ, ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए भी उनकी अनुमति ज़रूरी: मोदी सरकार के आदेश पर भड़के...

जब से जम्मू कश्मीर का पुनर्गठन हुआ है, तब से वहाँ चुनाव नहीं हो पाए हैं। मगर जब भी सरकार का गठन होगा तब सबसे अधिक शक्तियाँ राज्यपाल के पास होंगी। ये शक्तियाँ ऐसी ही हैं, जैसे दिल्ली के एलजी के पास होती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -