Tuesday, January 18, 2022
Homeविविध विषयअन्यचीन के 47 और ऐप बैन, PUBG समेत 250 ऐप्स पर है सरकार की...

चीन के 47 और ऐप बैन, PUBG समेत 250 ऐप्स पर है सरकार की नजर

जिन 47 चाइनीज़ एप्लीकेशंस पर फिलहाल प्रतिबंध लगाया है, वह पहले से बैन की गई एप्लीकेशंस के क्लोन की तरह काम कर रही थीं। सरकार की तरफ से इन 47 एप्लीकेशंस के बारे में विस्तार से जानकारी नहीं दी गई है।

भारत सरकार ने चीन के 47 और ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है। पिछले महीने भी 59 चीनी ऐप पर बैन लगाया गया था। बताया जा रहा है कि PUBG समेत 250 ज्यादा ऐप्स की केंद्र सरकार समीक्षा भी कर रही है।

इंडिया टुडे के मुताबिक जिन 47 चाइनीज़ एप्लीकेशंस पर फिलहाल प्रतिबंध लगाया है, वह पहले से बैन की गई एप्लीकेशंस के क्लोन की तरह काम कर रही थीं। सरकार की तरफ से इन 47 एप्लीकेशंस के बारे में विस्तार से जानकारी नहीं दी गई है। ख़बरों की मानें तो करीब 250 ऐसी चाइनीज़ एप्लीकेशंस की सूची तैयार कर ली गई है जिन पर आने वाले समय में कार्रवाई हो सकती है। 

सरकार मूल रूप से यह सुनिश्चित करना चाहती है कि इस तरह की एप्लीकेशंस का डोमेन कितना सुरक्षित है। इसके अलावा यह एप्लीकेशंस यूज़र्स की निजी सुरक्षा और राष्ट्रीय सुरक्षा का उल्लंघन तो नहीं करती हैं। सरकार की तरफ से जिन एप्लीकेशंस की सूची तैयार की गई है उसमें चीन की डिजिटल दुनिया के कई बड़े नाम शामिल हैं। पबजी, टेनसेंट, अलीबाबा समेत कई एप्लीकेशन मौजूद हैं। पिछले काफी समय से चीन की कई मशहूर एप्लीकेशंस पर डाटा मॉर्फिंग (जानकारी का गलत इस्तेमाल) का आरोप लगता रहा है। 

इसके पहले इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने चीन की कई एप्लीकेशन पर प्रतिबंध लगाया था। जिसके बाद प्रतिबंधित एप्स गूगल प्ले स्टोर से हटा दिए गए थे। जानकारों के मुताबिक़ प्रतिबंध लगाने के बावजूद इन एप्लीकेशंस के नकली वर्ज़न मौजूद थे और वह अच्छे से काम भी कर रहे थे। अब इन्हें अधिकृत तौर पर लगभग हर जगह से हटा दिया गया है। 

भारत सरकार ने बीते महीने टिकटॉक समेत कुल 59 चीनी ऐप्स को देश में बैन कर दिया गया था। भारत और चीन के बीच गलवान में हुई हिंसक झड़प के बाद भारत सरकार की तरफ से यह कार्रवाई हुई थी। उस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। चीनी ऐप्स पर बैन लगाने के फैसले पर भारत सरकार का कहना था कि सुरक्षा के मद्देनजर ये कदम उठाया गया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अमानतुल्लाह खान यहाँ नमाज पढ़ सकते हैं तो हिंदू हनुमान चालीसा क्यों नहीं?’: इंद्रप्रस्थ किले पर गरमाया विवाद, अंदर मस्जिद बनाने के भी आरोप

अमानतुल्लाह खान की एक वीडियो के विरोध में आज फिरोज शाह कोटला किले के बाहर हिंदूवादी लोगों ने इकट्ठा होकर हनुमान चालीसा का पाठ किया।

जब 5 मिनट तक फ्लाइंग किस देते रहे थे भगवंत मान, बार-बार गिर रहे थे: AAP ने बनाया चेहरा तो बोले लोग – ‘उड़ते...

ट्विटर पर यूजर्स उन्हें 'पेगवंत मान' कहकर संबोधित कर रहे हैं और केजरीवाल के फैसले को गलत ठहरा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,996FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe