Friday, June 21, 2024
Homeविविध विषयअन्यUS ने फिर किया भारत में हस्तक्षेप: शिकायत के बिना अडानी ग्रुप के खिलाफ...

US ने फिर किया भारत में हस्तक्षेप: शिकायत के बिना अडानी ग्रुप के खिलाफ जाँच शुरू, हिंडनबर्ग वाले मामले में हुई थी फजीहत

पूरा मामला एनर्जी प्रोजेक्ट से जुड़ा है जिसे लेकर अमेरिकी अभियोजक अपनी जाँच कर रहे हैं। अडानी ग्रुप का तो कहना है कि उन्हें ऐसी किसी जाँच के बारे में कोई जानकारी नहीं है। एक बिजनेस समूह होने के नाते वह कॉर्पोरेट जगत के उच्चतम मानकों के साथ काम करते हैं।

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट के जरिए अडानी ग्रुप को बदनाम करने की साजिशें नाकाम होने के बाद खबर है कि एक बार फिर अमेरिका में अडानी ग्रुप के खिलाफ जाँच शुरू हुई है। इस बार अमेरिकी अभियोजकों की पड़ताल इस बिंदु पर आधारित है कि कहीं गौतम अडानी की कंपनी रिश्वतखोरी में तो शामिल नहीं है। यह जाँच न्यूयॉर्क के पूर्वी जिले के अमेरिकी अटॉर्नी ऑफिस और वाशिंगटन स्थित जस्टिस डिपार्टमेंट की फ्रॉड यूनिट की निगरानी में की जा रही है।

बता दें कि पूरा मामला एनर्जी प्रोजेक्ट से जुड़ा है। न्यूज एजेंसी ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में अमेरिका एनर्जी प्रोजेक्ट पर फेवरेवल ट्रीटमेंट के लिए अधिकारियों को रिश्वत देने के आरोपों पर गौतम अडानी और उनकी कंपनी के खिलाफ जाँच हो रही है। पता लगाया जा रहा है कि गौतम अडानी या उनकी कंपनी ने एक एनर्जी प्रोजेक्ट पर फेवरेवल ट्रीटमेंट के लिए भारत में अधिकारियों को भुगतान किया या नहीं। इस जाँच के दायरे में एज्योर पावर ग्लोबल लिमिटेड भी शामिल है।

मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि इस संबंध में अडानी ग्रुप से जब पूछा गया तब उन्होंने आरोपों के संबंध में कहा कि उन्हें अपने चेयरमैन के खिलाफ चल रही किसी जाँच की कोई जानकारी नहीं है। अडानी समूह ने यह भी कहा, “एक बिजनेस ग्रुप के तौर पर हम कॉरपोरेट गवर्नेंस के उच्चतम मानकों के साथ काम करते हैं, हम भारत और अन्य देशों में भ्रष्टाचार विरोधी और रिश्वत विरोधी कानूनों के अधीन हैं और उनका पूरी तरह से अनुपालन करते हैं।”

उल्लेखनीय है कि अमेरिकी न्याय विभाग द्वारा न तो गौतम अडानी और न ही उनकी कंपनी, न ही एज़्योर पावर पर औपचारिक रूप से किसी भी गलत काम का आरोप लगाया गया है। लेकिन फिर भी अगर यह जाँच हो रही है तो इसका कारण यही है कि अमेरिकी कानून संघीय अभियोजकों को विदेशी भ्रष्टाचार के आरोप में जाँच आगे बढ़ाने की अनुमति देता है। ऐसा भी तब होता है जब मामले में अमेरिकी निवेशकों या बाजारों से कुछ संबंध शामिल हों।

हिंडनबर्ग के आरोपों पर भी हुआ था हल्ला

गौरतलब है कि ये यह पहली बार नहीं है जब अमेरिका ने अडानी का इस्तेमाल कर भारत में दखल दिया हो। जनवरी 2023 में हिंडनबर्ग ने भारतीय कारोबारी अडानी समूह पर आरोप लगाए थे कि वह अवैध तरीके से अपने शेयर के दाम बढ़ा रहा है और कई जगह पर पर्यावरण नियमों की अनदेखी कर रहा है। अडानी समूह पर इतिहास का सबसे बड़ा गड़बड़झाला करने का आरोप लगाया था। इसके पश्चात भारत में भी विपक्ष ने अडानी समूह पर काफी हल्ला मचाया था।

लेकिन, बाद में अमेरिकी सरकार के इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन ने अपनी जाँच में इन आरोपों को निराधार पाया था। साथ ही मीडिया रिपोर्ट में बताया गया था कि अमेरिकी अधिकारियों का इस मामले में यह भी कहना है कि हिंडनबर्ग के आरोपों का कोई असर अडानी पोर्ट्स में निवेश पर नहीं पड़ेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साल भर में 70% कम हुआ स्विस बैंकों में रखा धन, 2019 से भारत के साथ जानकारी साझा कर रहा है स्विट्जरलैंड: जानिए क्यों...

भारत में ग्राहक जमा खातों और अन्य बैंक शाखाओं के माध्यम से रखी गई धनराशि में भी काफी गिरावट आई है।

सियालकोट से स्वात घूमने गया युवक, इस्लामी भीड़ ने पहले पीटा फिर आग में झोंका: पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोप में एक और हत्या,...

पाकिस्तान में युवक पर ईशनिंदा का आरोप लगाकर इस्लामी कट्टरपंथियों ने उसे पुलिस थाने से निकालकर मार डाला। इस दौरान थाने में भी आग लगा दी गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -