Friday, July 19, 2024
Homeविविध विषयअन्यSunroof वाली गाड़ी लेनी है या नहीं: वीडियो देख करें डिसाइड, झरने का पानी...

Sunroof वाली गाड़ी लेनी है या नहीं: वीडियो देख करें डिसाइड, झरने का पानी SUV के अंदर, इंटरनेट पर बहस चालू

महिंद्रा स्कॉर्पियो के मॉडल स्कॉर्पियो एन (Mahindra Scorpio N) का एक वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में कार के सनरूफ से पानी कार के अंदर गिरता हुआ दिखाई दे रहा है। वीडियो वायरल होने के बाद लोग सनरूफ वाली कार न खरीदने की बात कह रहे हैं।

महिंद्रा स्कॉर्पियो के मॉडल स्कॉर्पियो एन (Mahindra Scorpio N) का एक वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में कार के सनरूफ से पानी कार के अंदर गिरता हुआ दिखाई दे रहा है। वीडियो वायरल होने के बाद लोग सनरूफ वाली कार न खरीदने की बात कह रहे हैं।

दरअसल, यह वीडियो अरुण पवार नामक यूट्यूबर ने रविवार (26 फरवरी 2023) को अपने यूट्यूब अकाउंट पर अपलोड किया था। वीडियो को उन्होंने कैप्शन देते हुए लिखा है, “अब कभी सनरूफ वाली गाड़ी नहीं खरीदूँगा।”

53 सेकंड का यह वायरल वीडियो किसी पहाड़ी इलाके का नजर आ रहा है। इसमें यूट्यूबर अरुण पवार झरने को देखकर अपनी महिंद्रा स्कॉर्पियो एन धोने की बात करते हुए सुने जा सकते हैं।

हालाँकि वह सनरूफ कार को जब झरने के नीचे लेकर जाते हैं तब थोड़ी ही देर बाद झरने का पानी सनरूफ और स्पीकर से होते हुए कार के अंदर गिरता हुआ दिखाई देता है। इसके बाद यूट्यूबर कार को झरने के नीचे से हटा लेते हैं। इस वीडियो को अब तक 5 लाख 60 हजार से अधिक बार देखा जा चुका है। वहीं वीडियो को 44 हजार से अधिक लाइक व 2 हजार से अधिक कमेंट मिल चुके हैं।

अरुण पवार अलग-अलग ब्रांड की कार के वीडियो बनाकर अपलोड करते रहते हैं। यूट्यूब पर उनके 16 लाख से अधिक सब्सक्राइबर हैं। वहीं, अरुण के इंस्टाग्राम पर भी इस वीडियो को 3 लाख 41 हजार से अधिक बार देखा जा चुका है। इस वीडियो को लेकर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएँ सामने आ रहीं हैं।

कार के सनरूफ और स्पीकर से गिरते हुए पानी को देखने के बाद एक इंस्टाग्राम यूजर ने लिखा, “स्पीकर नहीं, वो शॉवर है।”

एक अन्य यूजर ने लिखा, “इसीलिए फॉर्च्यूनर में सनरूफ नहीं आता।”

एक यूजर ने कहा, “डॉ फ़िक्सिट का उपयोग नहीं किया। देखा लापरवाही का नतीजा।”

एक इंस्टाग्राम यूजर ने कहा, “वादियों में कार का इंटीरियर भी धुल गया। नेचुरल वाश ने अपना काम कर दिया। अब कपड़ा खुद मार लेना भाई।”

एक अन्य यूजर ने लिखा, “बुलेट फ्रूफ तो है। लेकिन वाटरप्रूफ नहीं।”

एक यूजर ने लिखा, “बस इसलिए ही मैंने महिंद्रा कार नहीं खरीदी। मैं अपनी साइकिल के साथ ही खुश हूँ।”

एक यूजर ने लिखा, “गाड़ी मिडिल क्लास वाली और शौक अंबानी वाला। सॉरी भाई, होता है-होता है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -