Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीअक्टूबर से मिल सकती हैं 5जी सेवाएँ: जानिए नीलामी से सरकार को क्या मिला,...

अक्टूबर से मिल सकती हैं 5जी सेवाएँ: जानिए नीलामी से सरकार को क्या मिला, रिलायंस Jio सबसे आगे

5जी टेक्नोलॉजी आने से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस काफी बेहतर हो जाएगा और इससे तमाम मशीनें जैसे स्मार्ट TV, वाशिंग मशीन, होम स्पीकर और रोबोट्स काफी तेज और ऑटोमेटिक फीचर्स से लैस होंगे।

भारत में अब तक की सबसे बड़ी 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी (5G Spectrum Auction) प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। 7 दिनों (26 जुलाई से 1 अगस्त 2022) तक चली इस नीलामी में 5जी स्पेक्ट्रम की रिकॉर्ड बिक्री से केंद्र सरकार को 150173 करोड़ रुपए की कमाई हुई है। यानी सरकार ने 1.5 लाख करोड़ रुपए से अधिक की राशि के स्पेक्ट्रम मोबाइल कंपनियों को बेचे हैं।

दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव (Ashwini Vaishnaw) के मुताबिक, 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी में 72098 Mhz में से 51236 Mhz स्पेक्ट्रम बिक चुके हैं। कंपनियों ने कुल 150173 करोड़ रुपए के स्पेक्ट्रम के लिए बोली लगाई। स्पेक्ट्रम नीलामी में सबसे अधिक बोली रिलायंस जियो इंफोकॉम ने अपने नाम की है। इसने कुल 24,740Mhz स्पेक्ट्रम की खरीदारी की है। रिलायंस ने 700Mhz, 800Mhz, 1800Mhz, 3300Mhz और 26Ghz स्पेक्ट्रम के लिए बोलियाँ लगाई है।

स्पेक्ट्रम खरीदारी में जियो के बाद दूसरे नंबर पर भारती एयरटेल (19867Mhz) और फिर वोडाफोन आइडिया (6228Mhz) लिमिटेड का स्थान रहा। वहीं, दूरसंचार की दुनिया में पहली बार कदम रख रहे अडानी ग्रुप ने प्राइवेट टेलीकॉम नेटवर्क स्थापित करने के लिए 26 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम खरीदा है।

कब से शुरू हो रही 5जी की सेवाएँ

मोबाइल कम्युनिकेशन की पाँचवीं पीढ़ी यानी 5G का फायदा देश के नागरिकों को इसी साल अक्टूबर से मिलना शुरू हो सकता है। सरकार को उम्मीद है कि अक्टूबर से सुपरफास्ट 5जी सेवाएँ देश के नागरिकों को उपलब्ध होने लगेगी। नीलामी प्रक्रिया समाप्त होने के बाद केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने मीडियाकर्मियों से सोमवार (1 अगस्त 2022) को कहा कि देश में इस साल अक्टूबर से 5जी सेवाएँ लॉन्च होने की उम्मीद है। बताया जा रहा है कि पहले चरण में देश के 13 शहरों में 5जी सेवा शुरू हो सकती है। इसमें अहमदाबाद, बेंगलुरु, चंडीगढ़, चेन्नई, दिल्ली, गाँधीनगर, गुरुग्राम, हैदराबाद, जामनगर, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई और पुणे शामिल हैं।

क्या है 5जी

5जी बहुत तेज इंटरनेट स्पीड (मल्टी-Gbps पीक स्पीड) वाला नेटवर्क है। इसमें यूजर को पहले के मुकाबले ज्यादा भरोसेमंद नेटवर्क स्पीड मिलती है। 4जी के मुकाबले 5जी टेक्नोलॉजी ज्यादा बेहतर इंटरफेस के साथ आएगी। जहाँ 4जी में 150Mbps तक की अधिकतम स्पीड मिलती है, वहीं 5जी में 10Gbps तक डाउनलोड स्पीड होने के बारे में कहा जा रहा है। आसान शब्दों में इसे समझें तो यूजर्स 5जी स्पीड के साथ एक पूरी HD फिल्म को महज कुछ सेकेंड में डाउनलोड कर सकेंगे। हालाँकि, इसका इस्तेमाल महज वीडियो डाउनलोड करने से कहीं बड़ा है। 5जी टेक्नोलॉजी आने से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस काफी बेहतर हो जाएगा और इससे तमाम मशीनें जैसे स्मार्ट TV, वाशिंग मशीन, होम स्पीकर और रोबोट्स काफी तेज और ऑटोमेटिक फीचर्स से लैस होंगे।

5जी में कई डिवाइस जुड़ सकते हैं

5G बेहद हाईटेक टेक्नोलॉजी है, जो बहुत तेज वायरलेस नेटवर्क देती है। 5जी की मदद से यूजर्स को ड्राइवरलेस ट्रांसपोर्ट, स्मार्ट सिटीज, वर्चुअल रियलिटी और बहुत तेज रियल टाइम अपडेट मिलेगा। इसके अलावा, यूजर्स जहाँ 4G की मदद से चलते-फिरते म्यूजिक और वीडियो स्ट्रीम कर सकते हैं, वहीं 5G की मदद से स्मार्टफोन से वह कई सारे डिवाइस एक साथ जोड़ सकते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -