Friday, July 19, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीएलन मस्क की राह पर मार्क जुकरबर्ग: फेसबुक-इंस्टाग्राम भी ट्विटर की तरह ब्लू टिक...

एलन मस्क की राह पर मार्क जुकरबर्ग: फेसबुक-इंस्टाग्राम भी ट्विटर की तरह ब्लू टिक के हर महीने वसूलेगा पैसे, जानिए वेरिफाइड सर्विस की कीमत

"इस हफ्ते हम मेटा वेरिफाइड सर्विस शुरू करने जा रहे हैं। यह एक सब्सक्रिप्शन सर्विस है। इसमें सरकारी पहचान पत्र के जरिए आपको ब्लू टिक मिल जाएगा। इससे अकाउंट को एक्स्ट्रा प्रोटेक्शन मिल सकेगी। इसके अलावा भी कई एक्स्ट्रा फीचर्स यूजर्स को दिए जाएँगे। यह नई सर्विस प्रामाणिकता और सुरक्षा बढ़ाने के लिए है।"

माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर के बाद फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सऐप की पैरेंट कंपनी मेटा (META) यूजर्स से वेरिफाइड अकाउंट के लिए अब हर महीने पैसे वसूलेगी। मेटा के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) ने सोमवार (20 फरवरी 2023) को फेसबुक पोस्ट कर इसकी जानकारी दी। फिलहाल, इसे ट्रायल बेसिस पर ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के यूजर्स के लिए रोलआउट किया जा रहा है। टेस्ट के बाद अमेरिका में इसे लॉन्च किया जाएगा।

जुकरबर्ग ने फेसबुक पर लिखा, “इस हफ्ते हम मेटा वेरिफाइड सर्विस शुरू करने जा रहे हैं। यह एक सब्सक्रिप्शन सर्विस है। इसमें सरकारी पहचान पत्र के जरिए आपको ब्लू टिक मिल जाएगा। इससे अकाउंट को एक्स्ट्रा प्रोटेक्शन मिल सकेगी। इसके अलावा भी कई एक्स्ट्रा फीचर्स यूजर्स को दिए जाएँगे। यह नई सर्विस प्रामाणिकता और सुरक्षा बढ़ाने के लिए है।”

मेटा के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग का फेसबुक पोस्ट

जुकरबर्ग ने आगे बताया, “हम इस सर्विस को पहले ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में शुरू करेंगे। इसके बाद जल्द ही दूसरे देशों में भी इसे रोल आउट किया जाएगा। इसके लिए यूजर को वेब के लिए हर महीने 11.99 डॉलर (करीब 990 रुपए) और IOS वालों को 14.99 डॉलर (करीब 1238 रुपए) देने होंगे।” हालाँकि, भारत में यह सर्विस कब से लागू होगी अभी तक यह साफ़ नहीं है।

कंपनी ने इनसाइडर को बताया कि इससे मेटा वेरिफाइड यूजर्स को प्लेटफॉर्म पर ज्यादा विजिबिलिटी और प्रोटेक्शन मिल सकेगी। यानी कोई भी उनकी फेक आईडी नहीं बना पाएगा। इसके साथ ही मेटा किसी भी यूजर्स के अ​काउंट को वेरिफाइड करने के लिए उसकी एक सरकारी आईडी का इस्तेमाल करेगा।

मार्क जुकरबर्ग ने यह आधिकारिक घोषणा सोशल मीडिया सलाहकार मैट नवरारा (Matt Navarra) द्वारा रविवार (19 फरवरी 2023) को इंस्टाग्राम के हेल्प सेंटर पेज पर एक पोस्ट के बारे में ट्वीट किए जाने के बाद की है। इससे लगता है कि यह नई सुविधा जल्द ही लॉन्च की जाएगी। पोस्ट को हटाए जाने से पहले इनसाइडर ने इसका स्क्रीनशॉट ले लिया था।

मेटा वेरिफाइड पर इंस्टाग्राम हेल्प सेंटर पेज का स्क्रीनशॉट। (फोटो साभार: businessinsider)

हेल्प पेज पोस्ट में कहा गया है कि सब्सक्राइबर्स को इंस्टाग्राम स्टोरीज के लिए एक्सक्लूसिव स्टिकर्स मिल सकते हैं। इसके साथ ही अकाउंट को वेरिफाइड कराने के लिए यूजर्स की उम्र कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए। नवरारा ने इनसाइडर को बताया कि मेटा के लिए पेड वेरिफिकेशन प्लान पर विचार करना सही है, क्योंकि मॉर्केट में प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ गई है। ज्यादातर कंपनियाँ चुनौतीपूर्ण आर्थिक संकट का सामना कर रही हैं। उन्होंने कहा आगे कहा, “Snap with Snapchat+ और Twitter with Twitter Blue ने सोशल मीडिया कंपनियों के लिए राजस्व का एक नया रास्ता खोल दिया है।”

टेक्नॉलॉजी और गैजेट्स न्यूज मॉनिटर टेकड्रॉइडर के मुताबिक, मेटा वेरिफाइड सर्विस यूजर्स को वेरिफाइड बैज, कस्टमर सपोर्ट, एक्टिव इंपर्सनेशन मॉनिटरिंग, दूसरे लोगों के कमेंट्स में प्राथमिकता, एक्सप्लोर पेज और इंस्टाग्राम पर रील्स बनाने के लिए एक्सक्लूसिव स्टिकर्स का फायदा मिलेगा। इसके अलावा, मेटा वेरिफाइड यूजर्स को उनके इंस्टाग्राम, फेसबुक स्टोरीज और रील्स के लिए एक्सक्लूसिव स्टिकर्स के साथ-साथ 100 फ्री मंथली स्टार्स भी मिलेंगे, जो फेसबुक क्रिएटर्स को टिप देने के लिए एक डिजिटल करेंसी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -