बांदीपोरा कश्मीर: सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, 2 आतंकी ढेर, गोला-बारूद बरामद

उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा जिले के एक गाँव में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच रविवार को शुरू हुई मुठभेड़ में पहले एक आतंकवादी मारा गया था फिर सोमवार सुबह एक और आतंकी सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया।

भारतीय सेना ने जम्मू-कश्मीर में बहुत बड़ी कामयाबी हासिल की है। उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा जिले में रविवार (नवंबर 10, 2019) शाम से शुरू हुई मुठभेड़ में अब तक दो आतंकी ढेर कर दिए गए हैं। कुछ अन्य आतंकियों के भी घिरे होने की सूचना है। 

फिलहाल मुठभेड़ जारी है। मारे गए आतंकियों की फिलहाल शिनाख्त की जा रही है। कश्मीर जोन पुलिस ने बताया कि मारे गए आतंकियों के पास से भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद किए गए हैं।

जिले के लाडूरा गाँव में आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर सुरक्षा बलों ने गाँव की घेराबंदी की। घेरा सख्त होता देख एक मकान में छिपे आतंकियों ने सुरक्षा बलों पर फायरिंग शुरू कर दी। अचानक शुरू हुई फायरिंग पर सुरक्षा बलों ने पहले तो आतंकियों को समर्पण के लिए कहा। इसके बाद भी फायरिंग नहीं रुकी तो सुरक्षाबलों ने आतंकियों को मुँहतोड़ जवाब दिया और दो आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

अधिकारियों ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा जिले के एक गाँव में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच रविवार को शुरू हुई मुठभेड़ में पहले एक आतंकवादी मारा गया था फिर सोमवार सुबह एक और आतंकी सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया। उन्होंने बताया कि श्रीनगर से 55 किलोमीटर दूर लाडूरा गाँव में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ जारी है।

गौरतलब है कि सात नवंबर को उत्तरी कश्मीर के सोपोर में लोगों को धमकाने और भयभीत करने के मामले में पुलिस ने हिजबुल मुजाहिदीन के चार ओवरग्राउंड वर्कर (ओजीडब्ल्यू) को गिरफ्तार किया था। इनके पास से एक पिस्टल व अन्य आपत्तिजनक सामग्री बरामद की गई थी। इससे पहले हंदवाड़ा में लश्कर के दो ओजीडब्ल्यू पकड़े गए थे। इससे पहले छह नवंबर को दक्षिण कश्मीर के अवंतीपोरा में लोगों को धमकी देने और भयभीत करने में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इनके पास से लश्कर-ए-तैयबा तथा हिजबुल मुजाहिदीन के पोस्टर बरामद किए गए थे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,022फैंसलाइक करें
26,220फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: