Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाज'जेहाद से मिलती है जन्नत': भारत को इस्लामी मुल्क बनाना चाहता था 19 साल...

‘जेहाद से मिलती है जन्नत’: भारत को इस्लामी मुल्क बनाना चाहता था 19 साल का सैफुल्लाह, रिपोर्ट में दावा- ATS पूछताछ में किए खुलासे

सैफुल्लाह फतेहपुर के मुस्लिम इंटर कॉलेज के परिसर में रहा करता था। उसके अब्बा जफरुल इस्लाम मदरसे में पढ़ाते हैं।

उत्तर प्रदेश के कानपुर से 14 अगस्त 2022 को गिरफ्तार जैश आतंकी हबीबुल इस्लाम उर्फ सैफुल्लाह ने पूछताछ में कई खुलासे किए है। सैफुल्ला भारत में इस्लाम का राज लाना चाहता था। इसके लिए उसने जिहाद की राह चुनी थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 19 साल के सैफुल्लाह ने ATS को बताया है कि वह भारत में इस्लामी शासन कायम करने की जंग लड़ रहा है। पूर्व में गिरफ्तार आतंकी नदीम की तरह वह भी टेलीग्राम पर पाकिस्तान सहित कई अन्य देशों में कट्टरपंथियों से जुड़ा हुआ था। वहाँ से उसे जिहाद के लिए उकसाने वाले वीडियो भेजे जाते थे। पाकिस्तानी हैंडलरों को वह ऑडियो और वीडियो कॉल भी किया करता था।

तालिबान जिस क्रूरता से अपने दुश्मनों का कत्ल करता है, वह सैफुल्लाह को बेहद पसंद है। उसके मुताबिक एक न एक दिन सभी को मुस्लिम बनना होगा, क्योंकि इस्लाम ही अकेला मजहब है। उसका मानना है कि जो मुस्लिम बनने से इनकार करेगा, उसे तालिबानी तरीके सजा दी जाएगी। हबीबुल और नदीम आपस में दोस्त भी हैं। दोनों एक ही टेलीग्राम ग्रुप में जुड़े हुए थे जहाँ इनकी आपस में अक्सर बातें भी हुआ करती थीं। दोनों नूपुर शर्मा की हत्या के मिशन पर एक साथ काम कर रहे थे।

सैफुल्लाह फतेहपुर के मुस्लिम इंटर कॉलेज के परिसर में रहा करता था। उसके अब्बा जफरुल इस्लाम मदरसे में पढ़ाते हैं। ATS की टीम इस बात की तह तक जाने का प्रयास कर रही है कि उसके नेटवर्क में देश में अभी कौन-कौन ऐसे लोग शामिल हैं जो पकड़ से बाहर हैं। दावा किया जा रहा है कि ATS ने कुछ नामों का पता भी लगा लिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -