Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजपैगंबर के जन्मदिवस पर 'कंपल्सरी' छुट्टी, रामनवमी-जन्माष्टमी पर 'वैकल्पिक' : 2022 की हॉलिडे लिस्ट...

पैगंबर के जन्मदिवस पर ‘कंपल्सरी’ छुट्टी, रामनवमी-जन्माष्टमी पर ‘वैकल्पिक’ : 2022 की हॉलिडे लिस्ट देख भड़के नेटिजन्स, कहा- ये देश प्रोफेट की नहीं, देवताओं की भूमि है

छुट्टियों की लिस्ट देखने के बाद सोशल मीडिया पर विभिन्न प्रतिक्रियाएँ देखने को मिल रही है। कोई भारत में हिंदुओं की हालत पर दया खा रहा है। कोई हैरान है कि भारत देश में कैसे होली को वैकल्पिक कर दिया गया है।

हिंदू बहुल भारत देश में हिंदुओं के त्योहार को क्या तवज्जोह दी जाती है इसका खुलासा साल 2022 में सरकार द्वारा जारी की गई छुट्टियों की लिस्ट से हुआ है। इस लिस्ट में रामनवमी, जन्माष्टमी और महाशिवरात्रि वैकल्पिक अवकाश की श्रेणी में रखे गए हैं और पैगंबर मोहम्मद का जन्मदिन अनिवार्य अवकाश में रखा गया है।

सरकारी छुट्टियों की इस लिस्ट पर ध्यान पत्रकार अशोक श्रीवास्तव ने दिलवाया है। उन्होंने हॉलिडे लिस्ट 2022 साझा करते हुए लिखा, “ये साल 2022 की भारत में छुट्टियों की लिस्ट है जो कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग ने जारी की है। हैरान हूँ ये देखकर कि पैगंबर मोहम्मद का जन्मदिन कम्पलसरी हॉलिडे है पर रामनवमी, जन्माष्टमी और महाशिवरात्रि वैकल्पिक अवकाश हैं। मोहर्रम कम्पलसरी हॉलिडे है पर होली वैकल्पिक अवकाश है। गज़ब!” 

इस खुलासे के बाद सोशल मीडिया पर विभिन्न प्रतिक्रियाएँ देखने को मिल रही हैं। कोई भारत में हिंदुओं की हालत पर दया खा रहा है। कोई हैरान है कि भारत देश में कैसे होली को वैकल्पिक कर दिया गया है।

जतिन भूटानी मौजूदा सरकार पर गुस्सा जाहिर करते हुए कहते हैं, “सिर्फ सत्ता में बैठे लोग बदले हैं, विचारधारा अब भी सूडो सेकुलरिज्म की है।”

भूपेंद्र लिखते हैं, “एक अल्पसंख्यक समुदाय की 4 कंपल्सरी छुट्टी और बहुसंख्यक समुदाय की सिर्फ 1 छुट्टी? क्या कमाल का सेक्युलरिज्म है।”

आलोक अग्रवाल लिखते हैं, “ये कारण हैं कि हर हिंदू के मन में संदेह है कि भाजपा तुष्टिकरण की ओर मुड़ रही है, ये जानते हुए कि उनमें से कोई भाजपा के लिए वोट नहीं करेगा। अपने समर्थकों के साथ ये सब मत करो, वो भी हाथ से निकल जाएँगे।”

आशीष सती ने लिखा, “सेकुलरिज्म की ये पराकाष्ठा है, ये प्रोफेट का देश नहीं, देवताओं की भूमि हैं। जिनको ये सब पसंद था उनको देश तोड़कर 1/3 हिस्सा दे चुके, अब यहाँ ये करना जिहादी तत्वों को बढ़ावा देना होगा जो देश के लिए घातक है।”

कुछ यूजर्स ने अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा, ” ये सब क्या है…? मैं ईद-ए-मिलाद को अनिवार्य छुट्टियों में से हटाने को नहीं कहता लेकिन कृपया होली, श्रीराम नवमी, जन्माष्टमी, महाशिवरात्रि को भी कंपल्सरी लिस्ट में रखा जाना चाहिए। ये निश्चित तौर पर बहुत गलत है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वकील चलाता था वेश्यालय, पुलिस ने की कार्रवाई तो पहुँचा हाई कोर्ट: जज ने कहा- इसके कागज चेक करो, लगाया ₹10000 का जुर्माना

मद्रास हाई कोर्ट में एक वकील ने अपने वेश्यालय पर कार्रवाई के खिलाफ याचिका दायर की। कोर्ट ने याचिका खारिज करके ₹10,000 का जुर्माना लगा दिया।

माजिद फ्रीमैन पर आतंक का आरोप: ‘कश्मीर टाइप हिंदू कुत्तों का सफाया’ वाले पोस्ट और लेस्टर में भड़की हिंसा, इस्लामी आतंकी संगठन हमास का...

ब्रिटेन के लेस्टर में हिन्दुओं के विरुद्ध हिंसा भड़काने वाले माजिद फ्रीमैन पर सुरक्षा एजेंसियों ने आतंक को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -