Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाज'भारत करे शुरुआत, मॉरीशस-भूटान समेत 15 देश हिंदू राष्ट्र बनने के लिए तैयार': पुरी...

‘भारत करे शुरुआत, मॉरीशस-भूटान समेत 15 देश हिंदू राष्ट्र बनने के लिए तैयार’: पुरी के शंकराचार्य ने कहा- 52 देशों से हो चुकी है बात

शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती कहते हैं कि दुनियाभर में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान कहीं भी सहन नहीं किया जाएगा।

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में चल रहे गंगासागर मेले (Ganga Sagar Fair) में मकर संक्रांति के मौके पर शाही स्नान करने के लिए आए पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती (Shankaracharya Swami Nishchalanand Saraswati) ने हिंदू राष्ट्र की संकल्पना पर बल दिया है। उन्होंने कहा कि उनकी 52 देशों के उच्च प्रतिनिधियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत हुई है, जिसमें मॉरीशस, भूटान समेत 15 देशों के प्रतिनिधियों ने स्पष्ट कहा है कि अगर भारत खुद को हिंदू राष्ट्र घोषित करता है तो वे भी इस दिशा में कदम उठाएँगे।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक, स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने एकमात्र हिंदू राष्ट्र नेपाल को लेकर बात करते हुए कहा कि वो अब चीन की कठपुतली बनता जा रहा है। उसको लेकर हमारी विदेश नीति में कमी आई है। इसके साथ ही संत ने पड़ोसी देश बांग्लादेश में हिंदुओं को निशाना बनाए जाने पर भी अपनी चिंता व्यक्त की। उन्होंने बाग्लादेश में हिंदू मंदिरों और देवी-देवताओं को निशाना बनाए जाने और मूर्तियों को तोड़ने पर नाराजगी व्यक्त की।

शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती कहते हैं कि दुनियाभर में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान कहीं भी सहन नहीं किया जाएगा। उनका कहना है कि अगर भारत में अल्पसंख्यक आराम से रहते हैं तो बांग्लादेश में हिंदू क्यों नहीं रह सकते हैं? उन्होंने कहा कि आखिर बांग्लादेश भारत से ही तो पैदा हुआ था।

राजनीति पर किया कटाक्ष

शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती राजनीति और कोरोना को लेकर भी बयान दिया। उन्होंने इस मामले में तल्ख लहजे में कहा कि कोरोना के इस दौर में कई राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए हैं और होने भी जा रहे हैं। जब कभी कोई राजनीतिक कार्यक्रम होते हैं तो वहाँ कोरोना नहीं होता। लेकिन जैसे ही कोई धार्मिक कार्यक्रम शुरू होता है तो कोरोना का हवाला दिया जाता है। इसके साथ ही उन्होंने तीर्थ स्थलों को पर्यटन स्थल घोषित करने पर नाराजगी जताते हुए कहा कि तपोभूमि को भोग भूमि नहीं बनाना चाहिए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाइडेन बाहर, कमला हैरिस पर संकट: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में ओबामा ने चली चाल, समर्थन पर कहा – भविष्य में क्या होगा, कोई नहीं...

अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों की दौड़ से बाइडेन ने अपना नाम पीछे लिया तो बराक ओबामा ने उनकी तारीफ की और कमला हैरिस का समर्थन करने से बचते दिखे।

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -