Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाज5000 पाकिस्तानी हिन्दू शरणार्थियों को इंदौर में लगेगी Covid-19 वैक्सीन: CM शिवराज सिंह ने...

5000 पाकिस्तानी हिन्दू शरणार्थियों को इंदौर में लगेगी Covid-19 वैक्सीन: CM शिवराज सिंह ने दी अनुमति

इंदौर के जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि पाकिस्तानी हिन्दू सिंधी समुदाय के लगभग 5,000 लोग इंदौर में रहते हैं। ये सभी अधिकतर शहर के सिंधी कालोनी एरिया में रह रहे हैं।

मध्य प्रदेश के इंदौर में रहने वाले लगभग 5,000 पाकिस्तानी हिन्दू शरणार्थियों को कोरोना वायरस का टीका लगाया जाएगा। ये हिन्दू शरणार्थी कई दिनों से इसके लिए माँग कर रहे थे। संबंधित अधिकारी ने रविवार (13 जून) को यह जानकारी दी कि मध्य प्रदेश सरकार ने इसके लिए अनुमति प्रदान कर दी है।

इंदौर के जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि पाकिस्तानी हिन्दू सिंधी समुदाय के लगभग 5,000 लोग इंदौर में रहते हैं। ये सभी अधिकतर शहर के सिंधी कालोनी एरिया में रह रहे हैं। डॉ. जड़िया ने बताया कि शरणार्थी हिंदुओं के प्रतिनिधि लगातार समुदाय के लोगों के टीकाकरण की माँग कर रहे थे जिस पर मध्य प्रदेश सरकार ने संज्ञान लेते हुए इन सभी शरणार्थियों के टीकाकरण को मंजूरी दे दी। डॉ. जड़िया ने बताया कि सरकार से मंजूरी मिलने के बाद पाकिस्तान के ये शरणार्थी हिन्दू इंदौर के टीकाकरण केंद्रों में Covid-19 का टीका लगवा सकते हैं।

डॉ. जड़िया ने बताया कि इंदौर में टीकाकरण कार्यक्रम तेजी से चल रहा है और प्रशासन मानवीय आधार पर भी शहर में मौजूद सभी वयस्कों के टीकाकरण का कार्य कर रहा है। उन्होंने बताया कि पिछले महीने ही एक विदेशी नागरिक को इंदौर में टीका लगाया गया जो इंदौर किसी आवश्यक कार्य से आया था।

कुछ दिनों पहले राजस्थान से हिन्दू प्रवासियों को टीकाकरण में आ रही समस्याओं की खबर आई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राजस्थान के जोधपुर जिले में करीब 24 से ज्यादा झुग्गियों में 90 फीसदी पाकिस्तानी हिन्दू प्रवासी रहते हैं। बताया गया था कि इन हिन्दू प्रवासियों की न तो इनकी Covid-19  की जाँच हुई है और न ही उन्हें किसी तरह का इलाज मुहैया कराया गया।

हालाँकि, इन बस्तियों में पहले से ही कई लोग कोरोना की चपेट में आ चुके थे। जोधपुर में रहने वाले 5 प्रवासियों की कथित तौर पर कोरोना से मौत भी हो गई थी। इन सबके बावजूद इनको Covid-19 की वैक्सीन नहीं लगाई जा सकी क्योंकि इन लोगों के पास आधार कार्ड व अन्य कोई पहचान पत्र नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe