Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाज48 घंटों में 10, एक महीने में 77 बच्चों की मौत: राजस्थान के डॉ...

48 घंटों में 10, एक महीने में 77 बच्चों की मौत: राजस्थान के डॉ कह रहे – सब मौतें सामान्य, अस्पताल की लापरवाही नहीं

एक महीने में 77 बच्चों की मौत के बाद भी अस्पताल प्रशासन की नींद नहीं खुली है और वह इन आँकड़ों को सामान्य बता रहा है। अस्पताल प्रशासन ने डॉक्टरों की ओर से किसी तरह की लापरवाही से इनकार किया है।

राजस्थान के कोटा स्थित जेके लोन अस्पताल में इस महीने 77 बच्चों की मौत से हड़कंप मचा हुआ है। पिछले 48 घंटे में ही 10 बच्चों की मौत हो चुकी है। इसमें नवजात शिशु भी शामिल हैं। एक महीने में इतने बच्चों की मौत के बाद अस्पताल प्रशासन की नींद नहीं खुली है और वह इन आँकड़ों को सामान्य बता रहा है। अस्पताल प्रशासन ने डॉक्टरों की ओर से किसी तरह की लापरवाही से इनकार किया है। अस्पताल प्रशासन द्वारा इन बच्चों की मौत की जाँच के लिए गठित एक कमिटी ने कहा कि अस्पताल के सारे उपकरण सुचारू रूप से चल रहे हैं, इसलिए अस्पताल की तरफ से लापरवाही का सवाल पैदा ही नहीं होता।

ख़बर के अनुसार, अपनी रिपोर्ट में अस्पताल ने बताया कि पिछले दो दिन में जिन 10 बच्चों की मौत हुई है, उनकी स्थिति बेहद गंभीर थी और वे वेंटिलेटर पर थे। अस्पताल ने यह भी दावा किया कि 23 और 24 दिसंबर को जिन 5 नवजात शिशुओं की मौत हुई, वे केवल एक दिन के थे और भर्ती करने के कुछ ही घंटों के अंदर उन्होंने आखिरी साँस ली। रिपोर्ट में इस बात का भी उल्लेख किया गया वे हाइपॉक्सिक इस्केमिक इंसेफ्लोपैथी से पीड़ित थे। इस अवस्था में नवजात के मस्तिष्क में पर्याप्त ऑक्सिजन नहीं पहुँच पाती है।

इसके अलावा, रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि 23 दिसंबर को पाँच महीने के बच्चे की गंभीर निमोनिया की वजह से मौत हुई, जबकि सात साल के एक बच्चे की एक्यूट रेस्पिरटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम यानी सांस लेने में दिक्कत की वजह से मौत हुई। इसी दिन एक डेढ़ महीने के बच्चे की मौत भी हो गई, जो जन्म से ही दिल की बीमारी से पीड़ित था। इनके अलावा 24 दिसंबर को दो महीने के बच्चे की गंभीर एस्पिरेशन निमोनिया और एक अन्य डेढ़ महीने के बच्चे की ऐस्पिरेशन सीजर डिसऑर्डर की वजह से मौत हो गई।

बुधवार (25 दिसंबर) को अस्पताल अधीक्षक डॉ. एसएल मीणा ने बताया, “जाँच के बाद सामने आया कि 10 बच्चों की मौत सामान्य थीं न कि अस्पताल प्रशासन की लापरवाही की वजह से।” अस्पताल के पीडिएट्रिक विभाग के अमृत लाल बैरवा ने कहा कि जिन बच्चों की मौत हुई है, उस सभी को गंभीर अवस्था में अस्पताल लाया गया था।

उन्होंने कहा, “नैशनल एनआईसीयू रेकॉर्ड के अनुसार, शिशुओं की 20 प्रतिशत मौतें स्वीकार्य हैं, जबकि कोटा में शिशु मृत्यु दर 10 से 15 प्रतिशत है जो खतरनाक नहीं है क्योंकि अधिकतर बच्चों को गंभीर हालत में अस्पताल लाया गया था। गंभीर मरीज़ बूंदी, बारां, झालावाड़ और मध्य प्रदेश से भी आए थे। यहाँ प्रतिदिन एक से तीन शिशुओं और नवजात की मौत होती है।”

गुंडों के डर से भागने वाली राजस्थान पुलिस नेहरू पर फास्ट, अहमदाबाद से अभिनेत्री को उठाया

RSS की किस शाखा में जाते हो? राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार ने कर्मचारियों से पूछा

सर्वे रिपोर्ट: मोदी-राज में एक साल में 10% घटी रिश्वतखोरी, बिहार-राजस्थान टॉप पर

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

कीचड़ मलती ‘गोरी’ पत्रकार या श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग… समाज/मदद के नाम पर शुद्ध धंधा है पत्रकारिता

श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग और जलती चिताओं की तस्वीरें छापकर यह बताने की कोशिश की जाती है कि स्थिति काफी खराब है और सरकार नाकाम है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe