Thursday, April 15, 2021
Home देश-समाज बेस्ट CM, केरल मॉडल और 'किसान आंदोलन': देश के कुल सक्रिय कोरोना मामलों का...

बेस्ट CM, केरल मॉडल और ‘किसान आंदोलन’: देश के कुल सक्रिय कोरोना मामलों का 77% सिर्फ इन 3 राज्यों में

तीनों राज्यों की बात करें तो देश के 77.32% सक्रिय कोरोना मामले यहीं मौजूद हैं - तीन चौथाई से भी ज्यादा। - पहले इन्हीं तीनों राज्यों का गुणगान करने वाली मीडिया आज चुप्पी साधे हुए है।

भारत में क्या अब कोरोना वायरस की दूसरी लहर आ रही है? ये प्रश्न इसीलिए पूछा जा रहा है क्योंकि पिछले 3 महीनों में पहली बार देश में 1 दिन में 26,513 मामले सामने आए हैं। इसमें सबसे ज्यादा 16,620 कोरोना संक्रमण के मामले अकेले महाराष्ट्र में सामने आए हैं। केरल में 1792 नए मामले सामने आए। इस तरह से देखा जाए तो अगर भारत में कोरोना एक बार फिर से खड़ा होता है तो इसकी वजह इन दोनों राज्यों के आँकड़े होंगे। पंजाब की स्थिति भी बदतर होती जा रही है।

कोरोना वायरस संक्रमण के फ़िलहाल देश में 2,16,297 केस मौजूद हैं। इनमें 1,26,231 महाराष्ट्र में हैं और 29,474 केरल में। इस तरह से देश में कुल सक्रिय कोरोना संक्रमितों की संख्या का 58.36% हिस्सा महाराष्ट्र में और 13.62% हिस्सा केरल में मौजूद है।

मृतकों की बात करें तो कोरोना के कारण देश में 1,58,762 लोगों की जान गई, जिनमें 52,861 अकेले महाराष्ट्र के हैं। ध्यान देने वाली बात ये है कि इसके एक तिहाई लोगों की मौत भी किसी अन्य राज्य में नहीं हुई है।

एक और राज्य है, जो केरल के साथ इस मामले में प्रतिस्पर्धा करने निकल पड़ा हो, वो है ‘किसान आंदोलन’ का गढ़ बना पंजाब। पंजाब में पिछले 1 दिन में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1492 बढ़ गई है। इस तरह 11,550 सक्रिय कोरोना मरीजों के साथ इस सूची में महाराष्ट्र और केरल के बाद तीसरे स्थान पर आ गया है।

तीनों राज्यों की बात करें तो देश के 77.32% सक्रिय कोरोना मामले यहीं मौजूद हैं – तीन चौथाई से भी ज्यादा।

आप याद कीजिए। किस तरह से मीडिया में हर जगह कभी ‘केरल मॉडल’ ही चलता था। केरल की जनसंख्या भारत के कई राज्यों से अपेक्षाकृत कम है। वहाँ के वामपंथी सरकार की कोरोना मैनेजमेंट के लिए जम कर तारीफ की जाती थी और यहाँ तक कि भारत सरकार को उससे सीखने की नसीहत दी जाती थी। अब जब वहाँ संक्रमितों की संख्या नियंत्रण से बाहर होती जा रही है, मीडिया के उस वर्ग में गजब की चुप्पी है।

इसी तरह महाराष्ट्र सरकार के पक्ष में जम कर PR हुआ था। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के भाषण को CMO ने थ्रेड के जरिए ट्विटर पर क्या डाला, कई सेलेब्स से उसका प्रचार-प्रसार करवाया गया था। चूँकि वहाँ भाजपा विरोधी शिवसेना, कॉन्ग्रेस और NCP की सरकार है, सोशल मीडिया में तब ‘बेस्ट सीएम’ की उपलब्धियाँ गिनाने वाले आज गायब हैं।

अब फिर से लॉकडाउन लगाने की बातें हो रही है, कुछ शहरों में तो लगा भी दिया गया है। नए सिरे से नियम लगाए जा रहे हैं। आखिर ये नौबत कैसे आई?

नागपुर, नासिक, परभणी और पुणे में फिर से लॉकडाउन की घोषणा की जा चुकी है। पंजाब के कई जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाया जा रहा है। लुधियाना, पटियाला, फतेहगढ़ साहिब, जालंधर, नवाँशहर, कपूरथला और होशियारपुर में नाइट कर्फ्यू लगाया जा रहा है।

केरल से लगने वाले सभी राज्यों में वहाँ से आने वाले लोगों को लेकर तमाम तरह के प्रतिबंध लगाए गए हैं। जनवरी 2021 में लक्षद्वीप में कोरोना का पहला मामला तभी सामने आया, जब केरल से आए एक यात्री ने 40 को संक्रमित कर डाला।

एक तरफ जहाँ केंद्र सरकार टीकाकरण के मामले में सख्त है और भारत अब अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा लोगों को कोरोना वैक्सीन लगवाने वाला देश बन गया है, सरकार के सहयोग की बजाए इस पर राजनीति करते हुए वैक्सीन को लेकर अफवाहें फैलाई जा रही हैं, जबकि केरल की वामपंथी सरकार, पंजाब की कॉन्ग्रेस सरकार और महाराष्ट्र की MVA सरकार से वहाँ बढ़ते मामलों को लकर सवाल नहीं पूछे जा रहे।

कहाँ हैं भारत के सबसे ज्यादा सक्रिय मामले? (साभार: Covid19India.Org)

मुंबई में कोरोना ने अब तक 11,535 लोगों की जान ली है। आपको ये जान कर आश्चर्य होगा कि महाराष्ट्र की राजधानी में कोरोना से जितने लोग मरे हैं, उससे ज्यादा मौतें सिर्फ केरल और तमिलनाडु में हुई हैं (महाराष्ट्र के अलावा)। पिछले 1 दिन में भी यहाँ 740 सक्रिय मामले सामने आए। पुणे में भी कोरोना ने 8144 लोगों की जान ली है। नागपुर में 3584 लोग मरे। ठाणे में 5873 लोग कोरोना की वजह से मरे।

भारत में अब तक 2.73 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है। 5 राज्यों में चुनाव होने वाले हैं, ऐसे में इन तीन राज्यों की लापरवाही भारी पड़ सकती है। पिछले 1 दिन में कोरोना के नए मामलों के 75.07% मामले यहीं से सामने आए हैं। तीन राज्यों से रोज कोरोना के तीन चौथाई मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में बेस्ट सीएम, केरल मॉडल और ‘किसान आंदोलन’ की याद तो आएगी ही।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आरोग्य सेतु’ डाउनलोड करने की शर्त पर उमर खालिद को जमानत, पर जेल से बाहर ​नहीं निकल पाएगा दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों का...

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को जमानत मिल गई है। लेकिन फिलहाल वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएगा। जाने क्यों?

कोरोना से जंग में मुकेश अंबानी ने गुजरात की रिफाइनरी का खोला दरवाजा, फ्री में महाराष्ट्र को दे रहे ऑक्सीजन

मुकेश अंबानी ने अपनी रिफाइनरी की ऑक्सीजन की सप्लाई अस्पतालों को मुफ्त में शुरू की है। महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

कोरोना पर कुंभ और दूसरे राज्यों को कोसा, खुद रोड शो कर जुटाई भीड़: संजय राउत भी निकले ‘नॉटी’

संजय राउत ने महाराष्ट्र में कोरोना के भयावह हालात के लिए दूसरे राज्यों को कोसा था। कुंभ पर निशाना साधा था। अब वे खुद रोड शो कर भीड़ जुटाते पकड़े गए हैं।

‘वीडियो और तस्वीरों ने कोर्ट की अंतरात्मा को हिला दिया है…’: दिल्ली दंगों में पिस्टल लहराने वाले शाहरुख को जमानत नहीं

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली दंगों के आरोपित शाहरुख पठान को जमानत देने से इनकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,218FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe