Friday, May 24, 2024
Homeदेश-समाजपीड़ित मॉं कह रही मेरी 15 साल की बेटी को ले गया अफरोज, पर...

पीड़ित मॉं कह रही मेरी 15 साल की बेटी को ले गया अफरोज, पर दिल्ली पुलिस ने नहीं सुनी फरियाद: FIR में आरोपित ‘नामालूम’

दिल्ली पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए महिला आगे कहती है, "जहाँगीरपुरी थाने में मैं गई थी, वहाँ कोई सुनवाई नहीं हो रही है। वो लोग कुछ भी कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। पुलिस कहती है 'हाँ जाओ तुम हम कर देंगे, जाओ तुम हम कर देंगे'। 2-4 घंटे मुझे बैठाकर रखती है और फिर कहती है 'तुम जाओ हम कर देंगे'।"

दिल्ली के जहाँगीरपुरी थाना क्षेत्र की एक महिला का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह कह रही है कि उसकी 15 साल की नाबालिग बेटी को अफरोज नाम का शख्स भगा ले गया है। महिला वीडियो में 4 दिन से लापता अपनी नाबालिग बेटी को खोजने की गुहार लगा रही है। पीड़िता ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस इस मामले में सहयोग नहीं कर रही है। शिकायत के आधार पर दिल्ली पुलिस ने 2 दिसंबर (गुरुवार) को संज्ञान लिया है।

ऑपइंडिया के पास वायरल वीडियो मौजूद हैं। वायरल वीडियो में पीड़ित माँ कह रही है, “जो लड़का मेरी बेटी को ले गया है, वो मुसलमान है। उन सभी की पहुँच बहुत दूर तक है। हमें उनसे बहुत डर लग रहा है। वो हमारे साथ कुछ गलत भी कर सकते हैं। मेरी एक छोटी बेटी भी है और एक बेटा भी।” महिला ने आगे बताया, “मेरी बेटी कक्षा 10 में पढ़ती है और उसका पेपर भी चल रहा है। वो पेपर भी नहीं दे पाई। ना जाने कहाँ लेकर चला गया वो।”

दिल्ली पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए महिला आगे कहती है, “जहाँगीरपुरी थाने में मैं गई थी, वहाँ कोई सुनवाई नहीं हो रही है। वो लोग कुछ भी कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। पुलिस कहती है ‘हाँ जाओ तुम हम कर देंगे, जाओ तुम हम कर देंगे’। 2-4 घंटे मुझे बैठाकर रखती है और फिर कहती है ‘तुम जाओ हम कर देंगे’। मेरी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। चार दिन में एक भी पुलिस वाले घर नहीं आए। जब मैं 100 नंबर पर कॉल करा तब गाड़ी आई, वो लिखकर लेकर चले गए। उसके बाद दोबारा कोई नहीं आया।”

एक अन्य वीडियो में वही महिला जहाँगीरपुरी थाने के आगे FIR की कॉपी हाथ में लेकर दिखाते हुए कहती है, “मैं एफआईआर करवाने गई थी। इसमें (FIR में) बस ये लिख दिया गया है कि मेरी बेटी बस गुमशुदा है। मैंने उस लड़के का नाम भी बताया था कि अफरोज मेरी बेटी को लेकर गया था, लेकिन उसका नाम इसमें नहीं लिखा पुलिस वाले ने और ये बोला कि तुम जाओ अभी हमारे बस का नहीं है कुछ करना। मेरे को डराया-धमकाया और बोला कि तुम जाओ।”

इस मामले की FIR की कॉपी ऑपइंडिया के पास उपलब्ध है। एफआईआर में आरोपी का नाम नहीं लिखा गया है, जबकि पीड़िता ने आरोपी का नाम स्पष्ट रुप से लिया है। एफआईआर कि कॉपी में लिखा है, “….मुझे शक है कि मेरी बेटी को कोई नामालूम व्यक्ति बहला-फुसलाकर लेकर गया है, जिसका हुलिया इस प्रकार है…।”

इस मामले में ऑपइंडिया ने SHO जहाँगीरपुरी से जानकारी ली। SHO ने ऑपइंडिया को बताया, “पुलिस पर कार्रवाई न करने के आरोप गलत हैं। आरोपित और पीड़िता दोनों पड़ोसी हैं। ये एक-दूसरे को लगभग 4 साल से जानते हैं। पुलिस ने 363 IPC के तहत केस दर्ज कर लिया है। लड़की की तलाश में टीमें लगा दी गई हैं। लोकेशन कोलकाता के आसपास आ रही है, जहाँ के लिए पुलिस रवाना भी हो चुकी है। लड़की की सकुशल बरामदगी हमारी प्राथमिकता है। बरामदगी के बाद उसके बयान के आधार पर जो भी दोषी होगा, उस पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।”

वहीं, इस वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद दिल्ली पुलिस ने प्रतिक्रिया देते हुए कार्रवाई का भरोसा दिया है। वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली पुलिस के हैंडल से ट्वीट किया गया, “मामले का संज्ञान ले लिया गया है और संबंधित अधिकारियों को उचित कार्यवाही करने के निर्देश दे दिए गए हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने बहिष्कार किया’: बोले PM मोदी – इन्होंने भारतीयों पर मढ़ा...

प्रधानमंत्री ने स्पष्ट ऐलान किया कि अब यह देश न आँख झुकाकर बात करेगा और न ही आँख उठाकर बात करेगा, यह देश अब आँख मिलाकर बात करेगा।

कॉन्ग्रेस नेता को ED से राहत, खालिस्तानियों को जमानत… जानिए कौन हैं हिन्दुओं पर हमले के 18 इस्लामी आरोपितों को छोड़ने वाले HC जज...

नवंबर 2023 में जब राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी चरम पर थी, जब जस्टिस फरजंद अली ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार मेवाराम जैन को ED से राहत दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -