Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाज2 साल पहले जब आफताब को पुलिस पकड़ने वाली थी, श्रद्धा ने ही उसे...

2 साल पहले जब आफताब को पुलिस पकड़ने वाली थी, श्रद्धा ने ही उसे बचाया था: बुरी तरह मार खाकर भी उसी के पास वापस लौटी

"आफताब ने उसके साथ मारपीट की, तो हम सभी ने एफआईआर दर्ज कराने में उसकी मदद की। पुलिस अधिकारी ने जब पूछताछ के लिए आफताब को हिरासत में लेने को कहा, तो उसने कहा कि रिलेशनशिप में ऐसी चीजें होती रहती हैं।"

श्रद्धा मर्डर केस (Shraddha Walker Murder) में एक और जानकारी सामने आ रही है। दावा किया जा रहा है कि आफताब अमीन पूनावाला (Aftab Amin Poonawalla) ने नवंबर 2020 में श्रद्धा वाकर को मौत के घाट उतारने की कोशिश की थी। उसे बहुत पीटा था। इस बात का खुलासा श्रद्धा के दोस्त गॉडविन ने किया है।

गॉडविन ने इंडिया टुडे को बताया कि आफताब उसकी दोस्त के साथ दरिंदों जैसा व्यवहार करता था। उन्होंने आफताब के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी, लेकिन वह उसे बार-बार फोन करता रहता, धमकी देता कि अगर वह उसके पास वापस नहीं आई, तो वह अपनी जान दे देगा। आफताब के आत्महत्या की धमकी देने के बाद श्रद्धा उसके पास वापस चली गई।

2020 में श्रद्धा वाकर का इलाज करने वाले एक डॉक्टर ने भी खुलासा किया है कि आफताब अमीन पूनावाला उस वक्त अस्पताल में मौजूद था, जब श्रद्धा को कंधे और पीठ में तेज दर्द के लिए भर्ती कराया गया था। नालासोपारा के ओजोन मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल में दो साल पहले श्रद्धा का इलाज करने वाले डॉ एसपी शिंदे ने कहा कि श्रद्धा को कोई गंभीर चोट नहीं आई थी, लेकिन उसने कंधे और पीठ में तेज दर्द की शिकायत की थी।

ओजोन मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल में श्रद्धा वाकर ने हालाँकि इसका खुलासा नहीं किया था कि उसे ये दर्द किस वजह से हो रहा था। जब वह अस्पताल में भर्ती थी, उस वक्त श्रद्धा के परिवार का कोई भी सदस्य वहाँ मौजूद नहीं था। वहाँ केवल आफताब दिखाई दे रहा था।

‘मदद के लिए हमारे पास आई थी श्रद्धा’

श्रद्धा वाकर के दोस्तों द्वारा किए गए खुलासे के मुताबिक, श्रद्धा और आफताब 2018 से रिलेशनशिप में थे, लेकिन श्रद्धा ने आफताब के बारे में अपने दोस्तों को 2019 में बताया था। श्रद्धा के एक और दोस्त राहुल राय ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया:

“2020 में जब वह हेल्प के लिए हमारे पास पहुँची और कहा कि आफताब ने उसके साथ मारपीट की, तो हम सभी ने एफआईआर दर्ज कराने में उसकी (श्रद्धा) मदद की। पुलिस अधिकारी ने जब पूछताछ के लिए आफताब को हिरासत में लेने को कहा, तो उसने कहा कि रिलेशनशिप में ऐसी चीजें होती रहती हैं।”

‘वह आफताब से बहुत डरती थी’

राहुल राय के अनुसार, “अगले दिन पुलिस ने उसे (श्रद्धा) थाने बुलाया, जहाँ उसने कहा कि वह आफताब से बहुत डरती है। वह उसे मार डालेगा। क्योंकि वह इससे पहले भी उसे जान से मारने की कोशिश कर चुका है और उसे कई बार बुरी तरह पीटा है। आफताब ने उसे घर में बंद कर दिया था। उसका एक और अफेयर चल रहा था। वह दूसरी और लड़कियों से भी बात करता था। उसने कहा था कि आफताब ड्रग्स लेता है।”

राहुल ने आगे बताया कि जब उन्होंने फिर से श्रद्धा से संपर्क करने की कोशिश की तो उसने कहा कि चिंता मत करो। ऐसी चीजें होती रहती हैं। इसके बाद वे कभी संपर्क में नहीं आए।

‘सिगरेट से श्रद्धा को जला देता था’

बता दें कि 26 वर्षीय श्रद्धा की उसके लिव-इन पार्टनर आफताब ने 18 मई 2022 को दिल्ली के छतरपुर स्थित अपने फ्लैट में हत्या कर दी थी। श्रद्धा के पिता के गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराने के छह महीने बाद इस हत्याकांड का खुलासा हो पाया है। दिल्ली पुलिस इस मामले की जाँच जुटी हुई है। वहीं, हत्या आरोपित आफताब रोज एक नई कहानी सुनाकर पुलिस को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है।

श्रद्धा के दोस्त रजत शुक्ला ने दावा किया है कि जब वह मुंबई में थी, तब भी आफताब उससे मारपीट करता था। जलते हुए सिगरेट से श्रद्धा को जला देता था। जले हुए निशान को श्रद्धा ने अपने दोस्तों को भी दिखाया था। उस वक्त उसके सभी दोस्त पुलिस में जाना चाहते थे। लेकिन श्रद्धा आफताब को सुधरने का मौका देना चाहती थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -