Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजश्रद्धा को बुरी तरह पीटता था आफताब, सिगरेट से जला देता था: दोस्त ने...

श्रद्धा को बुरी तरह पीटता था आफताब, सिगरेट से जला देता था: दोस्त ने कैमरे के सामने किया खुलासा, कहा – ‘उसके अम्मी-अब्बू को सब पता’

"श्रद्धा इस मामले में कुछ ना कुछ छिपा रही थी। वो आफताब से डरी हुई दिख रही थी। यह बहुत बड़ा ब्लैकमेलिंग हो सकता है... आफताब के घरवालों (अम्मी-अब्बू) को इस बात की जानकारी थी कि उसने श्रद्धा का मर्डर कर दिया है।"

श्रद्धा मर्डर केस (Shraddha Walker Murder) में आफताब अमीन पूनावाला (Aftab Amin Poonawalla) को लेकर कई और नए खुलासे हुए हैं। 2020 की मेडिकल रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि आफताब अक्सर श्रद्धा को बुरी तरह पीटा करता था। इसके अलावा ये दावा भी किया जा रहा है कि श्रद्धा की हत्या के बाद उसके शव के 35 टुकड़े करने वाले आफताब के अम्मी-अब्बू इस केस के बारे में सब कुछ जानते हैं।

यह दावा श्रद्धा के दोस्त रजत शुक्ला ने किया है। रजत ने मीडिया को बताया कि जब वह मुंबई में थी, तब भी आफताब उससे मारपीट करता था। जलते हुए सिगरेट से श्रद्धा को जला देता था। जले हुए निशान को श्रद्धा ने अपने दोस्तों को भी दिखाया था। उस वक्त उसके सभी दोस्त पुलिस में जाना चाहते थे। लेकिन श्रद्धा आफताब को सुधरने का मौका देना चाहती थी।

श्रद्धा के दोस्त रजत ने आजतक को बताया, “आफताब हैवान था। ये लोग महाराष्ट्र वसई के रहने वाले थे। वसई के ही पास नायगाँव पड़ता है। यहाँ ये दोनों लिव-इन रिलेशनशिप में रहते थे। इनका जो एग्रीमेंट सामने आया है, उसके मुताबिक, इसमें इन दोनों ने खुद को पति-पत्नी दिखाया था। इसी एग्रीमेंट में आफताब के अम्मी-अब्बू के फोटो, उनके हस्ताक्षर और रजामंदी भी दिखी है।”

रजत ने दावा किया कि आफताब के अम्मी-अब्बू वसई के घर में रहते थे। वह केस की पूछताछ शुरू होने से 15 दिन पहले ही अपना घर छोड़कर कहीं जा चुके हैं। वे 23 साल से यहाँ रह रहे थे। इसका मतलब साफ है कि आफताब के घरवालों को इस बात की जानकारी थी कि उसने श्रद्धा का मर्डर कर दिया है।

श्रद्धा के दोस्त ने पुलिस पर सवाल उठाते हुए आगे कहा कि क्या इतना मुश्किल है आफताब के जिंदा अम्मी-अब्बू को ढूँढना? पुलिस क्या कर रही है अभी तक? अगर आफताब के अभिभावक को जीवित पकड़ लिया जाता है, तो ये जो नार्को टेस्ट की बात हो रही है या वह जो कहानियाँ रच रहा है, उससे यह केस बहुत आसान हो जाएगा।

श्रद्धा ये सब कुछ क्यों सह रही थी? उसके दिमाग में आफताब को लेकर क्या चल रहा था? इसके जवाब में रजत ने कहा, “वह बहुत ही बोल्ड, स्ट्रॉन्ग और आउटस्पोकन लड़की थी। उसको किसी बात का डर नहीं था। वो ब्लंट थी, उसको जो पसंद आ रहा और जो नहीं पसंद आ रहा है, उसको बोलने की क्षमता रखती थी। जिस तरीके से पूरे देश में यह माहौल बनाया जा रहा है कि वो एक बेचारी थी, प्यार में पागल हो गई थी। ये सब चीजें बिल्कुल भी सही नहीं हैं। श्रद्धा उस किस्म की इंसान नहीं थी।”

रजत शुक्ला ने इसके बाद यह भी बताया कि वह इस रिलेशनशिप में किस तरह का बर्ताव कर रही थी। उन्होंने कहा:

“श्रद्धा इस मामले में कुछ ना कुछ छिपा रही थी। वो क्या बात थी, जिसकी वजह से वह कंट्रोल दिख रही थी। वो आफताब से डरी हुई दिख रही थी। मुझे लगता है कि यह बहुत बड़ा ब्लैकमेलिंग हो सकता है। एक मेल पाटर्नर, एक फीमेल पाटर्नर को कई लेवल पर ब्लैकमेल कर सकता है। हो सकता है कि कुछ प्राइवेट मूमेंट्स के बारे में।”

श्रद्धा के दोस्त रजत शुक्ला ने अपनी बात जारी रखते हुए आगे यह भी शक जताया कि शायद उसे और उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दी गई हो। उनके अनुसार श्रद्धा शायद मजबूरी में आफताब के साथ रह रही थी। इसके पीछे रजत ने तर्क दिया कि वो इस रिलेशनशिप से बाहर निकलना चाहती थी, कई बार दोस्तों से उसने इस बारे में कहा भी था। फिर भी वह आफताब के साथ रहने को मजबूर थी।

रजत के मुताबिक, वह 2015 से 2019 तक श्रद्धा के साथ लगातार संपर्क में था। 2018 तक वह उससे ठीक से बात कर रही थी, उसके बाद वह थोड़ा डल हो गई थी। 2019 तक वह रूड हो चुकी थी। इसके बाद वह फ्रेंड सर्कल में कुछ ही लोगों तक सीमित रह गई थी। इसमें एक उसकी बेस्ट फ्रेंड थी और एक बचपन का दोस्त था।

दोस्तों के अलावा फैमिली में वो सिर्फ अपनी मम्मी और भाई के साथ टच में थी। रजत का कहना है, “हम एक दूसरे के बारे में जान जरूर रहे थे, लेकिन आफताब ने उसकी लाइफ को बहुत लिमिटेड कर दिया था। इससे श्रद्धा का किसी से सही से कॉमनिकेशन नहीं हो पा रहा था।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -