Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजगणतंत्र दिवस पर रोड़ जाम करने वाले 600 AMU छात्रों के ख़िलाफ अलीगढ़ पुलिस...

गणतंत्र दिवस पर रोड़ जाम करने वाले 600 AMU छात्रों के ख़िलाफ अलीगढ़ पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में गणतंत्र दिवस का कार्यक्रम CAA-विरोधी छात्रों के हंगामे की भेंट चढ़ गया था। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में 71वें गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान कुछ छात्रों ने परिसर में हंगामा कर व्यवस्था बिगाड़ने की कोशिश की थी।

सीएए के खिलाफ AMU में चल रहे विरोध प्रदर्शन के बीच यूपी पुलिस ने भी उपद्रवी छात्रों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है। 26 जनवरी को अपनी माँगों को लेकर आंदोलनकारी छात्रों द्वारा रोड को जाम करने वाले 600 छात्रों के खिलाफ यूपी पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है, जिसके बाद से पुलिस सीसीटीवी कैमरों की मदद से छात्रों की पहचान करने में जुट गई है।

गणतंत्र दिवस के दिन आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पहुँचे विश्वविद्यालय के वीसी तारिक मंसूर के खिलाफ सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे आंदोलनकारी छात्रों ने ‘गो बेक गो’ के नारे लगाते हुए उन्हें काले झंडे दिखाए थे। इस दौरान प्रॉक्टर टीम ने कार्रवाई करते हुए चार छात्रों को हिरासत में ले लिया। इसके बाद गुस्साए छात्रों ने चारों छात्रों को छोड़ने की माँग करते हुए मुरादाबाद रोड के एटा चुंगी रोड को जाम कर दिया था। वहीं छात्रों द्वारा किए जा रहे हंगामे को देखते हुए एएमयू प्रशासन ने तीन छात्रों को छोड़ दिया, लेकिन एक छात्र के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे जेल भेज दिया था।

अब रोड जाम करने की घटना को गंभीरता से लेते हुए यूपी पुलिस ने 600 एएमयू छात्रों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। वहीं अलीगढ़ पुलिस ने आगे की कार्रवाई करते हुए घटनास्थल के आस-पास के सभी सीसीटीवी कैमरों को खंगालना शुरू कर दिया है। सीओ सिविल लाईन अनिल समानियां के मुताबिक जाँच के आधार पर जो भी नाम सामने आएँगे उनके खिलाफ आगे की कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि जिस एक छात्र को जेल भेजा गया था, उसे कोर्ट से जमानत मिल गई है, जिसे जेल से रिहा कर दिया गया है।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में गणतंत्र दिवस का कार्यक्रम CAA-विरोधी छात्रों के हंगामे की भेंट चढ़ गया था। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में 71वें गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान कुछ छात्रों ने परिसर में हंगामा कर व्यवस्था बिगाड़ने की कोशिश की थी। इस दौरान हंगामा कर रहे छात्रों ने कुलपति वापस जाओ (VC Go Back) के नारे लगाए और उन्हें अपना भाषण देने से रोका था। इसके बाद वहाँ मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने उपद्रवी छात्रों को पकड़कर समारोह स्थल से बाहर कर दिया और कुछ को हिरासत में ले लिया था। जिसके बाद आंदोलनकारी छात्रों ने उग्र होकर हिरासत में लिए गए छात्रों की रिहाई की माँग करते हुए रोड को जाम कर दिया था।


 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe