Monday, April 22, 2024
Homeदेश-समाजलैपटॉप की तलाश में जुबैर को लेकर बेंगलुरु गई दिल्ली पुलिस, स्वयंभू फैक्टचेकर ने...

लैपटॉप की तलाश में जुबैर को लेकर बेंगलुरु गई दिल्ली पुलिस, स्वयंभू फैक्टचेकर ने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया

पुलिस को उम्मीद है कि उसके लैपटॉप से कई सारी संवेदनशील जानकारियाँ हासिल हो सकती हैं। पुलिस इस बात से और सतर्क हो गई है कि आखिर लैपटॉप में ऐसी क्या जानकारियाँ हैं, जिन्हें जुबैर पुलिस से छिपाना चाहता है और वह लैपटॉप उसे देना नहीं चाहता है। पुलिस को लैपटॉप से 50 लाख रुपए के लेनदेन सहित अन्य लेनदेन और उसके संपर्कों के बारे में जानकारियाँ मिल सकती हैं।

हिंदुओं के खिलाफ फेक न्यूज फैलाने के लिए कुख्यात और उनकी धार्मिक भावना को आहत करने के आरोप में गिरफ्तार ऑल्ट न्यूज (AltNews) के को-फाउंडर मोहम्मद जुबैर (Mohammad Zubair) को दिल्ली पुलिस बेंगलुरु (Bengaluru) लेकर पहुँची है। दिल्ली पुलिस जुबैर का लैपटॉप बरामद करना चाहती है, ताकि उसकी गतिविधियों की जानकारी हासिल की जा सके।

वहीं, जुबैर के वकील ने गुरुवार (30 जून 2022) को दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) में उसके पुलिस रिमांड के खिलाफ याचिका दायर की। इस मामले पर हाईकोर्ट की वैकेशन बेंच शुक्रवार (1 जुलाई 2022) को सुनवाई करेगी। बता दें कि दिल्ली की पाटियाला हाउस कोर्ट ने 28 जून को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की माँग पर जुबैर को 4 दिन की पुलिस रिमांड में भेजा है।

उधर, दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रेटेजिक ऑपरेशंस (IFSO) यूनिट मोहम्मद जुबैर को लेकर बेंगलुरु पहुँच गई है। पुलिस का सबसे अधिक फोकस उसके लैपटॉप बरामदगी को लेकर है। बता दें कि जुबैर ने गिरफ्तारी से पहले ही अपने मोबाइल को फॉरमेट कर उसका सारा डेटा डिलीट कर दिया था।

पुलिस का कहना है कि वह पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहा है और पुलिस को लगातार गुमराह करने की कोशिश कर रहा है। लैपटॉप के बारे में पूछने पर वह कुछ बता नहीं रहा है और उसे पुलिस को सौंपने से इनकार कर रहा है। पुलिस कहना है, “जुबैर एक धार्मिक समूह को नाराज करने के लिए जानबूझकर धर्म का इस्तेमाल कर रहा था। वह लोकप्रियता हासिल करने के लिए ऐसा कर रहा था।”

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल का कहना है कि लैपटॉप बरामद करने के बाद जुबैर के पोस्ट और हार्ड डिस्क मेमोरी की फोरेंसिक जाँच कराई जाएगी। लैपटॉप को रोहिणी स्थित CFSL में फोरेंसिक जाँच के लिए भेजा जाएगा।

पुलिस को उम्मीद है कि उसके लैपटॉप से कई सारी संवेदनशील जानकारियाँ हासिल हो सकती हैं। पुलिस इस बात से और सतर्क हो गई है कि आखिर लैपटॉप में ऐसी क्या जानकारियाँ हैं, जिन्हें जुबैर पुलिस से छिपाना चाहता है और वह लैपटॉप उसे देना नहीं चाहता है। पुलिस को लैपटॉप से 50 लाख रुपए के लेनदेन सहित अन्य लेनदेन और उसके संपर्कों के बारे में जानकारियाँ मिल सकती हैं।

अपनी वकील वृंदा ग्रोवर के जरिए जुबैर ने दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाया है कि उसे इसलिए परेशान किया जा रहा है, क्योंकि वह सत्ता में बैठे कुछ लोगों को चुनौती दे रहा था। बहरहाल पुलिस आज (बुधवार) को जुबैर को बेंगलुरू ले जा सकती है। हालाँकि, वहाँ भी उसे अपने वकील से मिलने की इजाजत होगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बेटी नेहा की हत्या पर कॉन्ग्रेस नेता को अपनी ही कॉन्ग्रेसी सरकार पर भरोसा नहीं: CBI जाँच की माँग, कर्नाटक पुलिस पर दबाव में...

इससे पहले रविवार शाम को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केन्द्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी भी निरंजन से मिलने पहुँचे। उन्होंने भी फयाज के हाथों नेहा की हत्या में सीबीआई जाँच की माँग की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe