Friday, July 1, 2022
Homeदेश-समाजAMU के वीसी तारिक मंसूर को जान का खतरा, DGP से लगाई सुरक्षा की...

AMU के वीसी तारिक मंसूर को जान का खतरा, DGP से लगाई सुरक्षा की गुहार

विश्विद्यालय के वीसी ने सोशल मीडिया पर खुद के बारे में फैलाए जा रहे दुष्प्रचार का स्क्रीन शॉट भी पत्र के साथ अटैच किया है। इसमें उन्हें संघ व भाजपा का समर्थक बताते हुए आपत्तिजनक बातें लिखी गई हैं। सीएए के विरोध के नाम पर कैंपस में हाल में हिंसा हुई थी।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में बीते 15 दिसंबर को छात्रों और पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद से बंद कैंपस अब दोबारा खुलने को तैयार है। इस बीच यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रोफेसर तारिक मंसूर ने अपनी जान का खतरा बताते हुए प्रदेश के चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी को चिट्ठी लिखी है। इसमें उन्होंने अपनी और परिवार की सुरक्षा की बात कही है। अलीगढ़ एसएसपी आकाश कुलहरि ने कहा कि एएमयू के वाइस चांसलर को सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।

आकाश कुलहरि ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “हमें एएमयू वीसी का पत्र मिला है जिसमें उन्होंने कहा है कि कुछ असामाजिक तत्वों ने उनके और रजिस्ट्रार के खिलाफ पोस्टर लगाए हैं। उन्होंने अतिरिक्त सुरक्षा की माँग की है। हम वीसी और रजिस्ट्रार को अतिरिक्त सुरक्षा दे रहे हैं। मैं आज शाम डीएम, वीसी और रजिस्ट्रार से मिलूँगा।”

बता दें कि विश्वविद्यालय 13 जनवरी को खुलने वाला है। इससे पहले वाइस चांसलर ने खुद के और अपने परिवार के ऊपर जान का खतरा बताते हुए कैंपस में फिर से हिंसा की आशंका जताई है। उनका कहना है कि 13 जनवरी को विश्विद्यालय के खुलने के बाद असामाजिक तत्व या फिर वो छात्र जिन्हें, निष्कासित कर दिया गया है, वो माहौल खराब करने के लिए हिंसा या उपद्रव जैसे वारदात को अंजाम दे सकते हैं। वीसी ने पुलिस प्रशासन से समय रहते सतर्क रहने के लिए कहा है, ताकि इस तरह की हिंसक कार्रवाई से बचा जा सके।

एएमयू वीसी ने शुक्रवार (जनवरी 10, 2019) को प्रदेश के मुख्य सचिव, गृह सचिव, डीजीपी, डीएम, एसएसपी को लिखे पत्र में कहा है कि 13 जनवरी को एएमयू खुलने के बाद असामाजिक व गुंडा तत्व कानून-व्यवस्था के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं। ये लोग उन्हें व उनके परिवार को भी नुकसान पहुँचा सकते हैं। विश्विद्यालय के वीसी ने पत्र के साथ सोशल मीडिया पर उनको लेकर फैलाए जा रहे दुष्प्रचार का स्क्रीन शॉट भी अटैच किया है। इसमें उन्हें संघ व भाजपा का समर्थक बताते हुए आपत्तिजनक बातें लिखी गई हैं।

अलीगढ़ के डीएम चंद्रभूषण सिंह ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि एएमयू वीसी द्वारा लिखे गए पत्र में एसएसपी को यूनिवर्सिटी खुलने पर पर्याप्त सुरक्षा के इंतजाम करने को कहा गया है। बता दें कि नागरिकता संशोधन क़ानून (CAA) के विरोध के नाम पर बीते दिसंबर में AMU ने अपने नारों से देश को चौंका दिया था। प्रदर्शनकारी छात्रों ने “हिन्दुत्व की क़ब्र खुदेगी AMU की धरती पर” जैसे नारे लगाए थे। AMU के इन नफरती नारों को लेकर देशभर में आक्रोश देखा गया। इस घटना पर संज्ञान लेते हुए पुलिस ने 50-60 छात्रों के ख़िलाफ़ धारा-153 ए के तहत मुक़दमा दर्ज किया है।

नफरती नारों में AMU ने JNU को पछाड़ा, हिन्दुत्व के बाद मोदी और योगी की भी कब्र खोदी

AMU में दंगा करने वाले 12 की हुई पहचान: लगेगा गुंडा एक्ट, 6 महीने के लिए होंगे तड़ीपार

हिंदुस्तान की पहली घटना! अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों ने ही वाइस चांसलर को किया ‘निष्कासित’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsएएमयू वीसी तारिक मंसूर, एमएमयू वीसी ने सुरक्षा की गुहार लगाई, तारिक मंसूर सुरक्षा, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, एएमयू प्रोटेस्ट, एएमयू बंद, एएमएयू में लगे उत्तेजक नारे, cab and nrc hindi, CAA मुसलमान, नागरिकता कानून मुसलमान, नागरिकता कानून मीडिया, नागरिकता कानून सेक्युलर, नागरिकता संशोधन कानून, नागरिकता संशोधन कानून क्या है, नागरिकता संशोधन कानून 2019, नागरिकता हिंसा, भारत विरोधी नारे, citizenship amendment act, CAA, कौन बन सकता है भारतीय नागरिक, कैसे जाती है नागरिकता, कैसे खत्म होती है भारतीय नागरिकता, विपक्ष का हंगामा, अमित शाह न्यूज़, नागरिकता काननू अमित शाह, हिन्दू मुस्लिम दंगे, मुस्लिम हरामी क्यो होते है, nrc ke bare mein muslim mulkon ki rai, cab सबसे पहले नेहरू लाना चाहता था, aachi speech nagrik sasodan videyak
ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,242FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe