Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाज'जब तक हैं हमारे मस्तक, मूर्ति को स्पर्श नहीं कर पाएगा औरंगजेब': मथुरा से...

‘जब तक हैं हमारे मस्तक, मूर्ति को स्पर्श नहीं कर पाएगा औरंगजेब’: मथुरा से नाथद्वारा आए थे श्रीनाथ जी, यहीं हुई अनंत-राधिका की सगाई

श्रीनाथ मंदिर को जब औरंगजेब इस मंदिर को तुड़वाने का आदेश दिया तो मंदिर के पुजारी श्रीनाथजी के विग्रह को लेकर घूमते रहे और अंत में राजस्थान चले गए। उन्हें मेवाड़ के महाराणा राज सिंह ने आश्रय का वचन देते हुए कहा, “जब तक मेरे एक लाख राजपूतों के मस्तक कट नहीं जाते, तब तक औरंगजेब श्रीनाथ जी की मूर्ति को स्पर्श भी नहीं कर पाएगा।”

प्रसिद्ध उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के बेटे अनंत अंबानी (Anant Ambani) और राधिका मर्चेंट (Radhika Merchant) का ‘रोका’ (सगाई) समारोह राजस्थान के श्रीनाथजी मंदिर में गुरुवार (29 दिसंबर 2022) को संपन्न हुआ। राधिका बिजनेसमैन वीरेन मर्चेंट की बेटी हैं।

इस ‘रोका’ समारोह में दोनों परिवार के करीबी लोग शामिल हुए। यंग कपल अनंत और राधिका के मुंबई पहुँचने पर जोरदार स्वागत हुआ। इस दौरान मुकेश अंबानी के घर ‘एंटीलिया’ में दोनों पर फूल बरसाए गए और ढोल-नगाड़ों के साथ शानदार स्वागत किया गया।

उल्लेखनीय है कि रोका समारोह में मुकेश अंबानी, कोकिला बेन अंबानी, नीता अंबानी, आकाश अंबानी, आनंद पीरामल सहित परिवार के अन्य लोग शामिल थे। ये लोग गुरुवार (29 दिसंबर 2022) को दोपहर को नाथद्वारा के श्रीनाथजी मंदिर में पहुँचे थे।

इस मौके पर श्रीनाथजी मंदिर को शानदार तरीके से सजाया गया था। अनंत और राधिका यहाँ पारंपरिक राज-भोग-श्रृंगार समारोहों में भी शामिल हुए। दोनों अब जल्द ही शादी के बंधन में बँधेंगे। राधिका और अनंत बचपन से एक दूसरे को जानते हैं।

क्या है श्रीनाथजी मंदिर का इतिहास

श्रीनाथजी का मंदिर नाथद्वारा के बनास नदी के किनारे स्थित है। श्रीनाथजी को भगवान कृष्ण का 7 वर्षीय बाल स्वरूप माना जाता है। नाथपुरा में श्रीनाथजी की स्थापना के पीछे की कहानी काफी रोचक है। दरअसल पहले यह मंदिर मथुरा में स्थित था। मुस्लिम आक्रांता औरंगजेब ने 1670 ईस्वी के आसपास हिन्दू मंदिरों को तोड़वाने में लगा था। उसी दौरान वह मथुरा स्थित श्रीनाथजी मंदिर में भी तोड़-फोड़ करवाने लगा।

औरंगजेब के अत्याचार से बचने के लिए मंदिर के पुजारी भगवान के विग्रह को बैलगाड़ी में रखकर जाने लगे। उन्होंने मेवाड़ के महाराजा महाराणा राजसिंह (Maharana Raj Singh) के पास संदेश भेजवाकर आश्रय देने का आग्रह किया। महाराणा राज सिंह ने उन्हें आश्रय का वचन दिया और कहा था, “जब तक मेरे एक लाख राजपूतों के मस्तक कट नहीं जाते, तब तक औरंगजेब श्रीनाथ जी की मूर्ति को स्पर्श भी नहीं कर पाएगा।”

पुजारियों ने मंदिर निर्माण के लिए उदयपुर से 50 किलोमीटर दूर बनास नदी के किनारे सिहाड़ नाम के ग्राम को चुना। 20 फरवरी 1672 ईस्वी को श्रीनाथ जी को वहाँ स्थापित कर दिया गया। आज वह स्थान ‘नाथद्वारा’ के नाम से दुनिया भर में प्रसिद्ध है।

इस मंदिर से अंबानी परिवार का खास नाता है। यह परिवार लगातार यहाँ आता रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक, मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी भी यहाँ अपनी माँ के साथ आते रहे हैं। वहीं कई महत्वपूर्ण व्यापारिक फैसलों से पहले भी यह परिवार श्रीनाथजी के दर्शन करने यहाँ पहुँचता है।

कौन हैं राधिका मर्चेंट

राधिका मर्चेंट उद्योगपति वीरेन मर्चेंट की बेटी हैं। मर्चेंट गुजरात के कच्छ के रहने वाले हैं। वह ‘एनकोर हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड’ के CEO और वाइस चेयरमैन हैं। वहीं राधिका ने राजनीति और अर्थशास्त्र में न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है। राधिका फ़िलहाल एनकोर हेल्थकेयर के बोर्ड में डायरेक्टर हैं। वह इंडियन क्लासिकल डांसर भी हैं। उन्हें ट्रैकिंग और स्विमिंग करने का शौक है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राक्षस के नाम पर शहर, जिसे आज भी हर दिन चाहिए एक लाश! इंदौर की महारानी ने बनवाया, जयपुर के कारीगरों ने बनाया: बिहार...

गयासुर ने भगवान विष्णु से प्रतिदिन एक मुंड और एक पिंड का वरदान माँगा है। कोरोना महामारी के दौरान भी ये सुनिश्चित किया गया कि ये प्रथा टूटने न पाए। पितरों के पिंडदान के लिए लोकप्रिय गया के इस मंदिर का पुनर्निर्माण महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था, जयपुर के गौड़ शिल्पकारों की मेहनत का नतीजा है ये।

मार्तंड सूर्य मंदिर = शैतान की गुफा: विद्यार्थियों को पढ़ाने वाला Unacademy का जहरीला वामपंथी पाठ, जानिए क्या है इतिहास

मार्तंड सूर्य मंदिर को 8वीं शताब्दी ईस्वी में बनाया गया था और यह हिंदू धर्म के प्रमुख सूर्य देवता सूर्य को समर्पित है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -