Tuesday, August 3, 2021
Homeदेश-समाजबीवी की करानी थी डिलीवरी: 6 बच्चों और गर्भवती पत्नी को बाइक पर बिठा...

बीवी की करानी थी डिलीवरी: 6 बच्चों और गर्भवती पत्नी को बाइक पर बिठा अरशद निकला हॉस्पिटल

अरशद के परिवार में उसके और उसकी पत्नी के अलावा कोई वयस्क व्यक्ति नहीं था, इसलिए वो पूरे परिवार को ही बाइक पर बिठा कर हॉस्पिटल ले जा रहा था।

मथुरा के कोसीकलाँ हाइवे से एक ऐसी घटना आई है, जिससे पुलिस वाले भी हैरान हो गए। एक युवक सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ाता हुआ बाइक से चला जा रहा था। वो अकेले नहीं था बल्कि उसके साथ उसकी गर्भवती पत्नी भी थी। पत्नी के अलावा वो अपने 6 बच्चों को भी बाइक से लेकर जा रहा था। वो अपनी पत्नी को डिलीवरी के लिए ले जा रहा था। खुर्जा में जब पुलिस ने उसे रोका तो उसने बताया कि उसकी पत्नी के पेट में दर्द है और डिलीवरी के लिए उसे ले जा रहा है।

वो हॉस्पिटल जा रहा था और उसने मेडिकल इमरजेंसी की बात बताई थी, इसीलिए पुलिसकर्मियों ने उसे जाने दिया। ये घटना गुरुवार (अप्रैल 16, 2020) की सुबह 10:30 की है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि अरशद अपनी बाइक पर अपनी पत्नी मुवीना और 6 बच्चों को बिठा कर हॉस्पिटल जा रहा था। इतने लोगों को एक ही बाइक पर बैठे देख कर उसे पुलिसकर्मियों ने रोका और सवाल पूछे। उसने अपना दुखदुखड़ा सुनाया तो पुलिस ने उसे तुरंत जाने की इजाजत दे दी।

अरशद के परिवार में उसके और उसकी पत्नी के अलावा कोई वयस्क व्यक्ति नहीं था, इसलिए वो पूरे परिवार को ही बाइक पर बिठा कर हॉस्पिटल ले जा रहा था। तस्वीरों में स्पष्ट दिख रहा है कि उसके बच्चों ने मास्क तक नहीं पहना हुआ था। स्वास्थ्य विभाग बार-बार कह रहा है कि घर के बच्चों और बुजुर्गों का कोरोना से बचाव को लेकर ज्यादा ख्याल रखें। अरशद के सभी 6 बच्चे बिना मास्क के थे।

‘हिंदुस्तान’ के मथुरा संस्करण में प्रकाशित ख़बर

बता दें कि ये पहली बार नहीं है जब कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच इस तरह की हरकत की गई हो। निजामुद्दीन के मरकज में हुए मजहबी कार्यक्रम से लेकर पुलिसकर्मियों व सुरक्षाकर्मियों पर हमले तक, इससे बड़ी-बड़ी कई घटनाएँ सामने आई हैं, जिनमें न सिर्फ़ कोरोना को लेकर सरकारी दिशा-निर्देशों, बल्कि क़ानून का भी जम कर उल्लंघन किया गया। यूपी में ऐसे कई मामलों में सख्ती से निपटा गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अ शिगूफा अ डे, मेक्स द सीएम हैप्पी एंड गे: केजरीवाल सरकार का घोषणा प्रधान राजनीतिक दर्शन

अ शिगूफा अ डे, मेक्स द CM हैप्पी एंड गे, एक अंग्रेजी कहावत की इस पैरोडी में केजरीवाल के राजनीतिक दर्शन को एक वाक्य में समेट देने की क्षमता है।

एक का छत से लटका मिला शव, दूसरे की तालाब से मिली लाश: बंगाल में फिर भाजपा के 2 कार्यकर्ताओं की हत्या

एक मामला बीरभूम का है और दूसरा मेदिनीपुर का। भाजपा का कहना है कि टीएमसी समर्थित गुंडों ने उनके कार्यकर्ताओं की हत्या की जबकि टीएमसी इन आरोपों से किनारा कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,842FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe