अयोध्या: फ़ैसले से पहले ही SC का अभूतपूर्व क़दम, CJI को Z प्लस सिक्योरिटी

सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले से पहले राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी सुरक्षा व्यवस्था चाकचौबंद कर दी गई है। इस फ़ैसले से पहले सुप्रीम कोर्ट के जजों की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को जेड प्लस सुरक्षा दी गई है।

अयोध्या भूमि विवाद मामले में मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, एसए बोबडे और न्यायमूर्ति अशोक भूषण को अयोध्या में क़ानून और व्यवस्था सुनिश्चित करने संबंधी जानकारी से अवगत कराने के लिए यूपी के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक ने शुक्रवार (8 नवंबर) को ब्रीफिंग की।

CJI और दो अन्य जजों को बताया गया कि अयोध्या या राज्य के किसी भी हिस्से में अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षाबल की तैनाती की गई है और प्रशासन पूरी तरह से फिट है। यह तीनों न्यायाधीश पाँच जजों वाली पीठ का हिस्सा हैं, जो शनिवार को मामले पर अपना फ़ैसला सुनाएगी।

पीठ में अन्य दो न्यायाधीश जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और एस अब्दुल नज़ीर भी शामिल हैं। अयोध्या में 4,000 से अधिक अर्धसैनिक बलों की तैनाती के सन्दर्भ में एक घंटे से अधिक समय तक चली बैठक में मुख्य सचिव और डीजीपी ने CJI को सूचित किया। जजों को यह भी बताया गया कि रैपिड एक्शन फ़ोर्स प्रशासन द्वारा चिन्हित किए गए 78 हॉटस्पॉटों पर निरंतर निगरानी रखेगी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि पिछले कुछ महीने से सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामले की सुनवाई निरंतर हो रही थी। आज आने वाला फ़ैसला इसलिए भी अनूठा है क्योंकि आमतौर पर शनिवार को कोर्ट की छुट्टी रहती है, लेकिन फ़ैसले के लिए शनिवार का दिन चुनना भी अपने आप में एक ऐतिहासिक क़दम है।

सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले से पहले राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी सुरक्षा व्यवस्था चाकचौबंद कर दी गई है। इस फ़ैसले से पहले सुप्रीम कोर्ट के जजों की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को जेड प्लस सुरक्षा दी गई है। वहीं बाकी जजों की और उनके आवास समेत सुप्रीम कोर्ट परिसर और आसपास की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

ख़बर के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट की इनर मोस्ट जोन की सुरक्षा भी दिल्ली पुलिस की सिक्युरिटी यूनिट के हवाले रहती है। इसलिए सुप्रीम कोर्ट के अंदर जो सुरक्षा होगी। वह सिक्योरिटी यूनिट देखेगी। पूरे इलाके को सुरक्षा घेरे में ले लिया गया है। सुप्रीम कोर्ट की तरफ जाने वाली सभी सड़कों की निगरानी बढ़ा दी गई है। तिलक मार्ग, भगवानदास रोड, मथुरा रोड, महादेव रोड और इंडिया गेट सर्कल की सुरक्षा न्यू दिल्ली डिस्ट्रिक्ट पुलिस देखेगी।

सुप्रीम कोर्ट समेत कई इलाकों में पेट्रोलिंग शुरू कर दी गई है। संदिग्ध लोगों पर नज़र रखी जा रही है। अयोध्या मामले पर फ़ैसले से पहले दिल्ली पुलिस ने एक्स्ट्रा फोर्स भी बुलाई है। उन सभी को नई दिल्ली इलाके में भी तैनात किया जाएगा। सभी की तैनाती शुरू हो चुकी है। डीसीपी नई दिल्ली और जॉइंट सीपी नई दिल्ली रेंज सुरक्षा व्यवस्था कड़ी करने में जुटे हुए हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"हिन्दू धर्मशास्त्र कौन पढ़ाएगा? उस धर्म का व्यक्ति जो बुतपरस्ती कहकर मूर्ति और मन्दिर के प्रति उपहासात्मक दृष्टि रखता हो और वो ये सिखाएगा कि पूजन का विधान क्या होगा? क्या जिस धर्म के हर गणना का आधार चन्द्रमा हो वो सूर्य सिद्धान्त पढ़ाएगा?"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

115,259फैंसलाइक करें
23,607फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: