Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजबद्रीनाथ में नहीं मनेगी बकरीद, 45 किलोमीटर दूर जोशीमठ जाने को तैयार हुए मुस्लिम:...

बद्रीनाथ में नहीं मनेगी बकरीद, 45 किलोमीटर दूर जोशीमठ जाने को तैयार हुए मुस्लिम: पुरोहित समाज की चेतावनी के बाद बनी सहमति

बद्रीनाथ में अधिकतर वही मुस्लिम हैं जो बहार से वहाँ मजदूरी करने आए हैं। इनमें बढ़ई और प्लम्बरों के अलावा वो लोग शामिल हैं जिन्हें विकास परियोजनाओं में काम करने के लिए वहाँ लाया गया है।

उत्तराखंड के बद्रीनाथ में बकरीद (ईद-उल-अज़हा) नहीं मनाई जाएगी। इस बार मुस्लिमों का ये त्योहार गुरुवार (29 जून, 2023) को पड़ रहा है। बता दें कि छोटा चारधाम यात्रा का एक पड़ाव बद्रीनाथ भी होता है। यात्रा के समय प्रतिवर्ष यहाँ लाखों श्रद्धालु आते हैं। वहाँ और आसपास रहने वाले मुस्लिमों को पुलिस-प्रशासन द्वारा बोल दिया गया है कि वो 45 किलोमीटर दूर स्थित जोशीमठ में जाकर वहाँ बकरीद का त्योहार मना सकते हैं। मुस्लिम समाज ने इसे मान भी लिया है।

पुजारियों, होटल संघों, बद्रीनाथ मास्टर प्लान के निर्माण में शामिल कंपनियों और स्थानीय मुस्लिमों के साथ मंगलवार को हुई पुलिस-प्रशासन की बैठक के बाद ये निर्णय लिया गया। बद्रीनाथ पुलिस थाने में ये बैठक हुई। बद्रीनाथ में अधिकतर वही मुस्लिम हैं जो बहार से वहाँ मजदूरी करने आए हैं। इनमें बढ़ई और प्लम्बरों के अलावा वो लोग शामिल हैं जिन्हें विकास परियोजनाओं में काम करने के लिए वहाँ लाया गया है। इन सभी को बुधवार से भी छुट्टियाँ दे दी गई हैं, ताकि ये समय पर जोशीमठ पहुँच सकें।

पुरोला और बरकोट में जिस तरह से ‘लव जिहाद’ के खिलाफ तनाव पैदा हुआ है और हिन्दू सड़क पर उतरे हैं, उस परिस्थिति में ये निर्णय लिया गया है। ‘बद्रीनाथ होटल एसोसिएशन’ के अध्यक्ष राजेश मेहता के अलावा परियोजनाओं के ठेकेदारों को भी पुलिस ने बैठक में बुलाया था। होटल व्यवसायी विश्वेश्वर प्रसाद नैथानी ने बताया कि किसी भी तरह के विवाद से बचने के लिए और किसी की भावनाएँ आहत न हों इसीलिए ये निर्णय लिया गया। मुस्लिम प्रतिनिधियों ने लिखित में दे दिया है कि उन्हें इस निर्णय से कोई आपत्ति नहीं है।

‘बद्रीनाथ केदारनाथ टेम्पल कमिटी (BKTC)’ के अध्यक्ष अजयेन्द्र अजय ने कहा कि मुस्लिम समाज के लोग जोशीमठ जाकर बकरीद मनाने के लिए तैयार हो गए हैं। वहीं थानाध्यक्ष लक्ष्मी प्रदेश बिजलीवन ने कहा कि पिछले वर्ष भी ऐसा ही हुआ था। इस बार भी किसी ने आपत्ति नहीं जताई। 2021 में 20 मुस्लिमों द्वारा बद्रीनाथ मंदिर परिसर में नमाज पढ़ने की घटना के बाद तनाव पैदा हो गया था। हालाँकि, पुलिस ने नकारते हुए कहा था कि ऐसी कोई घटना नहीं हुई है।

पुजारियों ने इस संबंध में कुछ दिन पहले ही चेतावनी दी थी। बद्रीनाथ के पंडा समाज और पुरोहितों ने चेताया था कि अगर मंदिर क्षेत्र या फिर हनुमान चट्टी पर बकरीद मनाई गई तो वो लोग आंदोलन करेंगे। वैसे भी पुरोला में हिन्दू समाज की लड़की के अपहरण की घटना के बाद से कई मुस्लिम व्यापारी उत्तराखंड से फरार हो गए हैं। उत्तराखंड में बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री को छोटा चारधाम के नाम से जाना जाता है। अलकनंदा नदी के किनारे सहित भगवान विष्णु का धाम बद्रीनाथ 10,276 फ़ीट की ऊँचाई पर स्थित है और चारधाम यात्रा का अंतिम पड़ाव है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

आजादी के वक्त थे 3 मुस्लिम बहुल जिले, अब 9 हैं: बंगाल BJP प्रमुख ने कहा- असम और बंगाल में डेमोग्राफी बदलाव सोची-समझी रणनीति,...

बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने असम के सीएम हिमंता के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने डोमोग्राफी बदलाव की बात कही थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -