Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाज'सुक्खे का बदला ले लिया': लॉरेन्सी बिश्नोई के खास शूटर को गोलियों से भूना...

‘सुक्खे का बदला ले लिया’: लॉरेन्सी बिश्नोई के खास शूटर को गोलियों से भूना फिर जला डाला, बंबीहा गैंग ने दिया वारदात को अंजाम

कहा जा रहा है कि विदेश में बैठकर बंबीहा गैंग की कमान संभाल रहे गैंगस्टर लकी पटियाल और कनाडा में बैठे गैंगस्टर और खालिस्तानी आतंकी अर्श डल्ला ने बिश्नोई गैंग के शूटर राजन की हत्या करवाई है।

हरियाणा के सोनीपत जिले में बंबीहा गैंग ने लॉरेंस बिश्नोई के खास शूटर राजन को गोलियों से भूनकर मार डाला। राजन कुरुक्षेत्र का रहने वाला था। उसे लॉरेंस बिश्नोई का खास शूटर माना जाता था। बंबीहा गैंग के शूटर्स ने हरियाणा के यमुना नगर में पहले उसे गोलियाँ मारी, फिर शव को आग के हवाले कर दिया। कहा जा रहा है कि आतंकी गैंगस्टर अर्श डल्ला के इशारे पर इस वारदात को अंजाम दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक, यमुनानगर में गुलाबगढ़ नहर के पास जला हुआ शव मिला। युवक के हाथ-पाँव पूरी तरह से बँधे हुए थे। शव पूरी तरह से जला हुआ था, आधा हिस्सा शरीर का गायब था। युवक की पहचान लाडवा के रहने वाले राजन के रूप में हुई है, जो मेहरा गाँव का रहने वाला है। हत्या की सूचना मिलते ही यमुनानगर सदर थाने की पुलिस और फॉरेंसिक टीम समेत सीआईए की टीम मौके पर पहुँची।

बंबीहा गैंग ने कहा है कि यह हत्या लॉरेंस बिश्नोई के गैंग के खिलाफ बदला लेने के लिए की गई है। बंबीहा गैंग ने लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी को चैलेंज करते हुए पोस्ट में लिखा है – सिद्धू मूसेवाला को बिना कसूर के मारा। कनाडा में सुक्खा दुनुके को भरोसे में लेकर उसकी हत्या करवाई। हमने सुक्खा के मर्डर का बदला ले लिया। जल्द सबका हिसाब होगा।

कहा जा रहा है कि विदेश में बैठकर बंबीहा गैंग की कमान संभाल रहे गैंगस्टर लकी पटियाल और कनाडा में बैठे गैंगस्टर और खालिस्तानी आतंकी अर्श डल्ला ने बिश्नोई गैंग के शूटर राजन की हत्या करवाई है। इस गैंग ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट कर हत्या करने की जिम्मेदारी भी ली है। राजन को लॉरेंस बिश्नोई का खास शूटर माना जाता था। बंबीहा गैंग के शूटर्स ने हरियाणा के यमुना नगर में पहले उसे गोलियाँ मारी, फिर शव को आग के हवाले कर दिया। कहा जा रहा है कि आतंकी गैंगस्टर अर्श डल्ला के इशारे पर इस वारदात को अंजाम दिया गया है। राजन पर कई हत्याओं और अपहरण के आरोप थे। इस हत्या से दोनों गैंगों के बीच गैंगवार तेज होने की संभावना है।

जालंधर में पकड़े गए थे लॉरेंस बिश्नोई गैंग के दो बदमाश

बता दें कि 20 जनवरी 2024 को जालंधर में लॉरेंस बिश्नोई गैंग के दो बदमाश मुठभेड़ के बाद पकड़े गए थे। ये बदमाश हत्या, सुपारी किलिंग और ड्रग तस्करी की कई घटनाओं में शामिल थे। पकड़े गए बदमाशों मेम पहला नितिन जालंधर का रहने वाला है और दूसरा अश्वनी गांव बुलोवाल का रहने वाला है। ये दोनों बदमाश दो वारदातों को अंजाम देने के लिए अपनी योजना के मुताबिक 2 लोगों की रेकी कर रहे थे और पुलिस ने इसकी जानकारी प्राप्त होने के बाद से अपना जाल बिछा रखा था।

जानकारी के मुताबिक, जालंधर में नाखा वाले बाग नजदीक वडाला चौक पर दो गैंगस्टर और सीआईए स्टाफ के बीच गोलियाँ चली थी। इस दौरान दोनों बदमाश गंभीर रूप से घायल हो गए। काबू किए गए आरोपी हत्या, सुपारी किलिंग और ड्रग तस्करी के मामलों में शामिल थे। वहीं इस मुठभेड़ के दौरान एक पुलिसकर्मी की बाल-बाल जान बच गई। बताया जा रहा है कि गोली उनकी पगड़ी में फँस गई, जिसके चलते वह बच गए और उन्हें कोई चोट नहीं आई।

पुलिस अधिकारी ने बताया था कि ये दोनों अमेरिका में बैठे जसमीत उर्फ लकी के साथ लॉरेंस बिश्नोई के संपर्क में थे। लकी ने ही इन दोनों बदमाशों को जालंधर में किसी व्यक्ति की रेकी करने के लिए भेजा था। बताया जा रहा है कि देर रात से सीआईए स्टाफ की टीम इन आरोपियों की तलाश कर रही थी। आरोपियों से पिस्टल और कार भी पुलिस ने जब्त की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -