Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाज'अपनी मर्जी से बिलाल के साथ गई, मेडिकल टेस्ट नहीं कराऊँगी': फर्जी हिन्दू प्रेमी...

‘अपनी मर्जी से बिलाल के साथ गई, मेडिकल टेस्ट नहीं कराऊँगी’: फर्जी हिन्दू प्रेमी के बचाव में उतरी ₹8 लाख लेकर घर से भागी छात्रा

जब पुलिस और अस्पताल कर्मचारी छात्रा को उसके मेडिकल टेस्ट के लिए लेकर गए तो उसने अपने आधार कार्ड और हाईस्कूल के प्रमाण पत्रों को सामने रखकर खुद के बालिग होने की रट लगा दी और परीक्षण से इनकार कर दिया। उसने कहा कि जब उसके पास बालिग होने के सबूत हैं, फिर वो भला क्यों मेडिकल परीक्षण कराएगी?

बरेली के ‘लव जिहाद’ मामले में नया मोड़ आया है। किला थाने में हिंदूवादी संगठनों के विरोध प्रदर्शन के बाद आरोपित युवक बिलाल को अजमेर से गिरफ्तार तो किया गया, लेकिन आरोपित ने दावा किया है कि उसने छात्रा से निकाह कर लिया है। वहीं छात्रा भी उसके बचाव में जुटी हुई है, जिससे पुलिस सकते में है। छात्रा ने न सिर्फ हॉस्पिटल के कर्मचारियों, बल्कि मजिस्ट्रेट के सामने भी एक के बाद एक दलीलें रख कर अपने क़ानूनी अधिकारों की बातें की।

इसके बाद उक्त छात्रा को नारी निकेतन भेज दिया गया है। अभी तक उसका मेडिकल टेस्ट नहीं हो सका है। अजमेर के होटल से मिलने के तुरंत बाद ही लड़की ने दो टूक कहा था कि वह बालिग है और अपनी मर्जी से प्रेमी बिलाल के साथ आई है। वो इसी बात को लगातार दोहरा रही है। जहाँ छात्रा शादी की बात से इनकार कर रही है, बिलाल का कहना है कि उनलोगों का निकाह हो चुका है। अब बरेली पुलिस भी असमंजस में है।

‘अमर उजाला’ की खबर के अनुसार, जब पुलिस और अस्पताल कर्मचारी छात्रा को उसके मेडिकल टेस्ट के लिए लेकर गए तो उसने अपने आधार कार्ड और हाईस्कूल के प्रमाण पत्रों को सामने रखकर खुद के बालिग होने की रट लगा दी और परीक्षण से इनकार कर दिया। उसने कहा कि जब उसके पास बालिग होने के सबूत हैं, फिर वो भला क्यों मेडिकल परीक्षण कराएगी? वो अस्पताल के कर्मचारियों से ही उलझ बैठी।

परेशान बरेली पुलिस को छात्र का मेडिकल परीक्षण कराए बिना ही लौटना पड़ा। अब उसके प्रमाण-पत्रों की जाँच होगी, जिसके बाद न्यायालय निर्णय लेगा कि आगे क्या किया जाना है। फ़िलहाल छात्रा ने अपने घर जाने से इनकार कर दिया है और बिलाल के साथ रहने की इच्छा प्रकट की है। उसे मंगलवार (अक्टूबर 27, 2020) को कोर्ट में पेश किया जाएगा। कोर्ट में वो क्या बयान देती है, इस पर सभी की नजर है।

लड़की के पिता ने बताया था कि बिलाल अक्सर हिंदू लड़कों की तरह रहा करता था और उसके कुछ और दोस्त भी तिलक लगाया करते थे। वो और उसके दोस्त हाथ में रक्षासूत्र भी बाँधते थे, जिसे देखकर लगता था कि वे हिंदू हैं। बेटी के घर से गायब होने के बाद जब उन्होंने बिलाल के बारे में पता किया, तब जाकर जानकारी मिली कि वो दूसरे मजहब का था। उसका दूध-दही का व्यापार है। उनका आरोप था कि बिलाल ने उनकी बेटी पर दबाव बनाया है। 

नकली आधार कार्ड बना कर इस्तेमाल करने के आरोप में बिलाल को फ़िलहाल जेल भेजा गया है। वहीं जारी किए गए वीडियो में लड़की असहज दिख रही थी और ऐसा लग रहा था कि वो घबराहट में बयान जारी कर रही है। बिलाल के पास से पुलिस ने चोरी के 3 लाख रुपए के साथ-साथ सोने की चैन भी बरामद कर ली है। हालाँकि, परिवार वालों का आरोप है कि बेटी 8 लाख रुपए लेकर घर से भागी थी।

बता दें कि बरेली में शनिवार (अक्टूबर 17, 2020) को एक लड़की गायब हो गई थी, जिसके परिवार ने आरोप लगाया था कि दूसरे समुदाय के एक युवक ने उससे शादी कर ली है। आरोप था कि ये शादी जोर-जबरदस्ती की गई। बरेली में भाजपा और विहिप के कार्यकर्ताओं ने इस घटना को ‘लव जिहाद’ बताते हुए थाने में जाकर विरोध प्रदर्शन किया था और छात्रा को छुड़ाने के साथ-साथ मामले में बिलाल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की माँग की थी। लड़की बीएससी की छात्रा है और कम्प्यूटर कोचिंग के लिए जाती थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अच्छा! तो आपने मुझे हराया है’: विधानसभा में नवीन पटनायक को देखते ही हाथ जोड़ कर खड़े हो गए उन्हें हराने वाले BJP के...

विधानसभा में लक्ष्मण बाग ने हाथ जोड़ कर वयोवृद्ध नेता का अभिवादन भी किया। पूर्व CM नवीन पटनायक ने कहा, "अच्छा! तो आपने मुझे हराया है?"

‘माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है, मैं काशी का हो गया हूँ’: 9 करोड़ किसानों के खाते में पहुँचे ₹20000 करोड़, 3...

"गरीब परिवारों के लिए 3 करोड़ नए घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मान निधि को आगे बढ़ाना हो - ये फैसले करोड़ों-करोड़ों लोगों की मदद करेंगे।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -