Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाजट्यूशन के लिए निकली नाबालिग लड़की गायब, शोएब पर 'लव जिहाद' के आरोप: 1...

ट्यूशन के लिए निकली नाबालिग लड़की गायब, शोएब पर ‘लव जिहाद’ के आरोप: 1 महीने बाद भी पुलिस के हाथ खाली

"ताहिर और उसके परिवार वालों ने हमारे साथ गाली-गलौज किया। साथ ही वो कहने लगा कि शोएब अगर लड़की भगा करके ले गया है तो वो शादी कर लेगा। उन्होंने पुलिस में मामले दर्ज कराने पर हमें जान से मार डालने की भी धमकी दी। फिर गाँव-समाज ने पंचायत के मार्फ़त मामला सुलझाने की सलाह दी। पंचायत में ताहिर ने भरोसा दिया कि लड़की 2-3 दिन में आ जाएगी।"

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर थाना क्षेत्र अंतर्गत बालाराही से एक 15 वर्षीय नाबालिग लड़की के गायब होने का मामला सामने आया है। लड़की की माँ ने थाने में इस सम्बन्ध में मामला दर्ज कराया है। ये घटना जनवरी 28, 2021 की है, जब 9वीं में पढ़ने वाली शिल्पा (बदला हुआ नाम) ट्यूशन पढ़ने गई थी लेकिन शाम तक घर नहीं लौटी। इसके बाद परिजनों ने नाते-रिश्तेदारों के यहाँ खोज-खबर की लेकिन उसका कोई अता-पता नहीं चला।

लड़की की माँ ने FIR में बताया है कि उसे कुछ लोगों द्वारा सूचना दी गई कि शिल्पा को झिटकी गाँव निवासी मोहम्मद ताहिर के बेटे मोहम्मद शोएब के साथ बाइक पर बैठा हुआ देखा गया था। पीड़ित माँ का कहना है कि जब वो अपने परिजनों के साथ ताहिर के घर पहुँची और शोएब के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसका बेटा बाहर गया हुआ है। आरोप है कि जब शिल्पा के अपहरण की परिजनों ने आशंका जताई तो ताहिर का परिवार आग-बबूला हो गया।

लड़की की माँ ने पुलिस में दर्ज कराई गई FIR में बताया है, “ताहिर और उसके परिवार वालों ने हमारे साथ गाली-गलौज किया। साथ ही वो कहने लगा कि शोएब अगर लड़की भगा करके ले गया है तो वो शादी कर लेगा। उन्होंने पुलिस में मामले दर्ज कराने पर हमें जान से मार डालने की भी धमकी दी। फिर गाँव-समाज ने पंचायत के मार्फ़त मामला सुलझाने की सलाह दी। पंचायत में ताहिर ने भरोसा दिया कि लड़की 2-3 दिन में आ जाएगी।”

आरोप है कि पंचायत में ऐसा कहने के बावजूद ताहिर आज-कल की रट लगाए हुए है और गायब लड़की का अब तक कोई अता-पता नहीं है। लड़की की माँ ने इसे ही देर से पुलिस में आवेदन देने का कारण बताया। परिजनों का सीधा आरोप है कि नाबालिग लड़की को शादी की नीयत से भगा कर ले जाया गया है। साथ ही शोएब के अब्बा ताहिर, अम्मी और बहन को भी इस पूरे प्रकरण में भागीदार बताया गया है।

हमने इस पूरे मामले को समझने के लिए एक स्थानीय पत्रकार से संपर्क किया, जिन्होंने बताया कि फरवरी 8, 2021 को FIR दर्ज कराई गई थी, जिसके एक महीने होने को आएँ हैं। उन्होंने कहा कि इतना समय बीत जाने के बावजूद अब तक पुलिस ने भी कोई कार्रवाई नहीं की है। उन्होंने आरोप लगाया कि FIR में शोएब के अब्बू-अम्मी का नाम होने के बावजूद उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ नहीं की गई है।

उन्होंने आशंका जताई कि आरोपित के परिवार वालों को सब पता हो सकता है। उन्होंने कहा, “ये पूरी तरह से ‘लव जिहाद’ का मामला लगता है। नाबालिग लड़की पढ़ने गई थी, तभी उसे झाँसा देकर भगा लिया गया। गाँव की पंचायत और ताहिर के आश्वासन के कारण मामला देर से दर्ज कराया गया, लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। परिवार वाले अभी भी न्याय के लिए भटक रहे हैं। परिजन परेशान हैं।”

हालाँकि, इस मामले में झिटकी गाँव के मुखिया ललटू मंडल बाकियों से थोड़ी अलग राय रखते हैं। उन्होंने पहले तो इस मामले में कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया लेकिन जोर देने पर कहा, “इस मामले में बहुत पेंच है। दोनों परिवारों के बीच न्योता-पेहानी (पारिवारिक कार्यक्रमों में एक-दूसरे को निमंत्रित करना) भी होता था। हो सकता है कि दोनों परिवारों ने आपस में सलट (समझौता कर) लिया हो।”

स्थानीय मीडिया में पीड़ित परिजनों के बयान उपलब्ध हैं, लेकिन मेनस्ट्रीम मीडिया ने उन्हें अब तक नहीं उठाया है। एक रिश्तेदार महिला ने कहा, “मुस्लिम युवक लड़की को लेकर गया है। वो उसे कहीं मुस्लिम न बना दे। हमें केस वापस लेने की धमकी मिल रही है।” लड़की के पिता ने कहा, “आपलोग उसे ढूँढ कर ला दीजिए, वरना हम ज़हर खा कर मर जाएँगे। अपने हिन्दू होने का धर्म निभाइए। वो उसे बेच सकता है।”

परिजनों ने बताया कि ताहिर और उसका परिवार अपनी अमीरी की धौंस भी दिखा रहा है। उनका कहना है कि पुलिस ने अब तक आरोपितों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। उन्होंने कहा कि वो विरोध प्रदर्शन करेंगे, अगर लड़की बरामद नहीं हुई तो।

पुलिस पर लगे निष्क्रियता के आरोपों को हरलाखी के थानाध्यक्ष अंजेश कुमार ने नकार दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस लड़की को बरामद करने के लिए पूरा प्रयास कर रही है। जब उनसे पूछा गया कि क्या शोएब के अब्बा ताहिर से कोई पूछताछ हुई है, तो उन्होंने कहा कि जाँच में ज़रूरत पड़ने पर ज़रूर पूछताछ होगी। उन्होंने कहा कि लड़की की जल्द ही बरामदगी। उन्होंने कहा कि पुलिस को अब तक कोई क्लू नहीं मिला है लेकिन ये भी जल्द मिल जाएगा।

याद दिला दें कि सितम्बर 2020 में “बिहार के मधुबनी ज़िले से अपहृत हुई बच्ची के मामले में ऑपइंडिया की खबर पर राष्ट्रीय बाल आयोग ने संज्ञान लिया था, जिसके बाद बच्चे का बचाव कर लिया गया था। उसकी बरामदगी अहमदाबाद से हुई थी। आरोपित को भी गिरफ़्तार किया गया था। ये मामला बिहार के मधुबनी जिले हरलाखी थानांतर्गत नहरनियाँ गाँव का था। आरोपित साबिर ने पीड़िता के पिता को लड़की के इस्लामी धर्मांतरण की धमकी भी दी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,018FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe