Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजबहन$% हेकड़ी निकाल देंगे गां$ से: किशनगंज के SDM शाहनवाज की गंदी-गंदी गाली वाला...

बहन$% हेकड़ी निकाल देंगे गां$ से: किशनगंज के SDM शाहनवाज की गंदी-गंदी गाली वाला ऑडियो वायरल, युवक ने लगाया आरोप

गंदगी को लेकर युवक ने की SDM शाहनवाज से शिकायत, बदले में मिली गालियाँ, ऑडियो वायरल। पूर्व सांसद हरि मांझी ने भी ऑडियो को ट्विटर पर शेयर करके मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से जाँच की माँग की है।

बिहार के किशनगंज में सफाई व्यवस्था को लेकर उठाया गया मामला अब तूल पकड़ रहा है। कारण एक ऑडियो रिकॉर्डिंग है। इसमें कथित तौर पर किशनगंज एसडीएम शाहनवाज अहमद नियाजी शिकायत करने वाले युवक को धमकाते सुनाई पड़ रहे हैं। ऑडियो को गया के पूर्व सांसद हरि मांझी ने भी अपने ट्विटर पर शेयर करके मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से जाँच की माँग की है।

बातचीत के अंश इस प्रकार हैं:

आवाज-1: हेलो, क्या कह रहे थे जी, उस समय मैं मीटिंग में था, क्या कह रहे थे कि फोटो खिंचवाते हैं…
आवाज-2: कौन?
आवाज-1: एसडीएम किशनगंज बोल रहे हैं। क्या कह रहे थे उस समय?
आवाज-2: सर कल एक लड़की गिर गई थी।
आवाज-1: अरे तो बोलने की तमीज तुमको नहीं है। रोड साफ कराना मेरा काम है कि नगर परिषद का काम है?
आवाज-2: कोई कॉल ही तो नहीं उठा रहा है सर। आप मेरा नंबर किसी को दिए थे? किसी का कॉल आया था मेरे पास उन्होंने मुझे वार्ड कमीशनर को कॉल करने को कहा। मैंने 50 कॉल किया कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला।
आवाज-1: अरे वार्ड परिषद ने नहीं उठाया। तो क्या नगर परिषद के एग्जिक्यूटिव ऑफिसर को फोन करा? जिसका काम है, ड्यूटी है।
आवाज-2: सर कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा है।
आवाज-1: सुनो, सुनो बच्चा क्या उम्र है तुम्हारी।
आवाज -2: सर ज्यादा नहीं है सर। गलती हो गई सॉरी सर।
आवाज-1: उठा कर पटक देंगे। जेल भेज देंगे। तुम्हारी सब हेकड़ी निकाल देंगे।
आवाज-2: सर, हम कुछ गलत तो नहीं बोले न…
आवाज-1: तो तुम ऐसे बात करोगे
आवाज-2: किस तरह से बात किए सर?
आवाज-1: कमर तोड़ देंगे साले तुम्हारी..
आवाज-2: हम क्या बोल दिए सर?
आवाज-1: तुम एसडीएम को बोलोगे कि फोटो खिंचवाते हैं। ये हमारा काम है साला या नगर परिषद का है।
आवाज-2: सर, हमें गूगल में नंबर मिला। आप बताएँ कि ये किसका काम है।
आवाज- 1 : ज्यादा होशियार बना न तो उठाकर पटक देंगे बह%$#&। हीरो बनता है साला। सब साले हेकड़ी निकाल देंगे ग$% से। बह$%^ साला।

बता दें कि सोशल मीडिया पर इस ऑडियो को शेयर किया जा रहा है। ऐसे में ऑपइंडिया के पास जब ये रिकॉर्डिंग पहुँची तो हमने शिकायतकर्ता और एसडीएम दोनों से बात करने का प्रयास किया। शिकायतकर्ता की पहचान विशाल चौधरी के तौर पर हुई और ये पूरा मामला बिहार किशनगंज के धर्मगंज का है।

शिकायतकर्ता ने की ऑपइंडिया से बात

विशाल ऑपइंडिया से बात करते हुए बताते हैं, “हमारे इलाके में बहुत गंदगी फैली हुई थी। सड़क किनारे नाले का कचड़ा निकाला गया था। बारिश हुई तो हर जगह कीचड़ था। चूँकि आने-जाने का रास्ता भी यही है तो एक बार लड़की भी साइकिल के साथ इसमें गिर चुकी थी और कुछ महिलाएँ भी आते-जाते फँस गईं थीं। ऐसे में मैंने शिकायत की। नगर परिषद में कॉल किया। वॉर्ड कमीश्नर को कॉल किया। लेकिन कहीं से कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। फिर मैंने एसडीएम सर को कॉल किया। उन्होंने कहा कि ये मेरा काम नहीं है। नगर परिषद को कॉल करो। हम बोले कि जब नगर पालिका कॉल नहीं उठा रही सर, तो हम एसडीएम के पास जाएँगे। एसडीएमस नहीं सुनेगा तो हम डीएम के पास जाएँगे। ये तो जाहिर सी बात है।”

विशाल के मुताबिक, “इसके बाद एसडीएम ने बोला कि बदतमीज हो तुम। तुम्हें समझ नहीं आता है। मैंने कहा भी सर आप सिर्फ फोटोबाजी करते हैं। आपका नाम आता है कि ऐसे रहो, वैसे रहो। कोरोना से बचो। स्वच्छ रखो। साफ सफाई रखो और 10 दिन से ऐसा हो रहा है। इससे कोरोना वायरस से बचेंगे या ये फैलेगा। ये सुन एसडीएम बोले कि बद्तमीज सब डिविजन आओ तुम। देखते हैं कौन हो तुम। इसके बाद किसी व्यक्ति ने मुझे कॉल किया और उसने मुझे समझाया और मेरी सारी जानकारी ले ली है। हम सब कुछ सही बताए। उन्होंने कहा कि वार्ड कमीश्नर को बोल दो ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव हो जाएगा। कम से कम दुर्गंध नहीं आए। इस बात के करीब 10 घंटे बाद एसडीएम ने दोबारा कॉल किया और जो बात हुई वो आपके सामने है। ”

विशाल कहते हैं कि अब सड़क साफ हो गई है और वो दोबारा इस मामले में शिकायत भी नहीं करते। लेकिन 10 घंटे बाद एसडीएम का जो कॉल आया, उससे वह आहत हैं। वह पूछते हैं कि एसडीएम ने गाली क्यों दी। अगर मामला जानने और ऑडियो सुनने के बाद उनकी कोई गलती निकले तो उन पर केस कर दिया जाए। वह यही पूछते हैं, “एसडीएम सर ने गाली क्यों दी। ये बात आत्मसम्मान की है। सारी ऑडियो सही है। कहीं भी चेक कराइए। सवाल बस यही है कि उन्होंने गाली क्यों दी। ऐसे तो कल को क्राइम कहीं होगा, चुप होना पड़ेगा कि हमें उलटा फँसा दिया जाएगा। अगर ऐसा होगा तो किस पर भरोसा किया जाएगा।”

ऑपइंडिया ने इस संबंध में किशनगंज के एसडीएम शाहनवाज अहमद नियाजी से संपर्क करके उनका पक्ष जानने के लिए कई बार कोशिश की। लेकिन उन्होंने हमारा कॉल रिसीव नहीं किया। आगे यदि उनसे बात होती है और वह अपना पक्ष बताते हैं तो इस रिपोर्ट में अपडेट किया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -