Saturday, April 20, 2024
Homeदेश-समाज2 दिसंबर को शादी, 9 को दुर्गा मंदिर जाते वक़्त सद्दाम ने अगवा किया:...

2 दिसंबर को शादी, 9 को दुर्गा मंदिर जाते वक़्त सद्दाम ने अगवा किया: अब तक सुराग नहीं, धर्म परिवर्तन का जताया जा रहा डर

उन्होंने बताया कि 9 दिसंबर को उनकी बेटी दुर्गा मंदिर में दीप जलाने जा रही थी, तभी घर के पास रहने वाले मोहम्मद सद्दाम नामक पिक-अप चालक ने उसका अपहरण कर लिया। जब घरवालों को इसकी सूचना हुई तो पहले प्रयास किए गए कि बिना शिकायत किए सद्दाम उन्हें उनकी लड़की लौटा दे।

बिहार के मधुबनी नगर थाना क्षेत्र से एक नवविवाहिता को अगवा किए जाने का मामला सामने आया है। पुलिस ने इस संबंध में मोहम्मद सद्दाम और उसके परिजनों के खिलाफ केस दर्ज किया है। एक को गिरफ्तार किया है। मुख्य आरोपित अब भी फरार है। नवविवाहिता का भी सुराग अब तक नहीं लगा है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि सद्दाम लड़की का धर्म परिवर्तन करवाने के लिए ले गया है। वहीं कुछ लोग इसे प्रेम प्रसंग का मामला बता रहे हैं। ऐसे में हमने लड़की के पिता से इस घटना पर बात की। उन्होंने बताया कि प्रेम जैसा कुछ होता तो वह अपनी बेटी की शादी किसी और से क्यों करवाते।

2 दिसंबर को धूमधाम से की थी बेटी की शादी: पीड़ित पिता

ऑपइंडिया से बात करते हुए लड़की के पिता ने बताया कि उनकी बेटी की शादी 2 दिसंबर 2020 को ही हुई थी। शादी में उनका बहुत पैसा भी खर्च हुआ। शादी के कुछ दिन बाद बेटी रस्में निभाने घर लौटी तो उसका अपहरण कर लिया गया।

उन्होंने बताया कि 9 दिसंबर को उनकी बेटी दुर्गा मंदिर में दीप जलाने जा रही थी, तभी घर के पास रहने वाले मोहम्मद सद्दाम नामक पिक-अप चालक ने उसका अपहरण कर लिया। जब घरवालों को इसकी सूचना हुई तो पहले प्रयास किए गए कि बिना शिकायत किए सद्दाम उन्हें उनकी लड़की लौटा दे। ऐसा नहीं होने पर उन्होंने पुलिस को इसकी जानकारी दी और अगले दिन (10 दिसंबर) मामले में एफआईआर हुई। 

लड़की के पिता पुलिस कार्रवाई पर असंतोष जताते हुए कहते हैं कि अभी पुलिस-प्रशासन कुछ नहीं कर रहा। बस आरोपित के पिता की गिरफ्तारी हुई है। आरोपित की 2 बहनों को थाने में बैठाकर पूछताछ हो रही है।

नवविवाहिता के पड़ोसी ने बताया- जब सद्दाम के घर गए तब क्या हुआ?

अगवा की गई नवविवाहिता के पड़ोसी ने बताया कि इस घटना की सूचना जैसे ही उन लोगों को हुई, वह फौरन आरोपित के घर पहुँचे और पूरे घर की तलाशी ली। उन्होंने देखा कि सद्दाम का पिक अप घर के बाहर खड़ा था, मगर वह खुद वहाँ नहीं था।

वह संदेह जताते हुए कहते हैं कि शायद उस समय सद्दाम लड़की को लेकर जंगलों में छिप गया था और जैसे ही वह लोग उसके पिता को लेकर पुलिस थाने गए, वह लड़की को लेकर फरार हो गया। इसके बाद आरोपित के बहनोई और उसकी दो बहनों को भी थाने ले जाया गया। जहाँ पता चला कि सद्दाम ने अपहरण करने के बाद उन्हें कॉल किया था।

पड़ोसी बताते हैं कि जब वह सद्दाम के घर लड़की को ढूँढने गए थे तो उनके घर में 2 बजे तक लोग जगे थे। माहौल ऐसा था जैसे उन्हें मालूम हो कि उनके बेटे ने दूसरे समुदाय की लड़की को उठाया है। इतना ही नहीं, उन लोगों ने सभी लोगों को घर पर देख कर एक दूसरे से कहा, “अब क्या करोगे…अब तो समाज आ गया।” पुलिस प्रशासन पर नाराजगी जाहिर करते हुए वह कहते हैं कि उन लोगों ने संदेह के आधार पर कुछ नंबरों को ट्रेस करने के लिए कहा था, लेकिन उस पर सुनवाई नहीं हुई। 

VHP जिलाध्यक्ष ने खारिज की प्रेम-प्रसंग की बात

वीएचपी के जिलाध्यक्ष महेश कुमार पूरी घटना की जानकारी देते हुए कहते हैं कि यदि ये मामला प्रेम-प्रसंग का होता तो लड़की शादी से पहले घर से निकलती। लड़की के माता-पिता ने इतना पैसा खर्च किया। किसी को कुछ नहीं मालूम था। ये मामला अपहरण का ही है। वह बताते हैं कि वो इस मामले पर बैठक कर रहे हैं। आज एसपी से भी मुलाकात करेंगे।

ये लव जिहाद का केस: MLC सुमन महासेठ

एनडीए के विधान पार्षद (MLC) सुमन कुमार महासेठ ने भी इस अपहरण केस में हस्तक्षेप किया है। ऑपइंडिया से इस बात की पुष्टि करते हुए वह कहते हैं कि ये मामला उनके संज्ञान में 12 दिसंबर को आया था। इसके बाद उन्होंने थाने जाकर कार्रवाई करने के लिए पुलिस-प्रशासन से बात की। उन्हें पहले कहा गया कि मामला प्रेम-प्रसंग का है, इस पर उन्होंने पूछा कि अगर केस प्यार आदि का है तो लड़की पहले भागती, शादी के बाद जाने का क्या मतलब है? लड़की का अपहरण हुआ है, उसका धर्म परिवर्तन करवाया जा सकता है। ये पूरा लव जिहाद का केस है। पुलिस ने कहा है कि वो पूरी कोशिश कर रही है। अब वे इस मामले की लेकर एसपी से मिलने वाले हैं।

दैनिक भास्कर में प्रकाशित संबंधित खबर

पुलिस कर रही है छापेमारी

पुलिस का कहना है कि वह लगातार इस मामले में लड़की की बरामदगी की कोशिश कर रहे हैं। इस बाबत छापेमारी भी चल रही है। जब ऑपइंडिया ने उन्हें संपर्क किया तब भी वह इसी केस में पड़ताल करने गए थे। थानाध्यक्ष ने बताया कि उन्होंने आरोपित लड़के के पिता को जेल भेजा है और उसकी बहनों से पूछताछ की है।

हरलाखी अपहरण मामला

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व मधुबनी के हरलाखी थाना क्षेत्र नहरनियाँ गाँव से हिंदू लड़की के अपहरण का मामला आया था। शब्बीर नाम के युवक ने बच्ची का अपहरण करके उसे कई दिन तक अपनी कैद में रखा था। बाद में ऑपइंडिया द्वारा मामला उठाने पर एनसीपीसीआर ने इस केस को अपने संज्ञान में लिया और कुछ दिन बाद लड़की अहमदाबाद से बरामद हुई। लड़की ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि कैसे उसे नशीला पदार्थ सुंघाकर उसे बेहोश कर रेप किया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बच्चा अगर पोर्न देखे तो अपराध नहीं भी… लेकिन पोर्नोग्राफी में बच्चे का इस्तेमाल अपराध: बाल अश्लील कंटेंट डाउनलोड के मामले में CJI चंद्रचूड़

सुप्रीम कोर्ट ने चाइल्ड पॉर्नोग्राफी से जुड़े मद्रास हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया है।

मोहम्मद जमालुद्दीन और राजीव मुखर्जी सस्पेंड, रामनवमी पर जब पश्चिम बंगाल में हो रही थी हिंसा… तब ये दोनों पुलिस अधिकारी थे लापरवाह: चला...

चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में रामनवमी पर हुई हिंसा को रोक पाने में नाकाम थाना प्रभारी स्तर के 2 अधिकारियों को सस्पेंड किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe