Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजबबलू उर्फ शब्बीर ने मेरे शरीर का कपड़ा खोल दिया, बराबर गलत काम किया:...

बबलू उर्फ शब्बीर ने मेरे शरीर का कपड़ा खोल दिया, बराबर गलत काम किया: 8वीं की हिंदू बच्ची ने कोर्ट में सुनाई आपबीती

पीड़िता ने बताया कि 20 अगस्त 2020 को शाम 6:30 बजे जब वह शौच करने के लिए गई तभी शब्बीर ने पीछे से उसका मुँह पकड़ लिया और उसे नशीला पदार्थ सुंघाकर बेहोश कर दिया। फिर उसे दिल्ली ले गए। उसके बाद गुजरात ले गया। गुजरात पहुँचकर उसे मालूम हुआ कि शब्बीर के साथ और लोग भी थे।

बिहार के मधुबनी जिले के हरलाखी थानांतर्गत ग्राम नहरनियाँ से गायब हुई 14 वर्षीय नाबालिग अब अपने परिवार के पास पहुँच चुकी है। उसकी बरामदगी बिहार पुलिस ने अहमदाबाद से कुछ दिन पहले ही की थी और साथ ही आरोपित शब्बीर (पिछली शिकायत में नाम साबिर है) को भी गिरफ्तार किया था। परिजनों के अनुसार, प्रशासन ने लड़की को उन्हें 15 सितंबर को सौंपा। इससे पहले उसका बयान कोर्ट में दर्ज किया गया।

कोर्ट में दिए बयान में लड़की ने सारी आपबीती बताई। इसकी एक कॉपी ऑपइंडिया के पास भी है। पीड़िता ने बताया कि 20 अगस्त 2020 को शाम 6:30 बजे जब वह शौच करने के लिए गई तभी शब्बीर ने पीछे से उसका मुँह पकड़ लिया और उसे नशीला पदार्थ सुंघाकर बेहोश कर दिया। फिर उसे दिल्ली ले गए। उसके बाद गुजरात ले गया। गुजरात पहुँचकर उसे मालूम हुआ कि शब्बीर के साथ और लोग भी थे।

हालाँकि, बेहोश हालत में होने के कारण पीड़िता किसी को पहचान नहीं पाई। जब उसने उनका विरोध किया तो उसे चुप रहने की धमकी दी गई और कहा गया, “तुम्हारे घरवालों को भी निपटा देंगे।” बयान में लड़की ने अपने साथ ‘गलत काम’ होने की बात कही है। उसने कहा है, “मेरे साथ बबलू उर्फ शब्बीर ने गलत काम किया और मेरे शरीर का कपड़ा खोल दिया एवं लगातार गलत काम करता रहा। मैं विरोध करती तो जबरदस्ती मेरे साथ गलत करता।”

पीड़िता के घर लौटने के बाद ऑपइंडिया ने उससे और उसके परिजनों से बात की। पीड़िता ने बयान में लिखी बातों को दोहराते हुए बताया कि अहमदाबाद ले जाने के समय उसे धमका दिया गया था। वहीं, लड़की के भाई ने बताया कि शब्बीर (साबिर) ने उनकी बहन को अगवा कर धर्म परिवर्तन का दबाव बनाया और भगवान का नाम लेने से भी मना किया।

पीड़िता के भाई की मानें तो शब्बीर उनकी बहन को कहता था भगवान का नाम मत लिया करो। यह गुनाह होता है। अल्लाह का नाम लिया करो। वह बताते हैं कि शब्बीर उनकी बहन से धर्म परिवर्तन और शादी के लिए दबाव बनाता था, लेकिन उनका मानना है कि शादी वगैरह सब झूठी बातें हैं, और वह उनकी बहन को बेचने के इरादे से ही ले गया था।

बता दें, पुलिस ने इस मामले में शब्बीर के साथ उसके एक साथी को भी गिरफ्तार किया है। इसके अलावा लड़की ने बरामद होने के बाद एक मुर्तजा नाम के लड़के का नाम भी पुलिस को बताया है। उसका कहना है कि शब्बीर के कुकर्म में वह भी शामिल था।

उल्लेखनीय है कि इस पूरे किडनैपिंग मामले पर एनसीपीसीआर ने पिछले दिनों संज्ञान लिया था। उससे पहले इस मामले को क्षेत्र विधायक सुधांशु शेखर के हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने दायर किया था। परिवार ने शिकायत में बताया था कि 20 अगस्त को नाबालिग अपने घर से शौच के लिए बाहर निकली थी। इसके बाद वह लापता हो गई। घरवालों ने उसके अपहरण का आरोप गाँव में ही रहने वाले दूसरे समुदाय के शब्बीर पर लगाया था। पीड़ित पक्ष का ये भी कहना था कि जब वह शब्बीर के घर पर अपनी बेटी का पता पूछने गए तो उन्हें लड़की के बारे में बताने की बजाय ये कहा गया कि तुम्हारे बेटी का धर्म परिवर्तन करवाने के लिए ले गए हैं।

इस संबंध में 23 अगस्त को लड़की के घरवालों ने शिकायत दर्ज करवाई थी और 26 अगस्त को इस मामले पर एफआईआर हुई थी। लड़की के पिता ने अपनी शिकायत में कहा था कि जब वह लोग अपनी लड़की के बारे में पूछने शब्बीर के घर गए तो उन्हें कहा गया, “तुमको जो ताकत लगाना है लगाओ। हमने तैयारी कर ली है। तुम्हारी लड़की का धर्मांतरण कर देंगे। तुम्हारी औकात नहीं है कि तुम हम सबका कुछ कर सको। मेरे घर से चले जाओ नहीं तो मारकर फेंक देंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe