Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजबंगाल में BJP कार्यकर्ताओं पर जानलेवा हमला, TMC विधायक सौकत मोल्ला का करीबी हुसैन...

बंगाल में BJP कार्यकर्ताओं पर जानलेवा हमला, TMC विधायक सौकत मोल्ला का करीबी हुसैन मुख्य आरोपित: सुवेंदु अधिकारी ने की FIR दर्ज करने की माँग

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसाओं में तेजी आ गई है, जिसमें बीजेपी कार्यकर्ताओं पर टीएमसी के कार्यकर्ताओं के हमले तेजी से बढ़े हैं। दक्षिण 24 परगना के कैनिंग में बीजेपी कार्यकर्ताओं पर टीएमसी के गुंडों ने हमला किया। इसमें दो की हालत काफी गंभीर है।

पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव की घोषणा होते ही राजनीतिक हिंसा की घटनाओं में तेजी आ गई है। इसी कड़ी में पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना में टीएमसी के गुंडों ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया है और कई बीजेपी कार्यकर्ताओं को जमकर पीटा है। इस हमले में कई कार्यकर्ता घायल हो गए हैं, जिसमें से दो की हालत गंभीर है।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पश्चिम बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमले के मामले में टीएमसी विधायक के करीबी पर आरोप लगाए हैं। उन्होंने टीएमसी के गुंडों में हुसैन शेख का नाम प्रमुखता से लिया है।

ये मामला दक्षिण 24 परगना जिले के कैनिंग उपखंड का है, जहाँ के माथेर दिघी गाँव में तृणमूल कांग्रेस के गुंडों की भीड़ ने कई बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमले किए। रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमले के दौरान चार बीजेपी कार्यकर्ता घायल हो गए। हिंसक झड़प के बीच तीन टीएमसी कार्यकर्ताओं को भी चोट आई है। हमले और जवाबी हमले में घायल हुए सभी लोगों का अब कैनिंग सब डिविजनल अस्पताल में इलाज चल रहा है।

जानकारी के मुताबिक, टीएमसी के गुंडों ने कैनिंग पुरबा मंडल नंबर 3 के मंडल अध्यक्ष और कई अन्य कार्यकर्ताओं की पिटाई की। बीजेपी नेता सुवेंदु अधिकारी के मुताबिक, बीजेपी कार्यकर्ता बिवास मंडल और सुब्रत दास की हालत गंभीर बनी हुई है।

उन्होंने एक्स पर लिखा, “लोकसभा चुनाव से पहले बंगाल की राजनीति में रक्तपात की वापसी… मैं चुनाव आयोग से अनुरोध करता हूँ, अगर वे 2021 के मतदान के बाद की हिंसा और 2023 के पश्चिम बंगाल पंचायत चुनावों के नरसंहार को दोबारा होने से रोकने का इरादा रखते हैं, तो अब कार्रवाई करने का समय आ गया है।”

सुवेंदु अधिकारी ने हुसैन शेख नामक व्यक्ति पर हमले की साजिश रचने का आरोप लगाया है, जो टीएमसी विधायक साओकत मोल्ला का करीबी सहयोगी बताया जाता है। उन्होंने चुनाव आयोग से शेख के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करने का अनुरोध किया है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, “कृपया हुसैन शेख जैसे लोगों को सलाखों के पीछे भेजें और सौकत मोल्ला जैसे लोगों को निगरानी में रखें, क्योंकि उनके पास चुनावों में धांधली करने की मशीनरी है। स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने का यही एकमात्र तरीका है।”

स्थानीय बीजेपी नेता विकास सरदार ने कहा, “बीजेपी ने प्रशासन की अनुमति से जिबंतला-माथेर दिघी इलाके में एक पार्टी बैठक आयोजित की थी, लेकिन टीएमसी के गुंडों ने बैठक में घुसकर अशांति फैला दी।”

टीएमसी ने बीजेपी पर लगाए आरोप

इस मामले में बीजेपी ने TMC पर हमले के आरोप लगाए, तो टीएमसी ने भी बीजेपी पर आरोप लगाए। टीएमसी विधायक शौकत मोल्ला ने कहा, “हमारी पार्टी के कार्यकर्ता मोटरसाइकिलों पर घर लौट रहे थे। उस दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उन्हें भद्दी-भद्दी गालियां दीं। यहीं से बवाल शुरू हुआ। हमले के कारण हमारे कुछ कार्यकर्ता भी घायल हो गए।”

घटना की जानकारी मिलने पर कैनिंग उपमंडल पुलिस अधिकारी रामकुमार मंडल मौके पर पहुँचे। उन्होंने बताया कि मामले की जाँच शुरू कर दी गई है। किसी भी कानून-व्यवस्था की स्थिति को रोकने के लिए पुलिस की एक बड़ी टीम तैनात की गई है।

ऑपइंडिया ने कुछ दिन पहले ही में सत्तारूढ़ टीएमसी से जुड़े गुंडों द्वारा बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमले की 5 घटनाओं के बारे में रिपोर्ट दी थी, उसे यहाँ पढ़ सकते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -