Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाज'हमें कॉलेज में बुर्का-हिजाब पहनने दो, कुरान में लिखा है': बॉम्बे हाईकोर्ट ने ठुकराई...

‘हमें कॉलेज में बुर्का-हिजाब पहनने दो, कुरान में लिखा है’: बॉम्बे हाईकोर्ट ने ठुकराई मुस्लिम छात्राओं की याचिका, कहा – शैक्षिक संस्थान के फैसले में नहीं देंगे दखल

छात्राओं ने इस कार्रवाई को अपनी याचिका में मनमाना, अनुचित, गलत और विकृत बताया था। साथ ही कुरान की आयतों का हवाला देकर कहा कि इस्लाम में हिजाब पहनना अनिवार्य है। वहीं कॉलेज की ओर से पेश वकील अनिल अंतुरकर ने बताया कि कॉलेज परिसर में हिजाब, नकाब और बुर्का पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय सिर्फ इसलिए है ताकि समान ड्रेस कोड लागू हो सके।

मुंबई के चेंबूर ट्रॉम्बे एजुकेशन सोसाइटी के एनजी आचार्य और डीके मराठे कॉलेज में ड्रेस कोड तय करते हुए हिजाब, बुर्का बैन किया गया तो नौ छात्राएँ हाई कोर्ट पहुँच गईं। छात्राओं ने माँग की कि कॉलेज परिसर में जो चीज बैन हैं, उन्हें वो (जैसे हिजाब, नकाब) पहनने की अनुमति मिले। उन्होंने तर्क दिया कि हिजाब उनके मजहब में पहनना अनिवार्य है। अब इसी मामले पर सुनवाई करते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट ने परिसर में हिजाब, बुर्का और नकाब पर प्रतिबंध लगाने के फैसले में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया।

न्यायमूर्ति ए एस चंदुरकर और न्यायमूर्ति राजेश पाटिल की खंडपीठ ने ये कहकर नौ छात्राओं की याचिका को खारिज कर दिया कि वह कॉलेज द्वारा लिए गए फैसले में हस्तक्षेप करने के इच्छुक नहीं है। जानकारी के मुताबिक अदालत जाने वाली छात्राएँ विज्ञान डिग्री पाठ्यक्रम के दूसरे और तीसरे वर्ष में हैं। इन्होंने कॉलेज द्वारा एक ड्रेस कोड लागू करने के निर्देश को हाई कोर्ट में चुनौती दी थी।

निर्देश में छात्र-छात्राओं को परिसर के भीतर हिजाब, नकाब, बुर्का, स्टोल, टोपी और बैज पहनने से मना किया गया था। इसी निर्देश को मानने की बजाय छात्राएँ कोर्ट गईं। अपनी याचिका में इन्होंने कहा कि ऐसे निर्देश उनके मजहब का पालन करने के मौलिक अधिकारों, निजता के अधिकारों के खिलाफ है।

छात्राओं ने इस कार्रवाई को अपनी याचिका में मनमाना, अनुचित, गलत और विकृत बताया था। साथ ही कुरान की आयतों का हवाला देकर कहा कि इस्लाम में हिजाब पहनना अनिवार्य है। वहीं कॉलेज की ओर से पेश वकील अनिल अंतुरकर ने बताया कि कॉलेज परिसर में हिजाब, नकाब और बुर्का पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय सिर्फ इसलिए है ताकि समान ड्रेस कोड लागू हो सके। ये सिर्फ अनुशासनात्मक कार्रवाई है और ये किसी भी तरह से मुस्लिम समुदाय के खिलाफ नहीं है। जो ड्रेस कोड लागू किया गया है वो हर धर्म और जाति के सभी छात्रों के लिए है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ट्रेनी IAS पूजा खेडकर की ऑडी सीज, ऊटपटांग माँगों के बचाव में रिटायर्ड IAS बाप: रिवॉल्वर लहराने पर FIR के बाद लाइसेंस रद्द करने...

ट्रेनिंग के दौरान ही VIP सुविधाओं के लिए नखरा करने वाली IAS पूजा खेडकर की करस्तानियों का उनके पिता दिलीप खेडकर ने बचाव किया है।

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -