Thursday, April 22, 2021
Home देश-समाज सिर्फ MSME सेक्टर से 4 सालों में 6 करोड़ लोगों को मिली नौकरी: CII

सिर्फ MSME सेक्टर से 4 सालों में 6 करोड़ लोगों को मिली नौकरी: CII

लेबर ब्यूरो के आँकड़ों का उपयोग करके वर्ष 2017-18 में लेबर फ़ोर्स की कुल संख्या लगभग 45 करोड़ आँकी गई है। औद्योगिक संगठन CII के सर्वे में यह पता चला है कि MSME यानि छोटे और मझोले उद्योगों में पिछले 4 सालों में हर साल 1.49 करोड़ लोगों को रोजगार मिला है।

पिछले 4 साल के दौरान एमएसएमई (MSME: Ministry of Micro, Small & Medium Enterprises) सेक्टर में रोजगार के ज्यादा मौके पैदा हुए हैं। सीआईआई (CII: Confederation of Indian Industry) द्वारा जारी किए गए सर्वे के अनुसार मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान पिछले 4 साल में MSME में 13.9% की बढ़ोत्तरी से रोजगार के अवसर पैदा हुए हैं। जब हम इस प्रतिशत को संख्या में बदलते हैं तो हमें प्रति वर्ष लगभग 1.49 करोड़ नौकरियों का सृजन होता दिखता है। चार सालों में यही संख्या लगभग 6 करोड़ होती है।

उद्योग संगठन CII के अनुसार, अगले 3 साल के दौरान नौकरियों के मौकों में बढ़ोत्तरी होने की उम्मीद है। MSME पर ब्याज में 2% छूट और ट्रेड रिसविवेबल्स ई-डिस्काउंटिंग सिस्टम (TReDS) की वजह से इसमें ग्रोथ आएगी, जिस कारण नौकरियों के मौके बनेंगे।

सर्वे में प्रति वर्ष 3.3% (मिश्रित विकास दर) की वृद्धि हुई है। CII के अध्यक्ष श्री राकेश भारती मित्तल ने कहा कि जब लेबर ब्यूरो से लिए गए Macro level के डेटा को मैप किया गया, तो इसमें 1.35 से 1.49 करोड़ प्रति वर्ष का अतिरिक्त रोजगार सृजन पाया गया है। ब्यूरो के आँकड़ों का उपयोग करके वर्ष 2017-18 में लेबर फ़ोर्स की कुल संख्या लगभग 45 करोड़ आँकी गई है। औद्योगिक संगठन CII के सर्वे में यह पता चला है कि MSME, यानी छोटे और मझोले उद्योगों में पिछले 4 सालों में हर साल 1.49 करोड़ लोगों को रोजगार मिला है।

उद्योग संगठन CII का यह सर्वे अन्य सभी आँकड़ों को झूठा साबित करता है, जिनमें यह दावा किया गया है कि नोटबंदी और GST के लागू होने की वजह से बड़े पैमाने पर नौकरियाँ खत्म हो गई। साथ ही, कई और सर्वेक्षणों के मुताबिक अलग-अलग सेक्टरों में भारी संख्या में नौकरी सृजन की बात कही गई है।

CII के सर्वे की जरुरी बातें

CII के इस सर्वे में 1,05,347 MSME ने भाग लिया। सर्वे बताता है कि पिछले 4 सालों के दौरान छोटे उद्योग धंधों ने सबसे ज्यादा रोजगार के मौके पैदा किए और इस दौरान किए गए आवश्यक सुधारों के कारण अगले 3 सालों में भी ऐसा ही होने की उम्मीद है।

सर्विस और कपड़ा उद्योग के क्षेत्र में मिली हैं सबसे ज्यादा नौकरियाँ

पिछले 4 सालों में सबसे ज्यादा नौकरियाँ सर्विस सेक्टर में मिली हैं। इसमें खासकर पर्यटन के क्षेत्र और इसके बाद कपड़ा उद्योग और मेटल प्रॉडक्ट्स के क्षेत्र में नौकरियों के मौके बने हैं। इनके अलावा भारी मशीनरी, लॉजिस्टिक्स और परिवहन के क्षेत्र में खासा रोजगार बढ़े हैं।

महाराष्ट्र और गुजरात सबसे ज्यादा रोजगार देने वाले राज्य

सर्वे के अनुसार विगत 4 वर्षों में महाराष्ट्र, गुजरात और तेलंगाना क्रमशः सबसे ज्यादा रोजगार देने वाले राज्य हैं। निर्यात के मामले में महाराष्ट्र, तमिलनाडू और तेलंगाना क्रमशः सबसे आगे रहे हैं। अगले 3 वर्षों में कर्नाटक पहले 3 रोजगार प्रदाता राज्यों में शामिल हो सकता है।

सर्वे में बताया गया है कि असंगठित और अनिश्चित समूहों में रिसर्च करने वालों के कारण लोगों में अफवाह है कि रोजगार सृजन नहीं हुआ है। जबकि, CII ने अपने सर्वे में बड़े और व्यापक प्रक्रियाओं को अपनाया है। CMIE और अन्य रिपोर्ट्स के तरीके अलग हैं और जिन आँकड़ों पर वो बात करते हैं, वो MSME के व्यापक क्षेत्र को नहीं जोड़ता है जबकि यह क्षेत्र सबसे ज्यादा रोजगार सृजन करता है।

सर्वे में कहा गया है कि टेक्नोलॉजी के साथ वर्क फोर्स को तैयार करना आगामी समय में चुनौती हो सकती है जिसके लिए तैयार रहना होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आप मरिए-जिन्दा रहे प्रोपेगेंडा: NDTV की गार्गी अंसारी ऑक्सीजन उत्पादन के लिए प्लांट खोलने की बात से क्यों बिलबिलाई

वामपंथियों को देखकर लगता है कि उनके लिए प्रोपेगेंडा मानव जीवन से ज्यादा ऊपर है। तभी NGT की क्लीयरेंस पाने वाले प्लांट के खुलने का विरोध कर रहे।

4 घंटे का ऑक्सीजन बचा है, 44 घंटों का क्यों नहीं? क्यों अंत में ही जागता है अस्पताल और राज्य सरकारों का तंत्र?

"केंद्र सरकार ने कोरोना की दूसरी लहर को लेकर राज्यों को आगाह नहीं किया। यदि आगाह कर देते तो हम तैयार रहते।" - बेचारे CM साब...

जहाँ ‘खबर’ वहीं द प्रिंट वाले गुप्ता जी के ‘युवा रिपोर्टर’! बस अपना पोर्टल पढ़ना और सवाल पूछना भूल जाते हैं

कोरोना का ठीकरा मोदी सरकार पर फोड़ने पर अमादा शेखर गुप्ता के 'द प्रिंट' ने नया कारनामा किया है। प्रोपेगेंडा के लिए उसने खुद को ही झूठा साबित कर दिया है।

ऑक्सीजन प्लांट लगा रहा श्रीराम मंदिर ट्रस्ट: मंदिरों के रुपयों का हिसाब माँगने वाले गायब, मस्जिद से पत्थरबाजी पर चुप्पी

'श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' ट्रस्ट कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए आगे आया। दशरथ मेडिकल कालेज में ऑक्सीजन प्लांट...

‘प्लाज्मा के लिए नंबर डाला, बदले में भेजी गुप्तांग की तस्वीरें; हर मिनट 3-4 फोन कॉल्स’: मुंबई की महिला ने बयाँ किया दर्द

कुछ ने कॉल कर पूछा क्या तुम सिंगल हो, तो किसी ने फोन पर किस करते हुए आवाजें निकाली। जानिए किस प्रताड़ना से गुजरी शास्वती सिवा।

18+ वालों को लगेगी कोरोना वैक्सीन: इसके लिए रजिस्ट्रेशन की 2 प्रक्रिया… कब से और कैसे, जानें सब कुछ

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग को और धारदार बनाते हुए केन्द्र सरकार ने 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र वाले सभी लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने का...

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

सीताराम येचुरी के बेटे का कोरोना से निधन, प्रियंका ने सीताराम केसरी के लिए जता दिया दुःख… 3 बार में दी श्रद्धांजलि

प्रियंका गाँधी ने इस घटना पर श्रद्धांजलि जताने हेतु ट्वीट किया। ट्वीट को डिलीट किया। दूसरे ट्वीट को भी डिलीट किया। 3 बार में श्रद्धांजलि दी।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।

‘प्लाज्मा के लिए नंबर डाला, बदले में भेजी गुप्तांग की तस्वीरें; हर मिनट 3-4 फोन कॉल्स’: मुंबई की महिला ने बयाँ किया दर्द

कुछ ने कॉल कर पूछा क्या तुम सिंगल हो, तो किसी ने फोन पर किस करते हुए आवाजें निकाली। जानिए किस प्रताड़ना से गुजरी शास्वती सिवा।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,789FansLike
83,175FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe