Sunday, March 3, 2024
Homeदेश-समाज3 म​हीने पुराने फेसबुक पोस्ट पर 5 घंटे उपद्रव, विहिप कार्यकर्ता के मोहल्ले में...

3 म​हीने पुराने फेसबुक पोस्ट पर 5 घंटे उपद्रव, विहिप कार्यकर्ता के मोहल्ले में हरवे-हथियार ले घुसे

ग्रामीण एसपी के नेतृत्व में पुलिस ने फ्लैग मार्च किया। इसके बाद हालात पर काबू पाया जा सका। इस दौरान पुलिस विहिप कार्यालय में घुस गई। जिसके बाद वहाँ मौजूद विश्व हिन्दू परिषद नेताओं के साथ नोक-झोंक भी हुई।

झारखंड में करीब तीन महीने पुराने फेसबुक पोस्ट को लेकर समुदाय विशेष के लोगों ने जमकर बवाल काटा। घटना धनबाद के झरिया की है। गुरुवार (16 जनवरी 2020) को यहॉं पॉंच घंटे तक बवाल चला। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार एक समुदाय के लोग उस मोहल्ले में हरवे-हथियारों के साथ घुस गए, जहॉं आरोपित विहिप कार्यकर्ता संजीव गिरि का घर है। मोहल्ले के दुकानों और घरों में उपद्रवियों ने तोड़फोड़ की। महिलाओं के साथ बदसलूकी की गई। झरिया-सिंदरी मुख्य मार्ग जाम कर दिया। पथराव किया। यहॉं तक कि शवयात्रा में शामिल लोगों को भी पीटा गया।

इस संबंध में 7 पीड़ितों ने झरिया पुलिस से अलग-अलग लिखित शिकायतें की हैं। शिकायतों में तनवीर, सलमान, तासिम, विक्की, गुलाम इमाम, गोलू, समीर खान, छोटू, बबन मियाँ समेत अन्य पर हरवे-हथियार से लैस होकर मोहल्ले में घुसकर मारपीट करने, बाइक क्षतिग्रस्त करने, महिलाओं से अभद्र व्यवहार करने और दुकान में तोड़फोड़ करने का आरोप लगाया गया है।

दैनिक जागरण के धनबाद संस्करण में प्रकाशित खबर

ऊपर राजबाड़ी के गोपाल ने एसडीएम को बताया कि दर्जनों की संख्या में युवक उसके घर में घुस आए। गालियाँ बकीं। आपत्तिजनक नारे लगाए। घर के बाहर सीसीटीवी लगा है। युवकों की सारी कारस्तानी उसमें कैद है। एसडीएम ने सीसीटीवी फुटेज माँगे हैं। एसडीएम राज महेश्वरम ने कहा है कि तोड़-फोड़ करने वालों पर कार्रवाई होगी। उनको बख्शा नहीं जाएगा। सीसीटीवी फुटेज भी खँगाला जा रहा है।

प्रभात खबर के धनबाद संस्करण में प्रकाशित खबर

बाद में ग्रामीण एसपी के नेतृत्व में पुलिस ने फ्लैग मार्च किया। इसके बाद हालात पर काबू पाया जा सका। इस दौरान पुलिस कतरास मोड़ स्थित विहिप कार्यालय में घुस गई। जिसके बाद वहाँ मौजूद विश्व हिन्दू परिषद नेताओं के साथ नोक-झोंक भी हुई। हालाँकि वरिष्ठ अधिकारियों ने मामले को सँभाल लिया। बताया जा रहा है कि सड़क के जाम के दौरान एंबुलेंस व कई अन्य वाहनों के चालकों के साथ भी मारपीट की गई।

दैनिक भास्कर में प्रकाशित खबर

धनबाद के एसएसपी किशोर कौशल ने बताया कि विवादित पोस्ट को लेकर हंगामा हुआ था, लेकिन अब स्थिति नियंत्रण में है। विवादित पोस्ट डालने वाले युवक के साथ सड़क जाम और हंगामा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उल्लेखनीय है कि जिस पोस्ट के कारण हंगामा हुआ, उसे संजीव ने 22 अक्टूबर 2019 को शेयर किया था। हालाँकि फिलहाल युवक ने विवादित पाेस्ट काे डिलीट कर दिया है और नया पाेस्ट करते हुए लिखा है, “मैंने जाे पाेस्ट शेयर किया था, उसके लिए मैं माफी माँगता हूँ।”

गौरतलब है कि धनबाद में अभी हाल ही में वासेपुर के लोगों ने नागरिकता संशोधन कानून के विरोध के नाम पर आपत्तिजनक नारे लगाए थे। प्रशासन की इजाजत के बिना शहर में जुलूस निकाला था। इससे शहर में घंटों अराजक स्थिति रही थी। इस घटना को लेकर करीब 3000 लोगों पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया था। हालॉंकि अगले ही दिन प्रशासन का रुख इनको लेकर नरम हो गया। खुद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर यह जानकारी दी थी।

मंदिर की दीवार पर ख़ून से लिख दिया नाम, इलाके में तनाव: ‘कसाई’ की दुकान पर काम करने वाला गिरफ़्तार

सबरीमाला: पवित्र यात्रा के रास्ते में फेंके माँस के टुकड़े व जानवरों के कंकाल, श्रद्धालुओं में आक्रोश

हिन्दुओं के 18 घरों को बनाया गया निशाना, फूँक दी गई गाड़ियाँ: ‘इज्तेमा’ में शामिल मुस्लिमों पर लगा आरोप

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP ने घोषित किए 195 उम्मीदवारों के नाम, वाराणसी से पीएम मोदी, गाँधी नगर से अमित शाह, दिल्ली में कटे 4 सांसदों के टिकट

वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गुजरात के गाँधी नगर से अमित शाह, मध्य प्रदेश की विदिशा सीट से पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, दिल्ली की नॉर्थ-ईस्ट सीट से मनोज तिवारी मैदान में हैं।

गूगल के प्ले स्टोर पर सभी 10 भारतीय ऐप्स रिस्टोर, मोदी सरकार की ओर से मिली थी चेतावनी: सर्विस चार्ज नहीं देने का IT...

सर्विस चार्ज पे नहीं करने का आरोप लगाकर गूगल ने कई भारतीय कंपनियों के ऐप प्ले स्टोर से हटा दिए। सरकार के हस्तक्षेप के बाद उसे झुकना पड़ा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe