Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजसिगरेट पीती हिंदू देवी पर फिल्म बनाने वाली 'Bisexual' डायरेक्टर के खिलाफ शिकायत: नहीं...

सिगरेट पीती हिंदू देवी पर फिल्म बनाने वाली ‘Bisexual’ डायरेक्टर के खिलाफ शिकायत: नहीं माँगी माफ़ी, कहा – टोरंटो की सड़कों पर घूमते दिखेगी ‘काली’

डॉक्यूमेंट्री बनाने वाली लीना ने हिंदुओं की भावना का मजाक अपने जवाब में उड़ाया और काली के पोस्टर पर समझाते हुए बोलीं, "ये फिल्म एक ऐसी शाम पर है जब काली प्रकट होती हैं और टोरंटो की सड़कों पर घूमती हैं। अगर आप इस तस्वीर को देखें तो #arrestleenamanimekalai की जगह #Loveyouleenamanimekalai लिखें।"

भारतीय फिल्म डायरेक्टर लीना मणिमेकलई (Leena Manimekalai) द्वारा बनाई गई डॉक्यूमेंट्री ‘काली (Kaali)’ का विवादित पोस्टर देखने के बाद उनके खिलाफ वकील विनीत जिंदल ने शिकायत दर्ज कराई है। ये शिकायत नॉर्थ वेस्ट दिल्ली में लीना के विरुद्ध दर्ज हुई है। शिकायतकर्ता ने कहा कि डॉक्यूमेंट्री के लिए जारी किया गया महाकाली का पोस्टj बेहद अपमानजनक है। इससे हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुई है। 

विनीत ने अपनी शिकायत में कहा कि इस प्रकार महाकाली को सिगरेट पीते देखना किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। हिंदुओं की भावनाओं को जानबूझकर आहत किया गया है। इसलिए लीना के विरुद्ध आईपीसी  की धारा 295 ए, 298, 505 और आईटी एक्ट 67 के तहत केस दर्ज होना चाहिए।

इस कंप्लेन में लीना के विरुद्ध एफआईआर के अलावा माँग की गई है कि इंटरनेट ने माँ काली के विवादित पोस्टर व वीडियो को हटाया जाए और ऐसी सामग्री प्रकाशित पर प्रतिबंध लगे। उन्होंने कहा,

“यह एक सोचा-समझा और दुर्भाग्यपूर्ण कार्य है। इसका उद्देश्य हिंदू समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आपत्तिजनक वीडियो और फोटो के जरिए आहत करना है, जिसे आरोपित ने अपने ट्विटर एकाउंट के जरिए शेयर किया था और जो सोशल मीडिया और पब्लिक प्लेटफार्म पर खूब प्रसारित हुआ था।”

बता दें कि काली का पोस्टर सोशल मीडिया में शेयर होने के बाद हिंदुओं ने इसे देख आपत्ति जताई ती और लीना मणिमेकलई की गिरफ्तारी की माँग उठाई थी। लेकिन तभी, पोस्टर को लेकर हुए तमाम विरोध के बाद भी लीना ने इस पर माफी नहीं माँगी और जवाब दिया, “ये फिल्म एक ऐसी शाम पर है जब काली प्रकट होती हैं और टोरंटो की सड़कों पर घूमती हैं। अगर आप इस तस्वीर को देखें तो #arrestleenamanimekalai की जगह #Loveyouleenamanimekalai लिखें।”

इसके अलावा, टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने तमिल में बीबीसी से बात करते हुए ये भी कहा, “मेरे पास खाने के लिए कुछ नहीं है। मैं एक ऐसी आवाज के साथ रहना चाहती हूँ जो बिना किसी डर के बोले जब तक वह है। अगर इसकी कीमत मेरी जान है तो मैं दे दूँगी।”

कौन है लीना?

बता दें कि लीना मणिमेकलई के बारे में मौजूद जानकारी बताती है कि लीना एक बायसेक्सुअल, सोशल एक्टिविस्ट, डायरेक्टर हैं। उन्होंने अब तक 15 फिल्म निर्देशित की हैं और 4 फिल्मों में एक्टिंग की है। लीना की सबसे ज्यादा मशहूर डॉक्यूमेंट्री 20 मिनट की महात्मा है। उन्हें 2004 से 2015 के बीच कई अवार्ड मिले हैं। 2 जुलाई को उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर ‘काली’ का पोस्टर शेयर किया, जिसे देख लोग भड़क गए और गिरफ्तारी की माँग तेज हो गई। इसी बीच ये भी सामने आया कि लीना मोहम्मद जुबैर की कट्टर समर्थक हैं जो अपने ट्विट्स के कारण इस समय जेल में है।

हिंदुओं की आपत्ति पर कोई सुनवाई नहीं

इससे पहले याद दिला दें कि ब्रह्मस्त्र फिल्म में रणबीर कपूर ने जूते पहन देवी की मूर्ति के सामने घंटी बजाई थी तब भी हिंदुओं ने अपनी आपत्ति दर्ज कराई थी लेकिन कार्रवाई कुछ नहीं हुई। दूसरी ओर खुद हाफिज फिल्म के हक हुसैन गाने पर कुछ दिन पहले शिया समुदाय ने अपनी आपत्ति व्यक्त की थी और इसे देखते हुए निर्माताओं ने गाने के लिरिक्स और सीन बदलने का निर्णय ले लिया। साथ ही समुदाय से अपने किए की माफी भी माँगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राक्षस के नाम पर शहर, जिसे आज भी हर दिन चाहिए एक लाश! इंदौर की महारानी ने बनवाया, जयपुर के कारीगरों ने बनाया: बिहार...

गयासुर ने भगवान विष्णु से प्रतिदिन एक मुंड और एक पिंड का वरदान माँगा है। कोरोना महामारी के दौरान भी ये सुनिश्चित किया गया कि ये प्रथा टूटने न पाए। पितरों के पिंडदान के लिए लोकप्रिय गया के इस मंदिर का पुनर्निर्माण महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था, जयपुर के गौड़ शिल्पकारों की मेहनत का नतीजा है ये।

मार्तंड सूर्य मंदिर = शैतान की गुफा: विद्यार्थियों को पढ़ाने वाला Unacademy का जहरीला वामपंथी पाठ, जानिए क्या है इतिहास

मार्तंड सूर्य मंदिर को 8वीं शताब्दी ईस्वी में बनाया गया था और यह हिंदू धर्म के प्रमुख सूर्य देवता सूर्य को समर्पित है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -