Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतितबलीगियों पर केजरीवाल सरकार सख्त, संक्रमण फैलाने को ठहराया जिम्मेवार: स्थिति को संभालने के...

तबलीगियों पर केजरीवाल सरकार सख्त, संक्रमण फैलाने को ठहराया जिम्मेवार: स्थिति को संभालने के लिए और वक्त की माँग

सीएम केजरीवाल ने कहा कि तबलीगी जमात से जुड़े सभी लोगों और उनके संपर्क में आने वाले लोगों को जानने के बाद स्थिति को पूरी तरह से नियंत्रित करने के लिए कम से कम दो सप्ताह की जरूरत होगी।

देश के साथ-साथ दिल्ली में तेजी से कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ाने के लिए जिम्मेवार तबलीगी जमात को लेकर केजरीवाल ने पहली बार सच को स्वीकार कर लिया है। पीएम मोदी से वीडियो कॉन्फ्रेंसिग जरिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि तबलीगी जमातियों के चलते कोरोना से जूझने के लिए सरकार को और वक्त चाहिए। केजरीवाल ने पीएम मोदी से लॉकडाउन की सीमा बढ़ाकर 30 अप्रैल तक करने की भी माँग की।

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए देश में जारी लॉकडाउन के 21 दिन की सीमा समाप्ती की ओर है। इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के सभी मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए से बात की और कोरोना से जंग लड़ने के लिए सुझाव भी माँगे। इस दौरान दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा लॉकडाउन को लेकर बनाई गई सभी नीतियों का दिल्ली सरकार पालन करेगी।

30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाने की बात: विपक्षी मुख्यमंत्रियों ने PM से की सिफारिश, राष्ट्रीय स्तर पर फैसले का सुझाव

PM मोदी ने लिया लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने का निर्णय, CM केजरीवाल ने सराहा

इस बीच केजरीवाल ने कहा कि तबलीगी जमात से जुड़े सभी लोगों और उनके संपर्क में आने वाले लोगों को जानने के बाद स्थिति को पूरी तरह से नियंत्रित करने के लिए कम से कम दो सप्ताह की जरूरत होगी। इसी के साथ केजरीवाल ने लॉकडाउन को दो सप्ताह तक बढ़ाने को लेकर पीएम मोदी से चर्चा की। इस दौरान दिल्ली और पंजाब के मुख्यमंत्री सहित देश के कई मुख्यमंत्रियों ने पीएम मोदी से लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने की माँग की।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि “मैं 24 घंटे उपलब्ध हूँ। कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर कोई भी मुख्यमंत्री किसी भी समय मुझे कोई सुझाव दे सकता है। हमें इस मुद्दे पर कंधे से कंधा मिलाकर चलना होगा।” बैठक के दौरान कई मुख्यमंत्री मास्क पहने दिखाई दिए, लेकिन मोदी ने अपने गमछे को ही मुँह पर मास्क की तरह लपेट रखा था।

आपको बता दें कि दिल्ली निजामुद्दीन की घटना के बाद से दिल्ली सहित देश के दूसरे राज्यों तक कोरोना को फैलाने और देश में तेजी से कोरोना संक्रिमत लोगों की संख्या बढ़ाने में तबलीगी जमातियों का बहुत बड़ा हाथ रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe