Tuesday, November 30, 2021
Homeदेश-समाजग्राउंड रिपोर्ट: बृजपुरी मस्जिद की तरफ से आए दंगाई और राहुल को मार दी...

ग्राउंड रिपोर्ट: बृजपुरी मस्जिद की तरफ से आए दंगाई और राहुल को मार दी गोली…

"हम सब गली के बाहर निकले। हमारे साथ राहुल भी था कुछ समझ नहीं आ रहा था कि आखिर हो क्या रहा है। इतने में ही देखा कि बृजपुरी मस्जिद की ओर से हजारों की संख्या में मजहबी भीड़ हाथों में ईंट-पत्थर, हथियार लिए हमारी ओर चली आ रही है..."

दिल्ली के कई इलाकों में सीएए विरोध के नाम पर अंजाम दिए गए हिन्दू विरोधी दंगों के बाद एक बड़ा ग्रुप दंगाइयों को ही पीड़ित साबित करने में जुटा है। इनमें विपक्षी दल, लिबरल, वामपंथी और मीडिया का समुदाय विशेष भी शामिल है। इस बीच असली हिंदू पीड़ितों की गलियों में सन्नाटा पसरा हुआ है। पीड़ित घरों में मातम छाया हुआ है। यह कहानी हर एक उस हिंदू परिवार की है, जिस किसी ने अपने को खोया या फिर किसी दूसरे का जीवन में कमाया हुआ सब कुछ बर्बाद हो गया। कुछ ऐसी ही कहानी है बृजपुरी में रहने वाले राहुल ठाकुर की जिनको दंगाइयों ने मार डाला।

हम शनिवार को बृजपुरी स्थित राहुल ठाकुर के घर पहुँचे। घर के बाहर सांत्वना देने के लिए आसपड़ोस के लोग जुटे हैं। अपना सिर झुकाए गमगीन बैठे पिता को घर के बाहर, तो कमरे के अंदर बैठी कुछ महिलाएँ राहुल की माँ को संभाल रहीं थीं। हमने घटना के बारे में जानकारी लेने की कोशिश की तो वहाँ बैठे घटना के चश्मदीद अपनी आँखों देखी हमें बताने लगे। चश्मदीद, “सोमवार को चाँदबाग से शुरू हुई हिंसा एक के बाद दूसरे इलाकों में मजहबी भीड़ के साथ फैलती चली जा रही थी, जो कि करावल नगर होते हुए खजूरी, जाफराबाद और शिव विहार तक जा पहुँची। चारों और ईंट-पत्थरों की आवाज हुई तो हर कोई अपने घरों से बाहर की ओर यह देखने के लिए निकला कि आखिर हो क्या रहा है।”

चश्मदीद के मुताबिक, “हम सब गली के बाहर निकले। हमारे साथ राहुल भी था कुछ समझ नहीं आ रहा था कि आखिर हो क्या रहा है। इतने में ही देखा कि बृजपुरी मस्जिद की ओर से हजारों की संख्या में इस्लामी भीड़ हाथों में ईंट-पत्थर, हथियार लिए हमारी ओर चली आ रही है। हम अपने को संभाल पाते इससे पहले ही पता चला कि हमारे बगल में खड़े राहुल को एक गोली आकर लगी और वह पेट पकड़े जमीन पर गिर गया। सामने से मजहबी भीड़ को देख हमने आनन-फानन में राहुल को गोद में उठाया और पीछे वाले रास्ते से अस्पताल ले गए। कुछ देर चले उपचार के बाद डॉक्टरों ने राहुल को मृत घोषित कर दिया।”

इस बात की जानकारी दरवाजे पर बैठकर राहुल के घर आने का इंतजार रही माँ ममता देवी को जैसे ही हुई ऐसे ही वह दहाड़ मार-मार कर रोने लगीं और पूरे परिवार में कोहराम तो गली में मातम छा गया। राहुल के पिता आरपीएफ में हैं और पंजाब में तैनात हैं। उन्हें जैसे ही बेटे की मौत की खबर मिली पैरों तले जमीन खिसक गई और उनके मुँह से बस एक ही बात निकली “उसको क्या जरूरत थी घर से बाहर जाने की।”

बाहर बैठे लोगों से बात करने के बाद हमने राहुल की माताजी जी से मिलने की इच्छा जाहिर की। हमने कमरे में प्रवेश करने के लिए अपने जूते उतारे ही थे कि सामने बैठी राहुल की माताजी भरे हुए गले से जोर से बोलीं, “कमरे के अंदर आओ तो मेरे बेटे राहुल को लेकर ही आना, नहीं तो वापस चले जाना” इतना कहते ही ममता देवी फफक पड़ीं। इतनी भारी आवाज और उसमें छिपे दर्द और गुस्से को सुन एक बार तो मैं भी सिहर सा गया और दूर से ही माता जी तो प्रणाम कर वापस लौट लिया, क्योंकि जिस राहुल को वह मेरे साथ देखना चाहती थी, वह मेरे पास नहीं बल्कि भगवान के पास था, जिसे मजहबी भीड़ ने उनसे छीन लिया था।

राहुल की मौत के बाद परिजनों को सांत्वना देते आसपास के लोग

बृजपुरी की गली नंबर 6 में रहने वाले 23 वर्षीय मनीष सिंह उर्फ राहुल ठाकुर SSC की तैयारी कर रहे थे। दो भाइयों में राहुल दूसरे नंबर पर थे। राहुल की मौत के बाद परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। बड़े भाई अभिषेक का रो-रोकर बुरा हाल है। राहुल की मौत के बाद से वे घर से बाहर तक नहीं निकले हैं और न किसी से बात करने को तैयार हैं।

जो हिंदू लड़की करती थी दुआ सलाम, उसी की शादी को जला कर राख कर डाला: चाँद बाग ग्राउंड रिपोर्ट

‘हमारी बेटियों को नंगा करके भेजा दंगाइयों ने, कपड़े उतारकर अश्लील हरकतें की’ – करावल नगर ग्राउंड रिपोर्ट

पहले से जमा कर रखे थे पत्थर, हिंदुओं पर हमले के लिए बहू-बेटियों को भी दे रहे थे लाठी: महिला चश्मदीद

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,538FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe