Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजऑपइंडिया की वो 3 ग्राउंड रिपोर्ट, जिससे राजधानी स्कूल हुआ था बेनकाब: दिल्ली दंगों...

ऑपइंडिया की वो 3 ग्राउंड रिपोर्ट, जिससे राजधानी स्कूल हुआ था बेनकाब: दिल्ली दंगों में निजामुद्दीन कनेक्शन की कहानी

दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट में राजधानी पब्लिक स्कूल के मालिक फैजल फारुख को एक मुख्य साजिशकर्ता के रूप चिन्हित करते हुए कहा कि जब पूर्वोत्तर दिल्ली में दंगे हो रहे थे, उस समय वो तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद के करीबी अब्दुल अलीम के संपर्क में था।

गत फरवरी माह में हिन्दू-विरोधी दिल्ली दंगों की जाँच में दिल्ली पुलिस को इन दंगों का सम्बन्ध निजामुद्दीन मरकज से होने के भी प्रमाण मिल रहे हैं।

राजधानी पब्लिक स्कूल (Rajdhani Public School, Shiv Vihar) की छत से बड़ी गुलेल के जरिए पत्थर और एसिड बम आदि फेंके गए थे। इस स्कूल का मालिक फैजल फारुख (Faisal Farooque) के मोबाइल से इस बात के अहम सबूत मिले हैं। फैजल दंगों से ठीक पहले निजामुद्दीन मरकज के प्रभावशाली लोगों के साथ ही जामिया कोऑर्डिनेशन कमिटी, देवबंद के कई मौलवियों-आलिमों, पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के कई नेताओं, पिंजरा तोड़ ग्रुप के संपर्क में था।

दंगों के मामलों में दूसरी चार्जशीट राजधानी स्कूल केस में दायर की गई है, जो कि 5 मार्च को दर्ज किया गया था। यह मामला राजधानी पब्लिक स्कूल, शिव विहार, न्यू मुस्तफाबाद, दिल्ली के बाहर 24 फरवरी को हुए दंगों के लिए दर्ज किया गया था।

दिल्ली पुलिस ने अदालत में दायर चार्जशीट में राजधानी पब्लिक स्कूल (Rajdhani Public School, Shiv Vihar) के मालिक फैजल फारुख को एक मुख्य साजिशकर्ता के रूप चिन्हित करते हुए कहा कि जब पूर्वोत्तर दिल्ली में दंगे हो रहे थे, उस समय वो तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद के करीबी अब्दुल अलीम के संपर्क में था।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली में घटित हिन्दू विरोधी दंगों के दौरान सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे एक वीडियो में से एक शिव विहार के राजधानी पब्लिक स्कूल का भी सामने आया था। इस स्कूल का मालिक ही फैज़ल फारुख है।

ऑपइंडिया ने इन दंगों की ग्राउंड रिपोर्ट के दौरान दिल्ली के शिव विहार स्थित राजधानी स्कूल और उसके आस पास के क्षेत्र से कुछ जानकारियाँ जुटाई थीं, जो कुछ इस तरह से हैं –

  1. फरवरी 24, 2020 को दंगाइयों ने पहले तो करावल नगर खजुरी खास स्थित ताहिर हुसैन (Tahir Hussain) के मकान को और फिर शिव विहार स्थित राजधानी पब्लिक स्कूल को अपना केन्द्र बनाया था, क्योंकि यह दोनों ही इमारतें हिंदू इलाके में ऊँची और मुस्लिम मालिकों की थीं।
  2. राजधानी स्कूल को एक ‘अटैक बेस’ की तरह प्रयोग में लाया गया। वहाँ दंगाइयों को संरक्षण मिला था।
  3. इस स्कूल की छत पर एक बडा गुलेल सेट किया गया था।
  4. छत पर बड़ी संख्या में ईंट-पत्थर और पेट्रोल बम तथा तेजाब की बोतलों को पहले से ही तैयारी के साथ रखा गया था।
  5. इस गुलेल का इस्तेमाल पत्थर और पेट्रोल बम बरसाने के लिए किया गया। यहीं से पूरे क्षेत्र में बमबारी की गई, पत्थरबाजी हुई, गोली चलाई गई।
  6. ये गुलेल आम गुलेल की तरह नहीं बल्कि लोहे की रॉड पर रबड़ लगाकर बड़े आकार में बनाया गया था।
  7. स्कूल की छत से बगल में हिन्दुओं के एक स्कूल को दंगाइयों ने तहस-नहस कर दिया।
  8. स्कूल से सभी मुस्लिम बच्चों को पहले ही निकाल दिया गया था और फिर इसी स्कूल में शेष हिंदुओं के बच्चों को बंधक भी बनाया गया था।
  9. स्कूल की छत को अपना केन्द्र बनाकर हजारों दंगाइयों ने हिंदुओं के घरों और संपत्तियों को निशाना बनाकर उनको तबाह किया था।

दंगाइयों ने अनिल स्वीट्स से जुड़ी एक इमारत को भी जला दिया था, जो सड़क के दूसरी तरफ राजधानी स्कूल के सामने मौजूद थी। यहीं अनिल स्वीट्स के एक कर्मचारी दिलबर नेगी अंदर फंसे हुए थे, जिन्हें काटकर जिन्दा आग में झोंक दिया गया था और उनका राख हुआ शव पुलिस को बाद में बरामद हुआ था।

इस मामले में फैज़ल फारुख, जो कि राजधानी पब्लिक स्कूल का मालिक है, सहित अठारह व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस श्रीजेश ‘The Wall’ के दम पर हॉकी में मिला ब्रॉन्ज मेडल… शिवसैनिकों ने उन्हें पाकिस्तानी समझ धमकाया था

टीम इंडिया के खिलाड़ी श्रीजेश ने शिव सैनिकों को कहा, "यार अपने इंडिया के प्लेयर को तो पहचानते नहीं हो पाकिस्तानी प्लेयर्स को कैसे पहचानोगे।''

दाँत काट घायल किया… दर्द से कराहते रवि कुमार दहिया ने फिर भी फाइनल में बनाई जगह – देखें वीडियो

टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में रवि कुमार दहिया और रूस के जौर रिजवानोविच उगवे के बीच मुकाबला होगा। गोल्ड मेडल के लिए...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,075FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe