Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाज6 साल की बच्ची का रोज प्राइवेट पार्ट छूता था मोहम्मद अजहर, बच्चों को...

6 साल की बच्ची का रोज प्राइवेट पार्ट छूता था मोहम्मद अजहर, बच्चों को स्कूल लाने ले जाने का था कामः एक साल से कर रहा था यौन शोषण

अजहर बच्ची के साथ पिछले एक साल से ऐसा कर रहा था। पीड़िता की माँ को इस बारे में तब पता चला जब लड़की ने प्राइवेट पार्ट में दर्द बताया और अजहर की कैब में बैठने से मना कर दिया।

दिल्ली में छह साल की बच्ची के यौन उत्पीड़न के आरोप में बुधवार (26 अप्रैल 2023) को एक कैब ड्राइवर को गिरफ्तार किया गया। आरोपित की पहचान जैतपुर के रहने वाले मोहम्मद अजहर (Mohd Azhar) के रूप में हुई है। 30 वर्षीय अजहर अपनी कैब से बच्ची को स्कूल लेकर जाता था। बच्ची की माँ की शिकायत के आधार पर शाहीन बाग पुलिस थाने में आरोपित के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। उसके खिलाफ पॉक्सो एक्ट के तहत भी केस दर्ज किया गया है। पुलिस मामले की जाँच में जुट गई है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीड़िता की माँ ने अपनी शिकायत में बताया कि उसने कैब ड्राइवर को अपनी बेटी को डिफेंस कॉलोनी इलाके में उसके स्कूल ले जाने के लिए लगाया था। अजहर पिछले एक साल से उनकी मासूम बच्ची के साथ घिनौनी हरकत को अंजाम दे रहा था। वह उसे स्कूल ले जाते समय उसके प्राइवेट पार्ट को गलत तरीके से छूता था।

माँ को इस बात के बारे में तब पता चला जब बच्ची ने अपने प्राइवेट पार्ट में दर्द की शिकायत की और वैन में चढ़ने से इनकार कर दिया। इसके बाद बच्ची के माता-पिता को कुछ गड़बड़ होने का अंदेशा हुआ। तब माँ के पूछने पर बच्ची ने उन्हें बताया कि कैब ड्राइवर पिछले एक साल से उसे स्कूल ले जाते समय गलत तरीके से उसके प्राइवेट पार्ट को छूता है।

साउथ दिल्ली के डीसीपी राजेश देव ने कहा, “बच्ची की माँ की शिकायत के आधार पर हमने शाहीन बाग पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 376 (बलात्कार) और यौन अपराधों के खिलाफ बच्चों के संरक्षण अधिनियम (पॉक्सो एक्ट) के तहत मामला दर्ज कर आरोपित ड्राइवर मोहम्मद अजहर को गिरफ्तार कर लिया है।”

वहीं, पुलिस जाँच में सामने आया है कि वह हर रोज 20 से 25 बच्चों को स्कूल लाता और ले जाता था। इसमें ज्यादातर बच्चे पहली और दूसरी कक्षा के थे। मोहम्मद अजहर का 2 मई 2023 को निकाह होने वाला था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -