Monday, April 15, 2024
Homeदेश-समाजगणतंत्र दिवस पर न गाएँ वंदे मातरम, 'भारत माता की जय' भी न बोलें:...

गणतंत्र दिवस पर न गाएँ वंदे मातरम, ‘भारत माता की जय’ भी न बोलें: देवबंद दारुल उलूम का फ़तवा

"इस्लाम में सिर्फ़ अल्लाह की इबादत होती है। भारत माता की जय बोलते समय एक प्रतिमा का ख़याल आता है, इसी कारण मुस्लिमों को यह नारा नहीं लगाना चाहिए।"- मुफ़्ती तारिक़ क़ासमी

एक ओर जहाँ सारा देश इस वक़्त 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस की तैयारियों में व्यस्त है और बेसब्री से इंतज़ार भी कर रहा है, वहीं देवबंद उलेमा ने एक विवादित फ़रमान जारी कर दिया है कि गणतंत्र दिवस पर वन्दे मातरम न गाया जाए। इसी के साथ ‘भारत माता की जय’ बोलने पर भी प्रतिबन्ध लगा दिया गया है।

मदरसा जामिया हुसैनिया के मुफ़्ती तारिक़ कासमी ने 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर वंदे मातरम न गाने और ‘भारत माता की जय’ भी न बोलने पर पाबंदी लगा दी है। इस बात पर उन्होंने तर्क दिया है कि वन्देमातरम और भारत माता के नारे इस्लाम के ख़िलाफ़ हैं।

उनके अनुसार, “इस्लाम में सिर्फ़ अल्लाह की इबादत होती है। भारत माता की जय बोलते समय एक प्रतिमा का ख़याल आता है, इसी कारण मुस्लिमों को यह नारा नहीं लगाना चाहिए।” अपनी बात आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि मुस्लिम सिर्फ़ हिंदुस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगा सकते हैं और देशभक्ति ज़िन्दा रखने का यही तरीका सही है। उन्होंने पूछा कि वन्दे मातरम में ऐसा कौन सा शब्द है जो इस बात की दलील देता हो कि यह देशभक्ति है?

मुफ़्ती तारिक़ कासमी ने कहा कि मुस्लिमों ने पहले भी देशभक्ति नारे लगाए हैं और आगे भी लगाते रहेंगे, लेकिन ‘भारत माता की जय’ के नारे बिल्कुल नहीं लगाएँगे। इस किस्से के चर्चा में आने के बाद उलेमा ने कारण दिया है कि वन्दे मातरम गाने और ‘भारत माता की जय’ बोलने से देशभक्ति साबित नहीं होती है।

बता दें कि कुछ दिन पहले ही इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद गणतंत्र दिवस पर अपने छात्रों के बाहर आने-जाने पर पाबंदी का फ़रमान जारी कर चुका है। पाबंदी के लिए जारी किए गए सर्कुलर के अनुसार, अगर 26 जनवरी के मौक़ पर छात्र बाहर जाते हैं तो उन्हें कई मुसीबतों का का सामना करना पड़ सकता है। इसमें कहा गया था कि इस दौरान उनका उत्पीड़न हो सकता है। इस नाते एहतियाद बरतते हुए छात्र संस्थान परिसर से बाहर न जाएँ, इसके साथ ही छात्रों को ट्रेन में सफर न करने को भी कहा गया था।

अपने अज़ीबोग़रीब फ़तवों को लेकर अक्सर चर्चा में आने वाले इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद के इफ़्ता विभाग (फ़तवा विभाग) ने इसी जनवरी माह में मोबाइल फोन से सेल्फ़ी लेने पर फ़तवा जारी करते हुए कहा था कि यह नाजायज़ चीज़ है। उन्होंने बयान दिया था कि सेल्फ़ी के सोशल मीडिया पर प्रकाशित होने से मर्दों और औरतों की नज़र इस पर पड़ती है, जिससे बेशर्मी बढ़ती है। उन्होंने यह भी कहा था कि सिर्फ़ सरकारी दस्तावेज़ों के लिए ही फ़ोटो ली जानी चाहिए।

इसके अलावा फ़तवा विभाग ने कहा था कि सार्वजानिक स्थानों और शादी- विवाह में महिला और पुरुषों को साथ खाना नहीं खाना चाहिए और औरतों को सलीके से ही कपड़े पहनकर जाना चाहिए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पत्रकार ने कन्हैया कुमार से पूछा सवाल, समर्थक ने PM मोदी की माँ को दी गाली… कॉन्ग्रेस नेता ने हँसते हुए कहा- अभिधा और...

कॉन्ग्रेस प्रत्याशी कन्हैया कुमार की चुनाव प्रचार की रैली में उनके समर्थकों ने समर्थक पीएम मोदी को गाली माँ की गाली दी है।

EVM का सोर्स कोड सार्वजनिक करने को लेकर प्रलाप कर रहे प्रशांत भूषण, सुप्रीम कोर्ट पहले ही ठुकरा चुका है माँग, कहा था- इससे...

प्रशांत भूषण ने यह झूठ भी बोला कि चुनाव आयोग EVM-VVPAT पर्चियों की गिनती करने को तैयार नहीं है। इसको लेकर मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe