Friday, July 1, 2022
Homeराजनीतिभवानीपुर में BJP उपाध्यक्ष दिलीप घोष पर हमला, TMC के गुंडों पर 'हत्या की...

भवानीपुर में BJP उपाध्यक्ष दिलीप घोष पर हमला, TMC के गुंडों पर ‘हत्या की कोशिश’ के आरोप: चुनाव आयोग ने माँगा जवाब

भाजपा आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय ने कहा कि भाजपा को भवानीपुर में चुनाव प्रचार से रोका जा रहा है। निर्वाचन आयोग ने इस घटना को लेकर राज्य सरकार से जवाब माँगा है।

पश्चिम बंगाल के भवानीपुर में प्रियंका टिबरेवाल के लिए चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष पर हमला हुआ है। सत्ताधारी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के गुंडों पर उनके साथ धक्का-मुक्की करने के आरोप लगे हैं। भवानीपुर में सोमवार (27 सितंबर, 2021) को चुनाव प्रचार का आखिरी दिन है, ऐसे में भाजपा ने अपने 80 नेताओं को विधानसभा क्षेत्र के अलग-अलग इलाकों में चुनाव प्रचार के लिए लगाया है।

दिलीप घोष पश्चिम बंगाल में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे हैं। उन पर जब हमला हुआ, तब किसी तरह उनके सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें वहाँ से निकाला। उन्होंने पूछा कि जब राज्य में मुख्यमंत्री के ही गृह क्षेत्र में ही एक जनप्रतिनिधि पर हमला किया जाता है तो सोचिए, राज्य में आम आदमी की क्या हालत होगी? जागुबबूर बाजार में उन पर हमला किया गया। उन्होंने कहा कि ये हमला सत्ताधारी दल के घृणित और डरावनी प्रकृति को उजागर करता है।

उन्होंने कहा, “ये एक पूर्व-नियोजित हमला था, जो TMC के गुंडों व अपराधियों द्वारा मेरी हत्या के उद्देश्य से किया गया था। क्या इस घटना के बाद स्वच्छ तरीके से चुनाव कराए जा सकते हैं?” उन्होंने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी के गुंडों ने पुलिस की भी पिटाई की है। उन्होंने कहा कि ये लोगों को डराने के लिए किया गया है, ताकि वो वोट देने नहीं निकले। इस घटना के वीडियोज भी सोशल मीडिया पर शेयर किए गए हैं।

स्थिति इतनी बिगड़ गई थी कि TMC के गुंडों को वहाँ से हटाने के लिए दिलीप घोष के सुरक्षाकर्मियों को उन पर बंदूक ताननी पड़ी। भाजपा आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय ने कहा कि भाजपा को भवानीपुर में चुनाव प्रचार से रोका जा रहा है। निर्वाचन आयोग ने इस घटना को लेकर राज्य सरकार से जवाब माँगा है। आज शाम 4 बजे तक जवाब दाखिल करने के लिए कहा गया है। भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने भी कहा कि जितनी भी हिंसा हो, भाजपा की जीत पक्की है।

बता दें कि भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र में गुरुवार (30 सितंबर, 2021) को उपचुनाव होने हैं और मुख्यमंत्री के पद पर बने रहने के लिए ममता बनर्जी के लिए ये चुनाव जीतना अनिवार्य है। नंदीग्राम से भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने उन्हें हरा दिया था। राजधानी कोलकाता में भी भाजपा व TMC कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई है। भाजपा नेता अग्निमित्रा पॉल ने कहा कि TMC के असहिष्णु कार्यकर्ता भाजपा वालों को प्रताड़ित कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe