Monday, July 22, 2024
HomeराजनीतिLPG सिलिंडर के दाम में ₹200 की कटौती: रक्षाबंधन पर 33 करोड़ उपभोक्ताओं को...

LPG सिलिंडर के दाम में ₹200 की कटौती: रक्षाबंधन पर 33 करोड़ उपभोक्ताओं को मोदी सरकार का तोहफा, ‘उज्ज्वला’ वालों को मात्र ₹700 में मिलेगा गैस सिलिंडर

केंद्र सरकार की ओर से कैबिनेट मंत्री अनुराग ठाकुर ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अब घरेलू गैस के सिलेंडर के दाम ₹1100 की जगह ₹900 हो गए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिलाओं को रक्षा बंधन का तोहफा दिया है। उन्होंने मध्यम वर्ग और गरीबों को बड़ी राहत देने के निर्देश दिए थे, जिसके बाद घरेलू गैस सिलेंडर की कीमतों में 200 रुपए प्रति सिलेंडर की कमी का ऐलान किया गया है। इसका फायदा देश भर के करीब 33 करोड़ उपभोक्ताओं को मिलेगा। पूरे देश में 33 करोड़ घरेलू गैस कनेक्शन जारी किए गए हैं।

पीएम उज्जवला योजना के लाभार्थियों को डबल फायदा

केंद्र सरकार की ओर से कैबिनेट मंत्री अनुराग ठाकुर ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अब घरेलू गैस के सिलेंडर के दाम ₹1100 की जगह ₹900 हो गए हैं। यही नहीं, देश भर में प्रधानमंत्री उज्जवला योजना (PMUY) के 9.6 करोड़ से अधिक कनेक्शनों, जिन्हें सिलेंडरों पर पहले से 200 रुपए की सब्सिडी मिलती है, उन्हें ये सिलेंडर सिर्फ ₹700 में मिलेगा।

नए उज्जवला कनेक्शन भी मिलेंगे

इस बीच मोदी सरकार ने 75 लाख अतिरिक्त उज्जवला कनेक्शनों को भी मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही पूरे देश में प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के कुल लाभार्थियों की संख्या बढ़कर 10.35 करोड़ हो जाएगी। अनुराग ठाकुर ने कहा कि उज्जवला योजना पर 3500 रुपए सरकार खर्च करती है। अभी देश में कुल 9.6 करोड़ लाभार्थी हैं। इस योजना के तहत सिलेंडर, चूल्हा, पाइप सबकुछ मुफ्त में मिलता है।

अनुराग ठाकुर ने कहा कि दुनिया में गैस-तेल के दाम तेजी से बढ़े हैं। सऊदी अरब तक में 300% से ज्यादा कीमतें बढ़ी हैं। लेकिन मोदी सरकार में सिर्फ 63 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

हर माह 1 तारीख को बदलती हैं कीमतें

बता दें कि भारत में हर महीने की पहली तारीख को दामों के घटने-बढ़ने की जानकारी खुद गैस कंपनियाँ देती हैं। लेकिन इस बार सरकार ने एक साथ 200 रुपए दाम कम कर दिए हैं। अब सामान्य कनेक्शन पर 900 रुपए में सिलेंडर मिलेगा, तो उज्जवला योजना में महज 700 रुपए का।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

जो बायडेन फिर से बने अमेरिकी राष्ट्रपति उम्मीदवार: ‘भूलने की बीमारी’ के कारण कर दिया था ट्वीट, सदमे में कमला हैरिस, 12 घंटे से...

जो बायडेन टेस्ट ले रहे थे कमला हैरिस का। वो भोकार पार-पार के, सर पटक कर रोने के बजाय खुश हो गईं। पिघलने के बजाय बायडेन को गुस्सा आ गया और...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -