Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजमुस्तकीम की गाड़ी पर लिखी थी 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ', हो रही थी गो...

मुस्तकीम की गाड़ी पर लिखी थी ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’, हो रही थी गो तस्करी: गोरक्षकों ने रोका तो करने लगे फायरिंग, गाड़ी और 6 गोवंश बरामद

हरियाणा के फरीदाबाद में गोतस्करी में प्रयोग हो रही मुस्तकीम की गाड़ी से बरसाए गए पत्थरों और गोलियों के बीच गोरक्षकों ने बचाए 6 गोवंश। गायों को गोशाला में रखने के साथ तस्करी में प्रयोग हो रहे वाहन को भेजा गया थाने में। मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर के जाँच शुरू कर दी है। तस्कर फरार हैं जिनकी तलाश की जा रही है।

हरियाणा के फरीदाबाद में एक बार फिर से गोरक्षकों और गोतस्करों के बीच भिड़ंत हुई है। इस भिड़ंत के बाद 6 जीवित गौवंश को बरामद किया गया है। इस दौरान गो तस्करों द्वारा गोरक्षकों पर पत्थरबाजी भी की गई। गौवंशों को एक वाहन से तस्करी के लिए ले जाया जा रहा था। सभी तस्कर गाड़ी छोड़ कर भाग गए। मामले की सूचना पुलिस को दे दी गई है। पुलिस ने गाड़ी को अपने कब्ज़े में ले लिया है। घटना बुधवार (20 दिसंबर 2023) सुबह की है।

गौरक्षक ‘लिव फॉर नेशन’ के सदस्यों ने इस घटना को अपने फेसबुक पेज पर LIVE किया है। लगभग 2 मिनट के इस वीडियो में एक सफेद रंग का बोलेरो वाहन दिख रहा है। वीडियो लाइव कर रहे व्यक्ति को यह दावा करते सुना जा सकता है कि उस महिंद्रा पिकअप में 6 गोवंशों को भर के ले जाया जा रहा था। साथ ही यह भी बताया गया कि तस्करी में प्रयोग हो रहे गाड़ी को एक मुठभेड़ के बाद पकड़ा गया था। कर्मर्शियल गाड़ी के पीले रंग के प्लेट पर नंबर HR 55 AQ 2956 दिख रहा है।

लिव फॉर नेशन संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल कौशिक ने इस घटना की जानकारी देते हुए बताया कि गाड़ी पकड़ने में काफी मेहनत करनी पड़ी। उन्होंने गौ तस्करों द्वारा पत्थर फेंकने और गोलियाँ चलाने का आरोप लगाया गया है। गाड़ी को सोहना रोड के धौज थाना क्षेत्र में आलमपुर में पकड़ा गया है। तस्करों की संख्या 6 से 7 के बीच बताई जा रही है। खुद को घिरता देखकर सभी तस्कर गाड़ी छोड़कर भाग निकले।

उन्होंने आगे बताया कि गाड़ी में 6 गोवंशों को बेरहमी से ठूँस कर भरा गया था। वे गाड़ी को लेकर थाना धौज गए और वहाँ उन्होंने केस दर्ज करवाया। इस दौरान रास्ते में उन्होंने टोल पर खड़े एक व्यक्ति का धन्यवाद भी दिया, जिसने तस्करों को पकड़वाने में उनकी मदद की। बरामद गोवंशों को गोशाला में रखा गया है। गाडी के पीछे ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ का स्लोगन लिखा हुआ था।

ऑपइंडिया ने जब पकड़े गए वाहन की जानकारी जुटाई तब यह उस्मान खान के बेटे मुस्तकीम खान के नाम पर रजिस्टर्ड मिली। मुस्तकीम मूल रूप से राजस्थान के अलवर जिले में लाडिया इलाके का निवासी है। वह फ़िलहाल गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल के पास सेक्टर 38 में रहता है। गाड़ी भी इसी पते पर खरीदी गई है। यह वाहन इसी साल जून 2023 में कमर्शियल कार्यों के लिए खरीदा गया है।

अगस्त 2023 में राजस्थान के भिवाड़ी में इस वाहन का 1100 रुपए का चालान भी हुआ था। इस चालान को आज तक नहीं भरा गया है। घटना के दौरान इस गाड़ी को तारीफ खान नाम का ड्राइवर चला रहा था। ऑपइंडिया ने पिकअप वाहन के मालिक को कई बार सम्पर्क किया, लेकिन उधर से कोई जवाब नहीं आया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

3 आतंकियों को घर में रखा, खाना-पानी दिया, Wi-Fi से पाकिस्तान करवाई बात: शौकत अली हुआ गिरफ्तार, हमलों के बाद OGW नेटवर्क पर डोडा...

शौकत अली पर आरोप है कि उसने सेना के जवानों पर हमला करने वाले आतंकियों को कुछ दिन अपने घर में रखा था और वाई-फाई भी दिया था।

नई नहीं है दुकानों पर नाम लिखने की व्यवस्था, मुजफ्फरनगर पुलिस ने काँवड़िया रूट पर मजहबी भेदभाव के दावों को किया खारिज: जारी की...

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पुलिस ने ताजी एडवायजरी जारी की है, जिसमें दुकानों और होटलों पर मालिकों के नाम लिखने को ऐच्छिक कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -