Sunday, April 21, 2024
Homeदेश-समाजईसाई स्कूल में जबरन धर्म परिवर्तन, विरोध करने पर वार्डन ने 9वीं के लड़के...

ईसाई स्कूल में जबरन धर्म परिवर्तन, विरोध करने पर वार्डन ने 9वीं के लड़के को इतना मारा कि वो मर गया

"धर्मान्तरण के लिए दबाव बनाए जाने से नाखुश रहने वाले बच्चों के संबंध में बात करते हुए हॉस्टल का वार्डन स्कूल के फादर से झूठ बोलता था। पिछले साल भी एक लड़की ने इसी मामले को लेकर आत्महत्या की थी।"

त्रिपुरा में पबियाछारा के कुम्हारघाट होली क्रॉस स्कूल में जबरन धर्म परिवर्तन कराए जाने से नौवीं कक्षा का एक छात्र परेशान था। इस बात को लेकर स्कूल मैनेजमेंट का उसने विरोध भी किया था। लेकिन उसका विरोध उस पर भारी पड़ा। उसे हॉस्टल में प्रताड़ित किया गया, जिसके कारण जीबीपी अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। मृतक छात्र की पहचान हैप्पी देबबर्मा के रूप में हुई है।

15 वर्षीय छात्र देबबर्मा की मौत ने त्रिपुरा सरकार को इस मामले में न्यायिक जांच की ओर कदम बढ़ाने को लेकर विवश कर दिया है। बता दें कि छात्र की मौत का कारण भयंकर तरीके से किए गए वार के चलते आई अंदरूनी चोट बताई गई है।

इस मामले में होली क्रॉस स्कूल के वार्डन बुलचुंग हलम के खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई है। बता दें कि वार्डन बुलचुंग छात्र देबबर्मा को हमेशा परेशान किया करता था। 25 सितम्बर को वार्डन ने हैप्पी के कमरे में घुसकर उसे इतनी लात मारी कि उसे गंभीर चोटें आईं और इलाज के दौरान उसकी मौत भी हो गई।

इस मामले में पुलिस ने ईसाई स्कूल के पादरियों और स्कूल में हॉस्टल के वार्डन को मृतक छात्र की माँ की तहरीर पर गिरफ्तार कर लिया है। हालाँकि पादरी जो पॉल और फादर अल्फ्रेड को बेल दे दी गई मगर बुलचुंग और फादर लेंसी डी सूज़ा को हिरासत में लिया गया है।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक छात्र हैप्पी तमाम गरीब बच्चों का जबरन धर्म परिवर्तन कराए जाने के खिलाफ था। बुल्चुंग द्वारा जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करने का हैप्पी ने विरोध किया। नाराज़ बुलचुंग ने इस पर हैप्पी को बुलाया और एक ऐसे कोने में लेकर गया जो किसी भी CCTV की नज़र में नहीं है। मौके का फायदा उठाते हुए बुलचुंग ने छात्र देबबर्मा को पीटना शुरू कर दिया। इस दौरान हैप्पी के सीने में बुलचुंग ने इतनी ज़ोर से मुक्का मारा कि वह वहीं गिर गया। इसके बाद उसने हैप्पी के ऊपर चढ़कर उसको मारना शुरू कर दिया। रिपोर्ट के मुताबिक इस मामले की शिकायत जब फादर लेंसी डी सूज़ा तक पहुंची तो उसने मारपीट की इस घटना को देखते हुए हैप्पी को प्राथमिक इलाज दिलाकर यह बात किसी को नहीं बताने की भी चेतवानी दी।

मामले को संभालने के लिए स्कूल प्रशासन ने हैप्पी को उसका आखिरी एग्जाम होते ही छुट्टियों के लिए उसकी माँ के पास घर भेज दिया। घर पहुँचे हैप्पी को तेज़ बुखार और सीने में दर्द की शिकायत हुई। इस पर जब घर वालों ने 29 सितम्बर को एक प्राइवेट डॉक्टर को दिखाया मगर उसके बावजूद कोई आराम मिलता नहीं दिखा तो हैप्पी को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिला अस्पताल की बजाय छात्र के परिजनों से उसे अगरतला के सरकारी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया। जाँच में सामने आया कि हैप्पी के श्वास प्रणाली यानी रेस्पिरेटरी सिस्टम में गंभीर चोटें आई हैं, जिसके चलते उसके फेफड़े और दिल दोनों की हालत बेहद नाज़ुक है।

अपने आखिरी क्षणों में हैप्पी ने खुद पर बीते ज़ुल्म की पूरी कहानी अपने घर वालों को सुनाई। उसने बताया कि कैसे स्कूल में पादरी और वार्डन के चलते उसे कितनी परेशानी और दिक्कत का सामना करना पड़ा। हैप्पी की माँ ने बाद में बताया कि अगर उसे वहाँ फिर भेजा जाता तो वह उन परिस्थितियों में जी भी नहीं पाता।

आईसीडीएस में काम करने वाली हैप्पी की माँ ने पुलिस को बताया, “धर्मान्तरण के लिए दबाव बनाए जाने से नाखुश रहने वाले बच्चों के संबंध में बात करते हुए हॉस्टल का वार्डन स्कूल के फादर से झूठ बोलता था। पिछले साल भी एक लड़की ने इसी मामले को लेकर आत्महत्या की थी।”

एक जाँच अधिकारी ने बताया- “हैप्पी की मौत प्राइवेट स्कूलों के चरित्र पर कई तरह के सवाल उठाती है ख़ास कर वह जो मिशनरी इंस्टीट्यूशनों द्वारा संचालित हैं। पिछले साल लाहरी देबबर्मा नाम की एक लड़की ने आत्महत्या कर ली थी जिसके बाद राज्य सरकार ने सीआईडी जाँच के भी आदेश दिए थे मगर कुछ भी सामने नहीं आया।”

राज्य के शिक्षा मंत्री रतन लाल नाथ ने कहा कि प्राइवेट स्कूलों के खिलाफ सिलसिलेवार शिकायतें आ रही हैं। सरकार एक ऐसी शिक्षा नीति तैयार कर रही है, जिससे इस तरह की घटनाओं पर रोकथाम की जा सके। रिपोर्ट्स के अनुसार त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लाब कुमार देब ने जबरन धर्मंतारण जैसी घटनाओं के मामलों के चलते इस मामले पर गंभीरता से संज्ञान लिया है। राज्य सरकार ने इस मामले में न्यायिक जाँच कराने का फैसला किया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एक ही सिक्के के 2 पहलू हैं कॉन्ग्रेस और कम्युनिस्ट’: PM मोदी ने तमिल के बाद मलयालम चैनल को दिया इंटरव्यू, उठाया केरल में...

"जनसंघ के जमाने से हम पूरे देश की सेवा करना चाहते हैं। देश के हर हिस्से की सेवा करना चाहते हैं। राजनीतिक फायदा देखकर काम करना हमारा सिद्धांत नहीं है।"

‘कॉन्ग्रेस का ध्यान भ्रष्टाचार पर’ : पीएम नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक में बोला जोरदार हमला, ‘टेक सिटी को टैंकर सिटी में बदल डाला’

पीएम मोदी ने कहा कि आपने मुझे सुरक्षा कवच दिया है, जिससे मैं सभी चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हूँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe