Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजअतीक अहमद का 'खौफ' ऐसा प्रयागराज छोड़ मुंबई में बस गईं सोनिया गाँधी की...

अतीक अहमद का ‘खौफ’ ऐसा प्रयागराज छोड़ मुंबई में बस गईं सोनिया गाँधी की रिश्तेदार, माफिया ने कब्जा ली थी जमीन; PMO तक को देना पड़ा था दखल

15 अप्रैल 2023 को अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की प्रयागराज में हत्या कर दी गई थी। हत्या लवलेश, अरुण और सनी नाम के 3 शूटरों ने की थी। इनके हमले के दौरान अतीक और अशरफ पुलिस कस्टडी में काल्विन अस्पताल में मेडिकल परीक्षण के लिए गए थे।

माफिया अतीक अहमद की हत्या के बाद कॉन्ग्रेस पार्टी के एक नेता ने उसके लिए ‘भारत रत्न’ की माँग की है। वहीं, एक पुराने वीडियो में अतीक कॉन्ग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी की शान में कसीदे पढ़ता दिख रहा है। हालाँकि, एक वक्त ऐसा भी था जब कॉन्ग्रेस की पूर्व अध्यक्षा सोनिया गाँधी की रिश्तेदार की ही प्रॉपर्टी पर अतीक ने कब्ज़ा कर लिया था। बाद में प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) को दखल देकर उसे मुक्त करवाना पड़ा था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रयागराज के सिविल लाइन्स के एमजी मार्ग पर मौजूद पैलेस टाकीज सोनिया गाँधी के रिश्तेदार वीरा गाँधी की है। वह सोनिया गााँधी की ससुर फिरोज गाँधी की बहनोई के भतीजे की पत्नी हैं। साल 2007 में जब अतीक अहमद फूलपुर से समाजवादी पार्टी का सांसद था, तब उसके गुर्गों ने पैलेस टाकीज के पीछे की जमीन कब्ज़ा कर ली थी।

अतीक ने सबसे पहले पैलेस टॉकीज की बगल वाली जमीन को खरीदा और उसके बाद अपने गुर्गों की मदद से बगल वाली वीरा गाँधी की जमीन पर भी कब्जा कर लिया। टाकीज की पीछे वाली जमीन पर कब्जा करके उसने वहाँ ताला लगवा दिया था। इसके चलते टाकीज को बंद करना पड़ा था।

उस समय वीरा गाँधी ने स्थानीय प्रशासन ने अपनी जमीन को खाली करने की तमाम दरख्वास्त की, लेकिन अतीक के रुतबे के आगे वो सब नाकाफी रहीं। तत्कालीन SP सिटी प्रयागराज लालजी शुक्ला के मुताबिक, यह अतीक अहमद का एक प्रयोग था, जिसके बाद वह टाकीज पर भी कब्ज़ा जमा लेता। उन्होंने कहा उस प्रयोग के सफल होने पर अतीक अहमद वीरा गाँधी की शहर में मौजूद अन्य तमाम जमीनों को भी हथिया लेता।

उस समय केंद्र में कॉन्ग्रेस पार्टी की सरकार थी। मामले की उच्चस्तरीय शिकायत होने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय का दखल हुआ था। इसके बाद अतीक अहमद ने इस मामले से अपने हाथ पीछे खींचे थे। हालाँकि, वीरा गाँधी और उनके परिवार ने इस मामले में FIR नहीं दर्ज करवाया था। बाद में वह प्रयागराज छोड़कर मुंबई में बस गईं।

गौरतलब है कि 15 अप्रैल 2023 को अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की प्रयागराज में हत्या कर दी गई थी। हत्या लवलेश, अरुण और सनी नाम के 3 शूटरों ने की थी। इनके हमले के दौरान अतीक और अशरफ पुलिस कस्टडी में काल्विन अस्पताल में मेडिकल परीक्षण के लिए गए थे। तीनों हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया गया है, जिसका 4 दिनों का रिमांड ले कर पूछताछ की जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -