Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजगंदी गालियों के साथ 'ओम' का उच्चारण, जानबूझकर हिंदू धर्म का अपमान: रॉक बैंड...

गंदी गालियों के साथ ‘ओम’ का उच्चारण, जानबूझकर हिंदू धर्म का अपमान: रॉक बैंड के 4 सदस्य गिरफ़्तार

"दास्तान लाइव रॉक बैंड ने सेरेंडिपिटी आर्ट्स फेस्टिवल 2019 के मंच का दुरुपयोग किया। उन्होंने एक ऐसे गाने का प्रदर्शन किया, जिसमें हिंदू धर्म का जानबूझकर अपमान किया गया।"

एक रॉक बैंड है, नाम है – दस्तान लाइव। इसके चार सदस्यों को पणजी पुलिस ने बुधवार (18 दिसंबर) को शहर में चल रहे सेरेंडिपिटी आर्ट्स फेस्टिवल में उनके प्रदर्शन के दौरान हिंदू धर्म का अपमान करने के आरोप में गिरफ़्तार कर लिया।

ख़बर के अनुसार, दिल्ली के सुप्रीम कोर्ट के वकील वेंकट कृष्ण कुंदरू की शिक़ायत पर बुधवार दोपहर 2 बजे बैंड के चारों सदस्यों को गिरफ़्तार किया गया, लेकिन फिर बाद में उन्हें ज़मानत पर रिहा कर दिया गया। गिरप़्तार किए गए बैंड के सदस्यों में सुमंत चंद्रशेखर बालाकृष्णन (34), दिल्ली के अनिर्बान घोष (37) बेंगलुरु से निर्मला रविंद्रन (45) और शिवा पाठक (40) शामिल थे।

कुंदरू ने कहा कि दास्तान लाइव समूह ने “सेरेंडिपिटी आर्ट्स फेस्टिवल 2019 के मंच का दुरुपयोग किया।” उन्होंने एक ऐसे गाने का प्रदर्शन किया, जिसमें हिंदू धर्म का “अपमान” किया गया। इस समूह ने मंगलवार (17 दिसंबर) को 8 से 10 बजे के बीच कैम्पल स्थित दयानंद बंदोदकर ग्राउंड में प्रदर्शन किया।

शिक़ायत में कहा गया है कि दास्तान लाइव रॉक बैंड के समूह ने अपमानजनक (गालियाँ) शब्दों के साथ “ओम” का उच्चारण किया। इसके अलावा, उन्होंने जानबूझकर हिंदू धर्म के लोगों की भावनाओं को आहत किया और सेरेंडिपिटी आर्ट्स फेस्टिवल 2019 के मंच का दुरुपयोग किया।

इस मामले पर पुलिस ने बताया कि प्रत्येक को 20,000 रुपए के बॉण्ड पर ज़मानत दी गई है। इसके साथ ही अब वे गोवा से बाहर जाने के लिए आज़ाद हैं। पुलिस ने कहा कि आगे की जाँच के लिए अगर ज़रूरत पड़ी तो इन चारों सदस्यों को पेश होना पड़ेगा। इस मामले की जाँच पुलिस निरीक्षक सुभाष गोदकर कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: समुदाय विशेष के किशोरों ने धर्मस्थल में घुस शिवलिंग को किया अपवित्र, 2 को लोगों ने दबोचा

सनातन हिन्दू धर्म को ईसाई या इस्लामी चश्मे से देखना अनुचित: नितिन श्रीधर की ऑपइंडिया से बात

हिन्दू धर्मांतरण क्यों नहीं करते? कलमा क्यों नहीं पढ़ लेते? क्योंकि वो काल को जीतने वाले राम के उपासक हैं

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,341FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe