Wednesday, September 22, 2021
Homeदेश-समाजगुजरात के 108 मंदिरों में लाउडस्पीकर से दिन में 2 बार हनुमान चालीसा, सोशल...

गुजरात के 108 मंदिरों में लाउडस्पीकर से दिन में 2 बार हनुमान चालीसा, सोशल मीडिया यूजर बोले- ‘पूरे भारत में ऐसा हो’

लाउडस्पीकर वितरण पर राम सेतु मिशन के अध्यक्ष दीप अग्रवाल ने बताया, "लाउडस्पीकर लगाने का इरादा इसलिए है, ताकि भक्त घर बैठे हनुमान चालीसा, आरती और अन्य भक्ति गीत सुनने का लाभ उठा सकें।

गुजरात में अब मंदिरों में लाउडस्पीकर लगाकर हनुमान चालीसा का पाठ किया जाएगा। प्रदेश के तीसरे सबसे बड़े शहर वडोदरा में 108 मंदिरों में हनुमान चालीसा और दिन में दो बार आरती करने के लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल किया जाएगा। देश गुजरात की एक रिपोर्ट के अनुसार, यह पहल जिले के एक स्थानीय संगठन ‘मिशन राम सेतु’ द्वारा शुरू की गई है।

शहर के कालाघोड़ा क्षेत्र के पंचमुखी हनुमान मंदिर में श्रावण मास के पहले सोमवार को लाउडस्पीकर वितरण का कार्यक्रम शुरू हुआ था। लाउडस्पीकर वितरण करने की पहल पर टिप्पणी करते हुए राम सेतु मिशन के अध्यक्ष दीप अग्रवाल ने बताया, “लाउडस्पीकर लगाने का इरादा इसलिए है, ताकि भक्त घर बैठे हनुमान चालीसा, आरती और अन्य भक्ति गीत सुनने का लाभ उठा सकें। दरअसल, कोरोना महामारी को देखते हुए सरकार के कई दिशा-निर्देशों और प्रतिबंधों के कारण लोगों से मंदिरों या भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचने के लिए कहा जा रहा है।”

इस कार्यक्रम में संगठन के पदाधिकारियों के अलावा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कुछ नेताओं ने भी भाग लिया, जिनमें शहर के अध्यक्ष डॉ विजय शाह, शहर के महासचिव सुनील और जसवंत सोलंकी भी शामिल थे।

दीपक अग्रवाल ने कहा, “78 मंदिरों ने लाउडस्पीकर प्राप्त करने के लिए हमारे पास अपना रजिस्ट्रेशन कराया था। अगले लॉट का वितरण बुधवार से शुरू हो गया है। इसके तहत छोटे मंदिरों में एक लाउडस्पीकर और बड़े मंदिरों को दो लाउडस्पीकर दिए जाएँगे।” इस खबर को विश्व हिंदू परिषद ने अपने फेसबुक प्रोफाइल पर साझा किया।

साभार: सोशल मीडिया

रिपोर्ट के मुताबिक, संगठन ने पिछले साल भी कुछ मंदिरों में श्रावण के महीने में लाउडस्पीकर दिए थे।

इस खबर के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोग इसका समर्थन कर रहे हैं और माँग कर रहे हैं कि ऐसा देश के हर शहर में होना चाहिए। ‘मेघ अपडेट्स’ नाम के सोशल मीडिया यूजर की पोस्ट पर रिप्लाई करते हुए अभिजीत ने कहा, “ऐसा ही पूरे भारत में करने की आवश्यकता है।”

एक अन्य यूजर आकर्ष वर्मा ने कहा कि जल्द ही उत्तर प्रदेश में भी ऐसा ही होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत की जाँच के लिए SIT गठित: CM योगी ने कहा – ‘जिस पर संदेह, उस पर सख्ती’

महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में गठित SIT में डेप्यूटी एसपी अजीत सिंह चौहान के साथ इंस्पेक्टर महेश को भी रखा गया है।

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,645FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe