AMU में कक्षाएँ बंद, उपद्रव की आशंका से इंटरनेट बंद: देश के कई शहरों में हाई अलर्ट

अयोध्या मामले में फैसले के मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को सतर्क रहने की हिदायत दी है। अयोध्या नगरी को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। धारा 144 लागू है। साथ ही सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

अयोध्या विवाद में आज (9 नवंबर 2019) सुबह 10:30 बजे सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली संविधान पीठ ने 16 अक्टूबर को सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया था। पाँच सदस्यीय पीठ ने छह अगस्त से लगातार 40 दिन इस मामले की सुनवाई की थी। पीठ में मुख्य न्यायाधीश के अलावा जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एसए नजीर शामिल हैं।

फैसले को देखते हुए न सिर्फ उत्तर प्रदेश बल्कि देश के कई हिस्सों में सुरक्षा के भारी इंतजाम किए गए हैं। अलीगढ़ जिला प्रशासन ने जिले भर में 8 नवंबर की रात 12 से 9 नवंबर की रात 12 बजे तक मोबाइल इंटरनेट सेवाएँ बंद रखने का आदेश दिया है। अलीगढ़ डीएम ने जिले में शुक्रवार रात 12 बजे से इंटरनेट सेवाएँ बंद करने का निर्देश दिया है। इसके अलावा अलीगढ़ स्थित अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में भी सभी कक्षाएँ रद्द कर गई है। यूनिवर्सिटी से जुड़े स्कूल 11 नवंबर तक बंद कर दिए गए हैं।

अलीगढ़ प्रशासन द्वारा जारी किया गया आदेश

इधर, सुरक्षा के मद्देनजर पूरी अयोध्या नगरी को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। अयोध्या मामले के फैसले के मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को सतर्क रहने की हिदायत दी है। अयोध्या में धारा 144 लागू है। साथ ही सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। अयोध्या में अर्धसैनिक बलों के 4000 जवानों को तैनात किया गया है। अयोध्या के सभी प्रमुख मार्गों पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई। शहर के भीतर चार पहिया वाहनों की आवाजाही को प्रतिबंधित किया गया। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि आने वाले फैसले को जीत-हार के साथ जोड़कर न देखा जाए। अयोध्या की ओर जाने वाली बसों व अन्य बड़े वाहनों को भी रोक दिया गया है। ऐहतियात के तौर पर शनिवार को जिले के सभी स्कूल, कॉलेज, इंस्टीट्यूट और कोचिंग सेंटर बंद कर दिए गए हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

राम मंदिर पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले शुक्रवार (नवंबर 8, 2019) रात ही यूपी हाई अलर्ट मोड पर आ गया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देर रात वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक कर शांति-व्यवस्था को बनाए रखने के कड़े निर्देश दिए हैं। कहीं भी भीड़ इकट्ठा न हो इसके लिए पूरे प्रदेश में धारा 144 के लागू कर दिया गया। यूपी पुलिस सेना व एयर फोर्स के वरिष्ठ अधिकारियों के भी संपर्क में है। सरकार ने सभी डीएम को परिस्थितियों के अनुरूप अपने-अपने जिले में आवश्यक कड़े कदम उठाने के निर्देश भी दिए हैं। उत्तरप्रदेश में 9 नवंबर से 11 नवंबर तक स्कूलों का अवकाश घोषित किया गया है।

राज्य के पुलिस महानिदेकश ओ पी सिंह के अनुसार प्रदेश में पहले से ही सुरक्षा के इंतजाम कर रखे हैं और अयोध्या निर्णय को ध्यान में रखते हुए सभी जिलों में हाई अलर्ट है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारी प्रदेश में हर गतिविधियों पर नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने बताया सोशल मीडिया पर माहौल बिगाड़ने का प्रयास करने वालों के खिलाफ पहले ही कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गये हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में सुरक्षा व्यवस्था के लिए सुरक्षा बलों की 150 कंपनियों को तैनात किया गया है।

अयोध्या मामले में फैसला आने की सूचना के बाद राजस्थान, झारखंड और छत्तीसगढ़ में संवदेनशील जगहों पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। कानून व्यवस्था को चाक-चौबंद बनाए रखने के लिए हर मुमकिन कोशिश की गई है। राजस्थान में भी शनिवार को सभी स्कूलों को बंद रखा गया है। भरतपुर में इंटरनेट मोबाइल सेवा पर पाबंदी लगा दी गई है।

कर्नाटक और जम्मू-कश्मीर में भी एहतियात के तौर पर धारा 144 लागू की गई है। सभी स्कूल और कॉलेजों में आज के दिन का अवकाश घोषित किया गया है। महाराष्ट्र के सभी जिलों में अलर्ट घोषित किया गया है और धारा 144 लागू है। वहीं मध्य प्रदेश में भी शनिवार को प्रदेश के सभी स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे। शराब की दुकानें भी बंद रहेंगी। प्रदेश के सभी जिलों में धारा 144 लागू रहेगी।

जम्मू के क्षेत्रीय आयुक्त संजीव वर्मा ने कहा, “जम्मू-कश्मीर में आधी रात से धारा 144 के तहत अगले आदेश तक निषेधाज्ञा लागू कर दी गयी है।” उन्होंने बताया कि सभी स्कूल और कॉलेज (निजी और सरकारी) एहतियातन शनिवार बंद रहेंगे तथा एक स्थान पर पाँच से अधिक व्यक्तियों को इकट्ठा होने की इजाजत नहीं होगी।

वहीं दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने एक ट्वीट कर कहा है कि अयोध्या पर आने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर सुरक्षा-व्यवस्था का मुद्दा अहम है। उन्होंने कहा कि महीने का दूसरा शनिवार होने के कारण सभी सरकारी स्कूल और कुछ प्राइवेट स्कूल बंद हैं। हरियाणा सरकार ने भी अयोध्या मामले में आने वाले फैसले को लेकर हाई अलर्ट जारी किया है। हर संवेदनशील इलाके में भारी पुलिस बल तैनात रहेगा। डीजीपी मनोज यादव ने बताया कि पूरे प्रदेश में संवेदनशील क्षेत्रों में भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। किसी भी स्थान पर स्थिति बिगड़ने नहीं दी जाएगी।

साथ ही बिहार और झारखंड में भी हाई अलर्ट है। पटना में पुलिस अलर्ट हो गई है। सड़क से लेकर सोशल मीडिया पर निगरानी रखी जा रही है। शुक्रवार की रात से पुलिस बल की मुस्तैदी कर दी गई है। वहीं राँची में पुलिस मुख्यालय ने सभी एसपी को यह निर्देश दिया है कि संवेदनशील क्षेत्रों में सीसीटीवी कैमरे व वीडियोग्राफी की व्यवस्था रखें। उपद्रव करने वालों की वीडियोग्राफी होगी, ताकि उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सके। वहीं उपद्रवियों के विरुद्ध सख्ती बरती जाएगी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"हिन्दू धर्मशास्त्र कौन पढ़ाएगा? उस धर्म का व्यक्ति जो बुतपरस्ती कहकर मूर्ति और मन्दिर के प्रति उपहासात्मक दृष्टि रखता हो और वो ये सिखाएगा कि पूजन का विधान क्या होगा? क्या जिस धर्म के हर गणना का आधार चन्द्रमा हो वो सूर्य सिद्धान्त पढ़ाएगा?"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

115,259फैंसलाइक करें
23,607फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: