Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजआँगनबाड़ी में रोज पढ़ने जाती है IAS की बेटी, राज्यपाल ने की सराहना

आँगनबाड़ी में रोज पढ़ने जाती है IAS की बेटी, राज्यपाल ने की सराहना

जिला मजिस्ट्रेट पंकज जैन का कहना है कि उनकी बेटी जिस आँगनबाड़ी में पढ़ने जाती है, उस केंद्र के अलावा वहाँ के चार-पाँच केंद्र किसी प्ले स्कूल से कम नहीं हैं।

हम अक्सर देखते हैं कि कोई भी व्यक्ति अपने बच्चे को बढ़िया से बढ़िया शिक्षा दिलवाने के लिए उसे प्राइवेट स्कूलों में भेजना उचित समझता है। ऐसा इसलिए क्योंकि हम मान चुके हैं कि हमारे समाज में सरकार द्वारा संचालित शिक्षा व्यवस्था चरमराई हालत में है। हम हाई क्लास लोगों के बच्चों को फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते देखते हैं तो मान लेते हैं कि सरकारी स्कूल उनके बच्चे में ये गुण विकसित नहीं कर पाएँगे।

ऐसी सोच के साथ जब हम चाहकर भी अपने बच्चे का एडमिशन प्राइवेट स्कूल में नहीं करवा पाते, तो खुद को कोसते हैं। ऐसे लोगों के लिए मध्य प्रदेश के डिस्ट्रिक्ट अधिकारी और डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट पंकज जैन एक उदाहरण होने चाहिए, जिन्होंने सरकार की शिक्षा व्यवस्था पर यकीन जताया और अपनी बेटी का दाखिला किसी बड़े नर्सरी स्कूल की जगह आँगनबाड़ी में करवाया है।

मध्य प्रदेश के कटनी डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट पंकज जैन की बेटी का नाम पंखुड़ी है। वो हर रोज आंगनबाड़ी केंद्र में पढ़ने जाती हैं। जिसका श्रेय आईएएस अधिकारी पंकज जैन की सकारात्मक सोच को जाता है। वो चाहते तो अन्य अधिकारियों की तरह पंखुड़ी को भी किसी बड़े स्कूल में भेज सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

जिला मजिस्ट्रेट पंकज जैन का कहना है कि उनकी बेटी जिस आँगनबाड़ी में पढ़ने जाती है, उस केंद्र के अलावा वहाँ के चार-पाँच केंद्र किसी प्ले स्कूल से कम नहीं हैं। उनका कहना है कि जब कोई जिम्मेदार अधिकारी अपने बच्चों को ऐसे केंद्रों में भेजता है तो हालात अपने आप सुधरने लगते हैं। कोई कमी होने पर लोग इस पर खुद नज़र रख पाते हैं और सुधार लाने के लिए टोकते भी हैं।

पंकज जैन के इस कदम की जानकारी जब मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन को हुई तो उन्होंने आईएएस अधिकारी पंकज जैन को बधाई दी। राज्यपाल आनंदी बेन ने अपनी खुशी को जाहिर किया और उन्हें एक लेटर भी भेजा। इस पत्र में उन्होंने लिखा, “लोक सेवक समाज में प्रेरणा के केंद्र होते हैं, उनके आचरण का समाज पालन करता है। कर्तव्यों के प्रति आपकी सहजता ने मुझे काफी ज्यादा प्रभावित किया है, आपके इस प्रयास से शासकीय सेवकों का दायित्व बोध बढ़ेगा।”

पत्र में राज्यपाल ने आगे लिखा कि पंकज के इस कदम से सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के प्रभावी संचालन के प्रति सकारात्मक चेतना का संचार होगा। राज्यपाल ने मजिस्ट्रेट पंकज को शुभकामनाएँ दी और कहा कि आशा है वो लोकसेवा के रूप में इसी निष्ठा और समर्पण के साथ जनसेवा में लगे रहेंगे।

मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन का ये पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और हर जगह पंकज जैन के इस कदम को सराहना मिल रही है और उनकी तारीफ़ हो रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe