Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजरेप पीड़िता को कॉल- दिल्ली से आया हूँ, राहुल गाँधी ने भेजा है, मामला...

रेप पीड़िता को कॉल- दिल्ली से आया हूँ, राहुल गाँधी ने भेजा है, मामला सुलझाना है: रिपोर्ट में दावा, कॉन्ग्रेस MLA का बेटा है आरोपित

रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता ने पूछा कि क्या उसे कमलनाथ (पूर्व मुख्यमंत्री व कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता) ने भेजा है, जिस पर युवक कहता है कि कमलनाथ से ऊपर भी कई लोग हैं। उन्होंने ही उसको इंदौर में पूरा मामला सुलझाने को भेजा है, वरना उसका इंदौर में कोई काम नहीं था।

कुछ महीने पहले मध्य प्रदेश के इंदौर में युवा कॉन्ग्रेस की एक पदाधिकारी ने अपनी ही पार्टी के विधायक मुरली मोरवाल के बेटे करण पर रेप का आरोप लगाया था। आरोपित फरार है और उसकी सूचना देने पर पुनिस ने इनाम भी घोषित कर रखा है। लेकिन इसी बीच इस मामले में एक ऑडियो वायरल हुआ है। दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार ऑडियो में पीड़िता से कोई शख्स मामले को सुलझाने की बात कर रहा है।

रिपोर्ट के अनुसार कॉल करने वाला खुद को राहुल गाँधी के ऑफिस से जुड़ा बता रहा है। उसका दावा है कि वह इस मामले को सुलझाने के लिए दिल्ली से भेजा गया है। पीड़िता से यह भी कह रहा है कि कमलनाथ के हिसाब से दुनिया नहीं चलती। उनके ऊपर भी लोग हैं। कमलनाथ मध्य प्रदेश की पूर्ववर्ती कॉन्ग्रेस सरकार के मुखिया थे और हाल में बड़ी जोर-शोर से चर्चा चली थी कि उन्हें कॉन्ग्रेस की कमान भी सौंपी जा सकती है।

दैनिक भास्कर की खबर का स्क्रीनशॉट

रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता ने पूछा कि क्या उसे कमलनाथ (पूर्व मुख्यमंत्री व कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता) ने भेजा है, जिस पर युवक कहता है कि कमलनाथ से ऊपर भी कई लोग हैं। उन्होंने ही उसको इंदौर में पूरा मामला सुलझाने को भेजा है, वरना उसका इंदौर में कोई काम नहीं था। युवक इस बातचीत में पीड़िता को राजनीति में आगे बढ़ाने का लालच देकर कहता है कि वह उसे आगे बढ़ा सकता है।

दैनिक भास्कर में प्रकाशित संबंधित रिपोर्ट के मुताबिक युवक और पीड़िता के बीच हुई बातचीच इस प्रकार है:

युवक – मैं इंदौर आ गया हूँ, आपकी इच्छा हो तो आकर मिल लीजिए।
पीड़िता – क्या बात करूँ मैं आपसे, आप बताओ न।
युवक – देखो मैडम, आपके लिए ही स्पेशल आया हूँ, मुझे कोई काम नहीं था, इंदौर में। आपकी इच्छा हो तो मिल लो, नहीं मिलना तो मना कर दो। मैं आगे बोल दूँगा कि आपने मिलने से मना कर दिया।
पीड़िता – नहीं, मैं तो कोई समझौता चाहती नहीं हूँ, मैं लड़ना चाहती हूँ।
युवक – समझौता तो करना ही नहीं है अपने को, मैं आपके फायदे की बात बता रहा हूँ मैम।
पीड़िता – आपने बोला तो सही कि कमलनाथ जी चाहते हैं।
युवक – अरे मैडम सुनो, कमलनाथ जी के चाहने से कुछ नहीं होता। दुनिया उनके हिसाब से नहीं चलती है। कमलनाथ जी के ऊपर भी कई लोग होते हैं। मैं दिल्ली से आया हूँ मैम।
पीड़िता – आप सच्चाई बताओ, किसने बोला फिर मैं आपसे मिलती हूँ।
युवक – मेरे को राहुल गाँधी जी के ऑफिस से मैसेज आया था कि कोई इश्यू क्रिएट हुआ है। बड़ा मैटर है। विधायक के बेटे ने आपके साथ कुछ किया है। कुल मिलाकर जाकर देखो सच्चाई क्या है झूठ क्या है।
पीड़िता – दिल्ली से भी किसने भेजा है, राहुल जी ने या किसने? कुछ तो बताओ, मेरा डर खत्म हो जाएगा, तब मिलूँगी।
युवक – मुझे पीवी राजू ने भेजा है जो राहुल गाँधी के ऑफिस में हैं। उनसे मेरी चर्चा हुई थी कि राहुल गाँधी की इच्छा है। आपको ग्रोथ चाहिए, राजनीति करनी है ना?
पीड़िता – अरे राजनीति करनी है तो अपनी इज्जत दाँव पर लगाकर थोड़ी राजनीति करनी है।
युवक – मैं आपको आगे बढ़ा सकता हूँ। मुझे आपसे सवाल नहीं करना है। मैं सच्चाई जानने आया हूँ कि प्रॉब्लम क्या है। विधायक जी का लड़का गलत है तो सजा मिलनी चाहिए।

उल्लेखनीय है कि 3 महीने पहले पीड़िता ने पुलिस को अपनी शिकायत में कहा था कि करण मोरवाल उसे कुछ महीनों पहले भंवरकुआँ थाना क्षेत्र में एक होटल में लेकर गया था और उसके बाद उसका कई बार रेप हुआ। मोरवाल ने उसको किसी को कुछ बताने पर जान से मारने की धमकी दी थी।

केस इंचार्ज ज्योति शर्मा बताती हैं कि युवती कैंट रोड पर पिछले साल दिसंबर में करण के संपर्क में आई थी। इसी दौरान दोनों की दोस्ती हुई। धीरे-धीरे दोनों में बातें होने लगीं। युवती ने बताया है कि कई बार करण मोरवाल उससे मिलने इंदौर भी आया। इसके बाद इंदौर बायपास स्थित होटल में उसे प्रपोज किया और शादी करने का झाँसा देकर उसे नशीला पदार्थ पिलाकर दुष्कर्म किया।

इस संबंध में तीन महीने पहले शिकायत होने के बाद से पुलिस करण की तलाश कर रही है। इस बीच करण की ओर से कोर्ट में अग्रिम जमानत के लिए याचिका भी डाली गई थी, लेकिन 12 जुलाई को यह खारिज कर दी गई। आरोपित का कहना था कि घटना वाले दिन वह अस्पताल में भर्ती था, हालाँकि पीड़िता की ओर से पेश किए गए उन साक्ष्यों ने इस दावे को खारिज कर दिया, जिसमें उसकी रिकॉर्डिंग और वॉट्सऐप चैंटिग मौजूद थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe