Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजजयपुर से लापता पीयूष सिंह निजामुद्दीन के मरकज में मिला: आधार नंबर वही, लेकिन...

जयपुर से लापता पीयूष सिंह निजामुद्दीन के मरकज में मिला: आधार नंबर वही, लेकिन नाम हो गया मोहम्मद अली, पता मेरठ का

जाँच में पता चला है कि पीयूष सिंह का आधार नंबर वही है, जो तबलीगी जमात के सदस्यों की सूची में मोहम्मद अली का है। इस सूची में अली का पता मेरठ दिखा रहा है। 19 अप्रैल को अली उर्फ पीयूष को क्वारंटाइन में रहने की सलाह दी गई थी।

जयपुर का रहने वाला पीयूष सिंह (Piyush Singh) बीते 20 मार्च को लापता हो गया था। हाल ही में वह​ दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज (Nizamuddin Markaz) में मिला। चौंकाने वाली बात यह है कि यहाँ तबलीगी जमात की लिस्ट में उसका नाम पीयूष सिंह नहीं, बल्कि मोहम्मद अली (Mohammad Ali) पाया गया है।

पीयूष के पिता का कहना है कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी ही नहीं है कि आखिर उसका मरकज पहुँचने के पीछे क्या कारण हो सकता है या फिर वो किन लोगों से मिल रहा था।

कुछ दिनों से घर पर नमाज पढने लगा था पीयूष

पीयूष के पिता ने कहा कि पिछले कुछ महीनों से उनका बेटा घर पर नमाज पढ़ रहा था और इस्लाम की बातें किया करता था। पिता ने यह भी बताया था कि उनका बेटा किसी से बात नहीं कर रहा था, उसका व्यवहार अजीबोगरीब था और अपने में ही खोया रहता था।

रिपोर्ट्स के अनुसार, अधिकारियों ने बताया कि उसके लापता होने के 7 दिन बाद 27 मार्च को पिता अनूप सिंह ने जयपुर के सदर थाना में शिकायत दर्ज कराई थी। सदर थाना एसएचओ राजेंद्र सिंह शेखावत ने इस बात की पुष्टि की है। जयपुर पुलिस की एक टीम पीयूष को बुधवार (मई 20, 2020) को मरकज से वापस लेकर आई।

एक ही है ‘पीयूष’ और ‘अली’ का आधार नम्बर

जाँच में पता चला है कि पीयूष का आधार नंबर वही है, जो तबलीगी जमात के सदस्यों की सूची में मोहम्मद अली का है। इस सूची में अली का पता मेरठ दिखा रहा है। 19 अप्रैल को अली उर्फ पीयूष को क्वारंटाइन में रहने की सलाह दी गई थी।

वह दिल्ली के सुल्तानपुरी पुलिस स्टेशन में था। अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है कि उसके कोरोना जाँच के नमूने तीन बार लिए गए थे और हर बार नकारात्मक नतीजे ही आए।

पुलिस का एक दल दिल्ली गया और बुधवार (मई 20, 2020) को उसे वापस जयपुर ले आया। एसएसओ शेखावत ने बताया कि अली उर्फ़ पीयूष वह वापस नहीं आना चाह रहा था और वहीं रहना चाहता था।

नाम मोहम्मद अली रखने के बारे में एसएचओ ने बताया, “उसने शायद खुद ही इस नाम से अपना पंजीकरण कराया होगा। अगर वह यह चाहता कि उसे रॉबिनहुड के नाम से जाना जाए, तो अधिकारी उसका नाम रॉबिनहुड ही लिखते। वह स्वेच्छा से वहाँ रह रहा था।”

रिपोर्ट्स के अनुसार, पीयूष उर्फ़ मोहम्मद अली के पिता का इस बारे में कुछ और ही कहना है। पीयूष के पिता ने कहा कि उन्हें महज 10 दिन पहले ही इस बात की सूचना मिली कि उनका बेटा मरकज में है।

युवक के पिता ने कहा कि पुलिस के प्रयास द्वारा उसे वापस लाया जा सका। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि दिल्ली मरकज से लौटने के बाद उनके बेटे पीयूष की मानसिक स्थिति अस्थिर है और वह अपने आप में खोया हुआ रहता है, ना ही किसी से बात करता है।

पीयूष उर्फ़ मोहम्मद अली के पिता का कहना है कि उनके बेटे ने बीसीए की पढ़ाई की है और MCA के लिए तैयारी कर रहा है। कुछ समय बाद जब हालात सामान्य होंगे तब वो उससे पूछेंगे कि वो आखिर मरकज पहुँचा कैसे?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

22 साल की TikTok स्टार पूजा चव्हाण, सुसाइड से पहले मंत्री रहे शिवसेना नेता से हुई थी खूब बात: रिपोर्ट

आत्महत्या से पहले जिस व्यक्ति से पूजा चव्हाण की काफी बार बात हुई थी, कथित तौर पर वो महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री व शिवसेना नेता संजय राठौड़ हैं।

चक दे इंडिया: ओलंपिक के 60 मिनट और भारतीय महिला हॉकी टीम ने रचा इतिहास

यह पहली बार हुआ है कि भारतीय महिला हॉकी टीम ने सबको हैरान करते हुए इस तरह जीत हासिल की। 1980 के मॉस्को ओलंपिक में टीम को चौथा स्थान मिला था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,557FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe